लाइव टीवी

ब्रिटेन : भारतीय मूल के डॉक्‍टर की मुहिम का असर, सरकार ने किया दिशा-निर्देशों में बदलाव

News18Hindi
Updated: April 4, 2020, 8:27 AM IST
ब्रिटेन : भारतीय मूल के डॉक्‍टर की मुहिम का असर, सरकार ने किया दिशा-निर्देशों में बदलाव
ब्रिटेन में डॉ. जोशी के चलाए गए अभियान की वजह से सरकार को अपने दिशा-निर्देशों में बदलाव करना पड़ा है.

डॉ. जोशी ने मांग की थी कि चिकित्‍सा के लिए स्‍पष्‍ट दिशा-निर्देशों के तहत स्‍वास्‍‍‍‍थ्‍य कर्मियों को बेहतर सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए जाएं.

  • Share this:
लंदन. कोरोना वायरस (Corona virus) के मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए भारतीय मूल के डॉ. निशांत जोशी के चलाए गए अभियान के मद्देनजर ब्रिटिश सरकार को पहले के जारी निर्देशों में बदलाव करना पड़ा है. डॉ. जोशी इस समय ब्रिटेन के अस्पतालों में कोविड-19 (COVID-19) का इलाज कर रहे हैं और वह बीते कुछ समय से मेडिकल प्रोफेशनल्स को बेहतर व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) मुहैया कराने के लिए अभियान चला रहे हैं.

उन्होंने ब्रिटिश सरकार के द्वारा अपडेट की गई गाइडलाइन का स्वागत किया है, जिसमें सर्जिकल मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है. गौरतलब है कि पिछले कई सप्‍ताह से 31 वर्षीय डॉ. जोशी सोशल मीडिया के जरिये राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के अंतर्गत कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज कर रहे मेडिकल प्रोफेशनल्स को आ रही पीपीई की कमी का मुद्दा उठा रहे हैं. भारतीय मूल के डॉ. निशांत जोशी मौजूदा समय में ब्रिटेन के अस्‍पतालों में कोविड-19 का इलाज कर रहे हैं. उनके चलाए अभियान की वजह से सरकार को अपने दिशा-निर्देशों में बदलाव करना पड़ा है. वह एनएचएस अस्‍पताल की इमरजेंसी सेवा में कार्यरत हैं.

डाॅॅ. जोशी बोले, 'हम पीपीई की अपनी लड़ाई जीत चुके हैं'
उन्‍होंने इन उपकरणों को उपलब्‍ध कराने का अभियान सोशल मीडिया पर भी चला रखा है. उन्‍होंने मांग की थी कि चिकित्‍सा के लिए स्‍पष्‍ट दिशा-निर्देशों के तहत स्‍वास्‍‍‍‍थ्‍य कर्मियों को बेहतर सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए जाएं. वहीं उन्‍होंने सवाल उठाया है कि सरकार ने पहले से ही ऐसे नियम क्‍यों नहीं बनाए. वहीं दक्षिण पूर्व इंग्‍लैंड के बेडफोर्डशायर में डॉ. जोशी ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि आपने ध्‍यान दिया होगा कि यह बड़ी जीत है. हम पीपीई की अपनी लड़ाई जीत चुके हैं.



गौरतलब है कि ब्रिटेन की सरकार ने भी उठाए गए मुद्दों को लेकर अपने दिशा-निर्देशों में बदलाव करते हुए अपने रुख में तब्‍दीली की है. इसके तहत अब सभी अस्‍पतालों में सजिैकल मास्‍क होंगे और मरीजों के संपर्क में आने पर और उनके इलाज के दौरान एफएफपी-2 मास्‍क का इस्‍तेमाल किया जा सकेगा.



ये भी पढ़ें - ब्रिटेन की महारानी जनता से करेंगी कोरोना पर बात,रविवार को होगा प्रसारण

                लंदन में प्रिंस चार्ल्स ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए नया अस्‍पताल खोला

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ब्रिटेन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 4, 2020, 8:25 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading