जो बाइडन ने बोरिस जॉनसन को तोहफे में दी बाइक, रिटर्न गिफ्ट में मिली खास फोटो

राष्ट्रपति जो बाइडन रविवार को विंडसर कैसल में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात करने पहुंचेंगे. (फोटो- AP)

राष्ट्रपति जो बाइडन रविवार को विंडसर कैसल में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात करने पहुंचेंगे. (फोटो- AP)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) रविवार को विंडसर कैसल में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात करने पहुंचेंगे. यहां उनका स्वागत सेना की सलामी गारद के साथ किया जाएगा और शाम की चाय वह महारानी के साथ पीएंगे.

  • Share this:

लंदन. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) इन दिनों अपने कार्यकाल की पहली विदेश यात्रा पर हैं. वो फिलहाल जी-7 नेताओं के समूह के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रिटेन में हैं. गुरुवार को उन्होंने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) से मुलाकात की. इस दौरान दोनों नेताओं ने एक दूसरे को गिफ्ट दिए. ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति को फ्रेडरिक डगलस के एक फ्रेम में लगी तस्वीर दी. बता दें कि फ्रेडरिक अमेरिकी समाज सुधारक, वक्ता, लेखक और राजनेता थे. उन्होंने अश्वेत से भेदभाव के खिलाफ आवाजें उठाई थी.

उधर अमेरिकी राष्ट्रपति ने बोरिस जॉनसन को गिफ्ट में अमेरिका में बनी एक खास बाइक और हेलमेट दी. जबकि उनकी पत्नी को रेशमी दुपट्टा और लेदर का बैग दिया. बता दें कि फ्रेडरिक डगलस की फोटो देने के कई मायने निकाले जा रहे हैं. दरअसल पिछले साल अमेरिका में अश्वेत लोगों ने भेदभाव के चलते जमकर विरोध प्रदर्शन किया था.

ये भी पढ़ें:- बारामुला जिले के कई घरों में लगी भीषण आग, काफी लोगों के फंसे होने की आशंका

राष्ट्रपति जो बाइडन रविवार को विंडसर कैसल में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात करने पहुंचेंगे. यहां उनका स्वागत सेना की सलामी गारद के साथ किया जाएगा और शाम की चाय वह महारानी के साथ पीएंगे. महारानी रविवार को राष्ट्रपति बाइडन और प्रथम अमेरिकी महिला जिल बाइडन की मेजबानी करेंगी. इससे पहले बाइडन दंपती दक्षिण पश्चिम इंग्लैंड के कॉर्नवॉल में जी7 समूह के शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. महारानी महल के प्रांगण में बाइडन दंपती का स्वागत करेंगी जहां महारानी की कंपनी फर्स्ट बटालियन ग्रेनेडियर गार्ड के जवान शाही सलामी देंगे और अमेरिकी राष्ट्रगान बजाया जाएगा.


बाइडन ने अपनी आठ-दिवसीय यात्रा के लिए व्यापक रूप से एजेंडा तय किया है. उनका मानना है कि पश्चिमी देशों को सार्वजनिक रूप से यह स्पष्ट करना चाहिए कि वे ऐसे में चीन के साथ आर्थिक रूप से प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं जब विश्व कोरोना वायरस महामारी से उभर रहा है. बुधवार को एयर फ़ोर्स वन में सवार होने से पहले बाइडन ने संवाददाताओं से कहा कि यह यात्रा चीन और रूस के नेताओं को यह स्पष्ट करने के लिए है कि अमेरिका और यूरोप ‘एकजुट’ हैं. जी-7 नेताओं के समूह के शिखर सम्मेलन के बाद वो नाटो शिखर सम्मेलन और यूरोपीय संघ के प्रमुखों के साथ बैठक के लिए ब्रसेल्स जाएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज