लाइव टीवी
Elec-widget

ब्रिटेन की लेबर पार्टी को चुनावों में सताया कश्मीर पर 'बैक फायर' का डर, अब कही ये बात

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 11:47 AM IST
ब्रिटेन की लेबर पार्टी को चुनावों में सताया कश्मीर पर 'बैक फायर' का डर, अब कही ये बात
कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से भारतीय सुरक्षाबल चप्पे-चप्पे पर नजर जमाए हुए हैं. (फाइल फोटो)

भारतीय समुदाय (Indian community) द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर ब्रिटेन (Britain) की लेबर पार्टी (Labor Party) ने अपील की है कि 12 दिसंबर के आम चुनाव से पहले ब्रिटेन के समुदायों को कश्मीर (Kashmir) मुद्दे पर नहीं बंटना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 11:47 AM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन (Britain) की विपक्षी लेबर पार्टी (Labor Party) को चुनाव (election) से पहले कश्मीर (Kashmir) पर बैक फायर का डर सताने लगा है. भारतीय समुदाय (Indian community) द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर पार्टी ने अपील की है कि 12 दिसंबर के आम चुनाव से पहले ब्रिटेन के समुदायों को कश्मीर मुद्दे पर नहीं बंटना चाहिए.

लेबर पार्टी के अध्यक्ष ईयान लैवरी ने एक पत्र में जोर दिया कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मुद्दा है और पार्टी इस मुद्दे पर बाहरी हस्तक्षेप का विरोध करती है. गौरतलब है कि सितंबर में पार्टी के सम्मेलन के दौरान उसके द्वारा पारित विवादित आपात प्रस्ताव में कश्मीर के संबंध में इस्तेमाल कुछ शब्दों को लेकर भारतीय समुदाय में गुस्सा है.

लैवरी की ओर से 11 नवंबर को जारी एक पत्र में कहा गया कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के लिए द्विपक्षीय मुद्दा है जो उन्हें कश्मीरी लोगों के मानवाधिकारों की रक्षा करते हुए शांतिपूर्ण समाधान के जरिए सुलझाना चाहिए. इस पत्र में कहा गया, लेबर पार्टी किसी अन्य देश के राजनीतिक मामलों में बाहरी हस्तक्षेप का विरोध करती है. एक अंतरराष्ट्रीय दल के तौर पर हमारी सोच दुनिया के सभी लोगों के मानवाधिकारों के लिए सम्मान सुनिश्चित करना है चाहे वे कहीं भी रहते हों. कश्मीर में स्थिति को लेकर संवेदनशीलताओं को स्वीकार करते हुए लेबर प्रत्याशी ने कहा कि उनकी पार्टी भारतीय समुदाय को अत्यधिक महत्व देती है.

इसे भी पढ़ें :- कैंब्रिज यूनिवर्सिटी ने भारतीय शोधार्थी को स्थायी निवास देने से किया मना

पत्र में कहा गया कि हम मानते हैं कि आपात प्रस्ताव में इस्तेमाल की गई भाषा से भारतीय आप्रवासियों के कुछ धड़ों और भारत को भी आपत्ति हुई है. हम इस बात पर अडिग हैं कि कश्मीर मुद्दे पर वास्तविक एवं दिल से महसूस किए जाने वाले मतभेद यहां ब्रिटेन में समुदायों को एक-दूसरे से अलग करने की वजह नहीं बनने चाहिए. लेबर पार्टी कश्मीर पर भारत या पाकिस्तान विरोधी रुख नहीं अपनाएगी.

इसे भी पढ़ें :- इलाज के लिए ब्रिटेन नहीं जा पा रहे नवाज शरीफ, सेहत पर बढ़ रहा खतरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 11:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...