होम /न्यूज /दुनिया /पाई-पाई को तरस रहा भगोड़ा नीरव मोदी, जुर्माना भरने तक के नहीं हैं पैसे, जेल में कर्ज लेकर चला रहा खर्च

पाई-पाई को तरस रहा भगोड़ा नीरव मोदी, जुर्माना भरने तक के नहीं हैं पैसे, जेल में कर्ज लेकर चला रहा खर्च

भगोड़े पूर्व अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी को 150,247 पाउंड (करीब 1.47 करोड़ रुपये) का जुर्माना चुकाने के लिए पैसे उधार लेना पड़ रहा है. (News18 Creative)

भगोड़े पूर्व अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी को 150,247 पाउंड (करीब 1.47 करोड़ रुपये) का जुर्माना चुकाने के लिए पैसे उधार लेना पड़ रहा है. (News18 Creative)

Nirav Modi Extradition Case: अदालत ने इस साल 9 जनवरी को आदेश दिया था कि नीरव मोदी को 28 दिनों के भीतर अपने प्रत्यर्पण अ ...अधिक पढ़ें

लंदन: भगोड़े पूर्व अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी को 150,247 पाउंड (करीब 1.47 करोड़ रुपये) का जुर्माना चुकाने के लिए पैसे उधार लेना पड़ रहा है. अदालत ने उसे अपने प्रत्यर्पण की अपील के लिए लागत का भुगतान करने का आदेश दिया था, जो अब तक बकाया है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक नीरव (51) एचएमपी वैंड्सवर्थ से गुरुवार को वीडियो लिंक के माध्यम से पूर्वी लंदन में बार्किंगसाइड मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश हुआ और इस तथ्य पर बिना वकील के अपना बचाव किया कि उसने अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील के लिए £150,247 की लागत का भुगतान नहीं किया था. वह यह केस कोर्ट में हार गया था.

अदालत ने इस साल 9 जनवरी को आदेश दिया था कि नीरव मोदी को 28 दिनों के भीतर अपने प्रत्यर्पण अपील की लागत का भुगतान करना होगा, लेकिन अब तक उसने पैसे नहीं जमा किए हैं. उसने एक महीने में £10,000 (9.7 लाख रुपये) का भुगतान करने की पेशकश की थी, लेकिन जुर्माना टीम ने इसे अस्वीकार कर दिया था, यही वजह है कि उसे अदालत के सामने घसीटा गया. अदालत ने नीरव मोदी से उसका नाम, जन्मतिथि और पता पूछा गया और उसने भारत का पता बताया. अदालत ने तब उसका यूके का पता पूछा और उसने कहा कि उसके पास कोई पता नहीं है.

PNB Scam: भगोड़े नीरव मोदी के बहनोई ने दी ऐसी दलील, CJI को देनी पड़ी ‘राहत’, बॉम्बे हाईकोर्ट को दिया ये आदेश

जुर्माना भरने के लिए पैसे नहीं, जेल में रहने को तैयार है नीरव मोदी
यह पूछे जाने पर कि उसने जुर्माना राशि का भुगतान क्यों नहीं किया, नीरव ने कहा: ‘मेरी सारी संपत्ति जब्त कर ली गई है और मैं अपनी कानूनी फीस भरने में असमर्थ हूं.’ अदालत ने उससे पूछा कि क्या वह जुर्माना नहीं भरने की स्थिति में कुछ समय और जेल में रहने के लिए तैयार है? जिस पर उसने ‘हां’ में उत्तर दिया. नीरव मोदी से कोर्ट ने पूछा कि उसकी संपत्ति क्यों जब्त की गई? उसने जवाब दिया: ‘मेरी अधिकांश संपत्ति भारत में है, जहां मैं पिछले 30 वर्षों से रह रहा हूं और काम कर रहा हूं. मुझ पर लगे फर्जी आरोपों के कारण भारत में पिछले चार सालों से मेरी संपत्ति जब्त कर ली गई है.’

दो साल से उधार लेकर जीवन बसर कर रहा भगोड़ा हीरा कारोबारी
यह पूछे जाने पर कि उसे जुर्माना भरने के लिए प्रति माह 10,000 पाउंड कहां से मिलेंगे, जिसका उसने प्रपोजल दिया है? नीरव मोदी ने कहा: ‘मैं पिछले दो वर्षों से उधार लेकर अपने खर्चे चला रहा हूं. मैं चार साल से जेल में हूं- पहले दो साल तक मेरे पास जो पैसे थे, उससे खर्च चला, उसके बाद से उधार लेना पड़ रहा है.’ मजिस्ट्रेट जानना चाहते थे कि वह जेल में क्यों है और उसने जवाब दिया, ‘प्रत्यर्पण शुल्क’ नहीं जमा कर पाने के कारण. पीठ के अध्यक्ष ने उससे पूछा कि अगर आरोप फर्जी थे तो वह अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए भारत क्यों नहीं लौटा? जिस पर नीरव ने जवाब दिया: ‘मुझे भारत में निष्पक्ष सुनवाई नहीं मिलेगी.’

Money Laundering Case: भगोड़े नीरव मोदी के खातों से पैसे निकाले में हम असमर्थ…कोर्ट से बैंकों ने कहा, वजह भी बताई

नीरव मोदी बोला- मुझे नहीं लगता भारत में मैं जेल से रिहा होऊंगा
उससे पूछा गया कि क्या वह इस साल जेल से रिहा होगा? नीरव ने कहा कि उसे नहीं पता. जब भारत में प्रत्यर्पित किए जाने का उल्लेख किया गया, तो उसने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि मैं जेल से रिहा होऊंगा’. पीठ ने फैसला सुनाया कि नीरव छह महीने के लिए प्रति माह £ 10,000 (9.7 लाख रुपये) का भुगतान कर सकता है और फिर समीक्षा सुनवाई होगी. ब्रिटेन में प्रत्यर्पण के खिलाफ नीरव मोदी की अपील खारिज होने के बाद उसे भारत प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया गया था, लेकिन वह अभी तक वापस नहीं आया है. उस पर बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा फ्रॉड करने का आरोप है, जिसमें उसने पंजाब नेशनल बैंक को 13000 करोड़ से अधिक का चूना लगाया है.

Tags: Bank fraud, Extradition of Nirav Modi, Nirav Modi

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें