स्कॉटलैंड में दो भारतीयों को पकड़कर ले जा रही थी पुलिस, लोगों के 8 घंटे के विरोध प्रदर्शन के बाद किया गया रिहा

दोनों भारतीयों की पहचान सुमित सहदेव और लखवीर सिंह के तौर पर हुई है.

दोनों भारतीयों की पहचान सुमित सहदेव और लखवीर सिंह के तौर पर हुई है.

Scotland: दोनों भारतीयों की पहचान सुमित सहदेव और लखवीर सिंह के तौर पर हुई है. वहीं उन्हें छुड़ाने में अहम भूमिका निभाने वाले पाकिस्तानी मूल के मानवाधिकार वकील आमेर अनवर ने कहा, 'ईद के दिन की गई ये कार्रवाई उकसावे वाली है.'

  • Share this:

लंदन. स्कॉटलैंड के ग्लासगो में इमीग्रेशन नियमों के उल्लंघन के आरोप में दो भारतीय नागरिकों को हिरासत में ले लिया गया था. हालांकि लोगों के भारी विरोध प्रदर्शन के चलते इन दोनों को रिहा कर दिया गया. घटना के बाद मानवाधिकार मामलों पर काम करने वाले एक वकील और उनके पड़ोसियों ने सड़क जामकर करीब आठ घंटे तक विरोध प्रदर्शन किया. दोनों भारतीयों की पहचान शेफ सुमित सहदेव और मैकेनिक लखवीर के तौर पर हुई है. कहा जा रहा है कि ये दोनों पिछले 10 साल से ब्रिटेन में रह रहे हैं.

यूके इमीग्रेशन इन्फोर्समेंट के छह अधिकारियों ने स्कॉटलैंड पुलिस की मदद से ग्लास्गो में उनके घर से निकाल वैन में बैठाया और हिरासत केन्द्र के लिए निकलने लगे, लेकिन तभी प्रदर्शनकारियों का एक बड़ा ग्रुप वहां जमा हो गया और उन्हें छोड़े जाने की मांग करने लगा.

कार्रवाई को बताया गलत

पाकिस्तानी मूल के मानवाधिकार वकील आमेर अनवर ने ‘आईटीवी न्यूज’ से कहा, ‘ईद के दिन की गई ये एक उकसावे वाली कार्रवाई है. वास्तव में, उन्हें इन लोगों के जीवन की कोई फिक्र नहीं है, लेकिन ग्लासगो के लोगों को इनकी फिक्र है. ये शहर शरणार्थियों के सहयोग से बना है, जिन लोगों ने इस शहर को बनाने के लिए अपना खून, पसीना और आंसू बहाए हैं. हम इन लोगों के साथ एकजुटता से खड़े हैं.’


लोगों ने किया विरोध

लखवीर सिंह ने पंजाबी में बात करते हुए कहा कि जब अधिकारियों ने उन्हें हिरासत में लिया तो उन्हें डर था कि क्या होगा. उन्होंने पड़ोसियों के समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद भी किया.‘द इंडिपेंडेंट' की खबर के अनुसार, ग्लासगो के पोलोक्शील्ड्स क्षेत्र में सैकड़ों स्थानीय लोगों ने दोनों भारतीयों को ले जा रही बॉर्डर एजेंसी की वैन को वहां रोकने की कोशिश की. स्कॉटलैंड के एक स्थानीय समाचारपत्र ने बताया कि प्रदर्शनकारी वहां, ‘हमारे पड़ोसियों को छोड़ दो, उन्हें जाने दो’ और ‘पुलिसकर्मी घर जाओ’ के नारे लगाते सुनाई दिए. (एजेंसी इनपुट के साथ)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज