इंग्लैंड के विशेषज्ञ बोले- सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क से बच्चों की इम्युनिटी हुई कमजोर

फोटो सौ. (Money Control)

इंग्लैंड के विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कोरोना वायरस से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) और मास्क (Mask) के इस्तेमाल से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हुई है.

  • Share this:
    ब्रिटेन. इंग्लैंड के विशेषज्ञों ने बताया कि कोरोना वायरस से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) और मास्क (Mask) के इस्तेमाल से भले ही कई लोगों की जान बच गई हो, लेकिन इससे बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर हुई है. विशेषज्ञों के अनुसार पिछले 15 महीनों से बच्चों का वायरल जैसी बीमारियों से कोई बड़ा सामना नहीं हुआ है, जिससे मौसमी फ्लू होता है. इन रोगाणुओं के संपर्क में न आने के कारण उनके शरीर में इनके प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता नहीं बन पाई है.

    द गार्जियन में छपी रिपोर्ट के अनुसार वायरोलॉजिस्ट रेस्पिरेटरी सिन्सिटियल वायरस (RSV) के बारे में भी चिंतित हैं, एक वायरस जो एक वर्ष से कम उम्र के बच्चों में गंभीर फेफड़ों के संक्रमण और कभी-कभी मौत भी पैदा करता है. इसके लिए अभी तक कोई टीका भी नहीं है. विशेषज्ञों ने कहा कि प्री-कोविड दिनों में, अस्पतालों में आने वाले वाले अधिकतर छोटे बच्चों की बीमारी के पीछे सबसे बड़ा कारण आरएसवी होता था.

    रिपोर्ट में पब्लिक हेल्थ वेल्स के साथ जुड़ीं डॉ कैथरीन मूरे कहती हैं कि महामारी से पहले 18 महीने की उम्र तक बच्चों का लगभग सभी सीजनल वायरसों के साथ वास्ता पड़ जाता था, लेकिन अब ऐहतियातों के चलते ऐसा नहीं हो रहा है. उन्होंने कहा कि फ्लू मुझे चिंतित करता है, लेकिन एक टीका है और इसलिए सबसे कमजोर लोगों के पास अभी भी टीकों तक पहुंच होगी.

    ये भी पढ़ें: रिपोर्ट में हुआ खुलासा- Pfizer-Moderna वैक्सीन से नहीं घटती पुरुषों की प्रजनन क्षमता

    रिपोर्ट के अनुसार, महामारी से पहले आरएसवी की वजह से यूनाइटेड किंगडम में सालाना 30,000 से अधिक शिशुओं और पांच साल से कम उम्र के बच्चों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया था. मूर ने कहा, हमारे पास अब ऐसे बच्चों के दो समूह हैं जो कभी वायरस से नहीं मिले हैं, इसलिए वे अतिसंवेदनशील हैं. वहीं, नॉटिंघम विश्वविद्यालय के वायरोलॉजी के प्रोफेसर विलियम इरविंग ने इस विचार का समर्थन करते हुए कहा कि हमने पिछली सर्दियों में फ्लू नहीं देखा था, इसलिए यदि यह आने वाली सर्दियों में वापस आता है, तो यह बहुत बुरा रूप धारण कर सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.