दुनिया का सबसे महंगा इंजेक्शन लगवाकर मौत के मुंह से वापस लौटा बच्चा, जानिए पूरा मामला

18 करोड़ का इंजेक्शन लगने बाद आर्थर स्वस्थ है. (Phot Credit- Rees Morgan)

18 करोड़ का इंजेक्शन लगने बाद आर्थर स्वस्थ है. (Phot Credit- Rees Morgan)

बच्चे के चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान देखने के लिए मां-बाप कुछ भी करने को तैयार रहते हैं. कुछ ऐसा हुआ ब्रिटेन (Britain) में 5 महीने के एक बच्चे के साथ. उसे हंसते-खेलते देखने के लिए पापा ने 18 करोड़ खर्च कर दिए (The most expensive drug in the world). इनकी कहानी इमोशनल भी है और प्यारी भी.

  • Share this:

आम तौर पर बच्चे जन्म के 2-3 महीने के बाद ही अपने माता-पिता को देखकर मुस्कुराना शुरू कर देते हैं. ब्रिटेन में जन्मा छोटा सा बच्चा ऐसा नहीं कर पा रहा था. इसकी वजह थी उसकी एक गंभीर बीमारी (spinal muscular atrophy), जो उसे दुनिया देखने से पहले ही खत्म कर देना चाहती थी. ऐसे में उसके पिता ने बच्चे की ज़िंदगी बचाने के लिए दुनिया का सबसे महंगा इलाज कराया है.

बच्चे का नाम है आर्थर मॉर्गन (Arthar Morgan) और उम्र है महज 5 महीने. आर्थर को स्पाइनल मस्क्युलर एट्रोफी (spinal muscular atrophy) नाम की गंभीर और रेयर बीमारी है. इस बीमारी में आमतौर पर इंसान को लकवा मार जाता है और 2 साल में जीवन खत्म हो जाता है. आर्थर की इस बीमारी का इलाज दुनिया का सबसे महंगा इलाज है. उसे दी गई दवा की एक डोज़ की कीमत 1.79 मिलियन पाउंड्स यानि करीब 18 करोड़ है.

बीमारी का कैसे चला पता?

बेबी आर्थर (Arthar Morgan) का जन्म दिसंबर 2020 में हुआ था. चूंकि वो प्रीमेच्योर बच्चा था, इसलिए माता-पिता उसका ज्यादा ही ख्याल रखते थे. जब उन्होंने लगातार इस बात को नोटिस किया कि बच्चा ठीक से रिएक्ट नहीं कर रहा है, तो वे उसे डॉक्टर के पास ले गए. टेस्ट और ऑब्जर्वेशन से ये बात सामने आई कि आर्थर को एसएमए यानि स्पाइनल मस्क्युलर एट्रोफी (spinal muscular atrophy) है.
कैसे हुआ इलाज?

5 महीने के आर्थर को जोल्गेंस्मा (Zolgensma) थेरेपी दी गई. ये ऐसी जीन थेरेपी है, जिसे हाथ में इंजेक्शन के सहारे दिया जाता है. पिछले हफ्ते ही आर्थर को इस ड्रग की डोज़ दी गई. जोल्गेंस्मा (Zolgensma) नाम की ये दवा दुनिया की सबसे महंगी दवा है. स्विट्ज़रलैंड की फर्म नोवारटिस ( Novartis Gene Therapies) ने इसे तैयार किया है. आर्थर को जो बीमारी है, उसमें इस दवा एक डोज़ ही काफी है. दवा लेने के बाद बच्चे चलने-फिरने और बैठने में सक्षम हो जाते हैं.

ये भी पढ़ें- वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाले धरती जैसे कई ग्रह,  सब कुछ ठीक रहा है तो जल्द होगी एलियंस से मुलाकात 



दुनिया का सबसे महंगा ट्रीटमेंट

द सन वेबसाइट से बातचीत के दौरान बच्चे के पिता रीस मॉर्गन ने बताया कि आर्थर पहला बच्चा है, जिसे जोल्गेंस्मा ट्रीटमेंट (Zolgensma Treatment)मिला है. जब उन्हें इस बात का बता चला तो वे काफी इमोशनल और परेशान भी हो गए. कुछ हफ्तों की बेचैनी और दिक्कत के बाद अब आर्थर ठीक है और उसके पेरेंट्स ने भी राहत की सांस ली है. ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS England) ने इस ड्रग के मैन्युफैक्चरर्स से करार किया है और बच्चे के पेरेंट्स शुक्रगुजार हैं कि उनके बच्चे को ये ट्रीटमेंट मिल सका.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज