दुनिया के सबसे ठंडे बादल की मिली जानकारी, तापमान माइनस 111 डिग्री सेल्सियस था

वैज्ञानिकों ने खोजा दुनिया का सबसे ठंडा बादल

वैज्ञानिकों ने खोजा दुनिया का सबसे ठंडा बादल

बादल (Cloud) के बारे में जानकारी देते हुए वैज्ञानिकों ने बताया कि इसने ही साल 2018 में प्रशांत महासागर (Pacific Ocean) में तूफान पैदा किया था. ये बादल सामान्य तूफानी बादलों की तुलना में 30 डिग्री ज्यादा ठंडा था.

  • Share this:
लंदन. आप सभी ने सुना होगा कि ठंड के मौसम (Weather) में पारा माइनस डिग्री (Minus Degree) में चला गया. माइनस डिग्री के नाम से ही ठंड का एहसास होने लगता है. वैज्ञानिकों ने एक ऐसे बादल (Cloud) की खोज की है जिसका तापमान माइनस 111 डिग्री सेल्सियस पाया गया है. इस बादल को वैज्ञानिक अबतक का सबसे ठंडा बादल बता रहे हैं. इस बादल के बारे में जानकारी देते हुए वैज्ञानिकों ने बताया कि इसने ही साल 2018 में प्रशांत महासागर में तूफान पैदा किया था.

यूके नेशनल सेंटर फॉर अर्थ ऑब्जरवेशन के वैज्ञानिक दुनियाभर के तूफानों के बादलों का अध्ययन कर रहे थे. अपने अध्‍ययन के दौरान वैज्ञानिकों ने पाया कि साल 2018 में प्रशांत महासागर पर तूफान लाने वाले बादल का तापमान माइनस 111 डिग्री सेल्सियस था. बादल का तापमान अभी तक का एक रिकॉर्ड है. वैज्ञानिकों ने इससे पहले कभी इतना ठंडा बादल नहीं देखा था. सेंटर फॉर अर्थ ऑब्जरवेशन के वैज्ञानिकों के मुताबिक यह तूफानी बादल जमीन से 18 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित था. क्योंकि ट्रॉपिकल चक्रवात, सर्कुलर लो-प्रेशर स्टॉर्म काफी ऊंचाई तक जा सकते हैं. जहां पर हवा का तापमान काफी कम होता है.

इसे भी पढ़ें :- अमेरिकी वैज्ञानिकों ने मेंढक की कोशिकाओं से बनाया 'जिंदा' रोबोट, जानें इसकी खासियत...

वैज्ञानिकों ने जब इस बादल से जुड़ी और जानकारी हासिल करने की कोशिश की तो जो आंकड़े सामने आए वह हैरान करने वाले थे. ये बादल सामान्य तूफानी बादलों की तुलना में 30 डिग्री ज्यादा ठंडा था. वैज्ञानिकों की रिसर्च के मुताबिक बादल 29 दिसंबर 2018 को प्रशांत महासागर में दक्षिण की तरफ स्थित नाउरू नामक स्थान के पास मौजूद था.
इसे भी पढ़ें :- HIV पर मिलेगी जीत? भारतीय वैज्ञानिकों ने हासिल की बड़ी सफलता

ये काफी बड़े आकार में फैला हुआ था. वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि इस इस बादल का व्‍यास करीब 400 किलोमीटर था. इस बादल के तापमान की गणना के लिए नासा के सैटेलाइट NOAA-20 की मदद ली गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज