WHO और इंटरपोल पर नियंत्रण जमाने के फिराक में है चीन, ब्रिटिश पार्लियामेंट पैनल का दावा

इस रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि चीन जैसे देशों द्वारा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण संगठनों के नियंत्रण को जब्त करने की कोशिश में है.

इस रिपोर्ट में ट्रंप प्रशासन की आलोचना की गई है. कहा है कि अमेरिका के चलते ही चीन को ऐसे संगठनों पर मजबूत पकड़ बनाने का मौका मिल गया.

  • Share this:
    लंदन. ब्रिटिश के पार्लियामेंट पैनल ने दावा किया है कि चीन विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और इंटरपोल जैसे बहुपक्षीय संगठनों को कमजोर करने या उन्हें तोड़ने की कोशिश कर रहा है. बता दें कि इन संगठनों को द्वितीय विश्व युद्ध के बाद स्थापित किया गया था. इसका मकसद है राष्ट्र शांति, समृद्धि और स्वतंत्रता के साझा मूल्यों की अंतरराष्ट्रीय प्रणाली स्थापित करना.

    गुरुवार को ये रिपोर्ट प्रकाशित की गई है. इसे हाउस ऑफ कॉमंस के विदेश मामलों के कमेटी के 11 सांसदों की टीम ने तैयार किया है. इसमें चेतावनी दी गई है कि अगर यूके और उसके सहयोगी चीन और रूस को जवाब नहीं देते हैं, तो ये एक बहुत ही वास्तविक जोखिम है.

    इस रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि चीन जैसे देशों द्वारा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण संगठनों के नियंत्रण को जब्त करने की कोशिश में है. यूके ने बहुपक्षीय संगठनों की नींव और विकास में अग्रणी भूमिका निभाई है. चीन इस पर धीरे-धीरे कब्जे की कोशिश में है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि यूके को ऐसे देशों के साथ बातचीत करनी चाहिए जो चीन को रोक सके.

    ये भी पढ़ें:- Kumbh में कोरोना टेस्‍टिंग का ठेका ज‍िस कंपनी को म‍िला, उसका कोई अता-पता नहीं

    इस रिपोर्ट में ट्रंप प्रशासन की आलोचना की गई है. कहा है कि अमेरिका के चलते ही चीन को ऐसे संगठनों पर मजबूत पकड़ बनाने का मौका मिल गया. रिपोर्ट में छह प्रमुख बहुपक्षीय संगठनों का ज़िक्र है. ये हैं- विश्व स्वास्थ्य संगठन, विश्व व्यापार संगठन, इंटरपोल, मानवाधिकार के लिए उच्चायुक्त के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय और संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद, अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय और सुरक्षा के लिए संगठन और यूरोप में सहयोग.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.