ब्रिटेन: अब स्मार्टफोन से हो सकेगी Corona वायरस की जांच, कुछ ऐसे काम करेगी ये पद्धति

कॉन्सेप्ट इमेज (Telenor)

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के अनुसंधानकर्ताओं ने स्मार्टफोन (Smartphone) की स्क्रीन से लिए स्वाब का विश्लेषण किया. उन्होंने पाया कि नाक के स्वाब वाली पीसीआर (PCR) जांच में संक्रमित पाए गए लोग स्मार्टफोन स्क्रीन से लिये गये स्वाब की जांच में भी संक्रमित पाये गए.

  • Share this:
    लंदन. कोविड-19 (Covid-19) का पता लगाने के लिए रिसर्चर्स ने एक ऐसी किफायती पद्धति विकसित की है, जिसमें स्टमार्टफोन की स्क्रीन से लिए गए नमूनों की जांच कर संक्रमण (Virus) का सटीक और जल्दी से पता लगाया जा सकता है. ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के अनुसंधानकर्ताओं ने स्मार्टफोन की स्क्रीन से लिए स्वाब का विश्लेषण किया. उन्होंने पाया कि नाक के स्वाब वाली पीसीआर जांच में संक्रमित पाए गए लोग स्मार्टफोन स्क्रीन से लिये गये स्वाब की जांच में भी संक्रमित पाये गए. नई पद्धति के बारे में मंगलवार को जर्नल ई-लाइफ में बताया गया है. इस पद्धति ने 81 से 100 प्रतिशत संक्रमित लोगों के स्मार्टफोन पर वायरस की मौजूदगी का पता लगाया, जो एक सटीक जांच साबित हो सकती है.

    रिसर्चरों ने बताया कि इस पद्धति के तहत नमूने एकत्र करने में एक मिनट से भी कम समय लगता है और इसमें मेडिकल कर्मी की भी जरूरत नहीं पड़ती. यूसीएल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑप्थलमोलॉजी के रोद्रिगो यंग ने कहा, कई लोगों की तरह, मैं भी खासतौर पर कम आय वाले देशों में महामारी के सामाजिक और आर्थिक्र प्रभावों को लेकर चिंतित था.

    ये भी पढ़ें: Video: ब्रिटेन के इस विवाहित जोड़े ने लंबाई में अंतर का बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, कुछ ऐसी है दोनों की लव स्टोरी...

    उन्होंने कह कि यह पद्धति न सिर्फ कोविड-19 की व्यापक स्तर पर जांच को आसान बनाएगी, बल्कि इसका उपयोग भविष्य में महामारी को रोकने में भी किया जा सकेगा. इस पद्धति के तहत जांच के लिए डायग्नोसिस बायोटेक द्वारा एक मशीन बनाई जा रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.