Home /News /world /

Who is Alok Sharma: कौन हैं आलोक शर्मा? COP26 समिट में भारत को क्यों बताया गुनहगार?

Who is Alok Sharma: कौन हैं आलोक शर्मा? COP26 समिट में भारत को क्यों बताया गुनहगार?

आलोक शर्मा को ब्रेग्जिट के मुद्दे पर जॉनसन का साथ देने का इनाम मिला और उन्हें बोरिस जॉनसन ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दी.

आलोक शर्मा को ब्रेग्जिट के मुद्दे पर जॉनसन का साथ देने का इनाम मिला और उन्हें बोरिस जॉनसन ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दी.

Who is Alok Sharma: 2010 से पहले आलोक शर्मा चार्टर्ड एकाउंटेंट के बतौर काम कर रहे थे. 2010 में उन्होंने रीडिंग वेस्ट से चुनाव जीता और सांसद बने. 2016 में थेरेसा में ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपी. आलोक शर्मा को विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय में पार्लियामेंट्री एडिशनल सेक्रेटरी नियुक्त किया गया. 2017 में आलोक शर्मा को प्रमोशन देकर आवास और योजना मंत्री बनाया गया. 2018 में वो रोजगार मंत्री बने.

अधिक पढ़ें ...

    ग्लासगो. स्कॉटलैंड के ग्लासगो में कई दिनों तक चला संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता (COP26 Climate Change Summit) कार्यक्रम खत्म हो चुका है. इस समिट में दुनियाभर के नेताओं ने कार्बन उत्सर्जन को कम करने और जलवायु परिवर्तन को लेकर तमाम वादे किए. इन सबके बीच COP26 के अध्यक्ष आलोक शर्मा सुर्खियों में बने हुए हैं. क्लाइमेट चेंज समिट में भारत और चीन पर आलोक शर्मा (Alok Sharma) का बयान भी चर्चा में है.

    आइए जानते हैं कौन हैं आलोक शर्मा और भारत को लेकर आखिर उन्होंने क्या कहा…

    COP26 की बैठक ख़त्म होने के बाद इसके अध्यक्ष आलोक शर्मा ने भारत और चीन को लेकर कहा है कि इन दोनों को अपने बारे में जलवायु परिवर्तन के लिहाज से असुरक्षित देशों को समझाना होगा. इन दोनों देशों ने COP26 में कोयले के इस्तेमाल पर फे़ज़ आउट (चरणबद्ध तरीके़ से ख़त्म) को फ़ेज़ डाउन (चरणबद्ध तरीक़े से कम) में बदलने की वकालत की थी. आलोक शर्मा ने कहा कि यहां तापमान को 1.5 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक बढ़ने पर ऐतिहासिक सहमति बनी.

    पाकिस्तान की विधायक का बॉयफ्रेंड के साथ कथित अश्लील वीडियो हो गया लीक, मचा हंगामा

    ब्रिटेन के पूर्व बिजनेस सेक्रेटरी आलोक शर्मा ने कहा कि लोग मुझे कभी-कभी नो ड्रामा शर्मा भी कहते हैं. ये नाम उन्हें अपने नो नॉनसेंस एटीट्यूड के लिए मिला है. साल 2020 में उन्हें ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सीओपी 26 के लिए नियुक्त किया था. शर्मा ने इस दौरान छोटे द्वीप देशों के साथ ही चीन और भारत जैसे देशों की यात्रा की और अपनी संतुलित लीडरशिप के लिए उन्हें अपने कई प्रतिनिधियों ने उनकी तारीफ भी की.

    आगरा से हैं ताल्लुक
    आलोक शर्मा का ताल्लुक उत्तर प्रदेश के आगरा से है. आलोक शर्मा को ब्रेग्जिट के मुद्दे पर जॉनसन का साथ देने का इनाम मिला और उन्हें बोरिस जॉनसन ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दी. बोरिस जॉनसन का जिसने भी विरोध किया, उनको किनारे लगा दिया गया. बहुत कम लोग ऐसे हैं, जो टेरेसा मे के मंत्रिमंडल में शामिल रहे हों और उन्हें फिर से मंत्री बनाया गया

    चार्टर्ड एकाउंटेंसी की कर चुके हैं पढ़ाई
    आलोक शर्मा ने चार्टर्ड एकाउंटेंसी की पढ़ाई की है. उनका जन्म आगरा में 7 जनवरी 1967 को हुआ. आलोक शर्मा के पैरेन्ट्स 70 के दशक में इंग्लैंड चले गए थे. उस वक्त आलोक की उम्र सिर्फ 5 साल की थी. वो अपने माता-पिता के साथ ब्रिटेन आ गए. यहीं उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की. आलोक का लालन-पालन रीडिंग के उपनगरों अर्ली और व्हाइटली वुड में हुआ. उनकी शुरुआती पढ़ाई रीडिंग ब्लू कोट स्कूल में हुई. उन्होंने 1988 में सालफोर्ड यूनिवर्सिटी से अप्लाइड फिजिक्स में बीएससी की है.

    इजरायल के इस नए हथियार के आगे दुश्मन का हर हथियार फेल

    इसके बाद उन्होंने चार्टर्ड एकाउंटेंट की ट्रेनिंग ली. मैनचेस्टर में ट्रेनिंग लेने के बाद लंदन की कई फाइनेंसियल फर्मों में वो ऊंचे पदों पर रहे. आलोक शर्मा बो ग्रुप के इकोनॉमिक अफेयर्स कमिटी के थिंकटैंक के चेयरमैन भी रहे हैं.

    कंजर्वेटिव पार्टी के लो प्रोफाइल नेता रहे हैं आलोक शर्मा
    2010 से पहले आलोक शर्मा चार्टर्ड एकाउंटेंट के बतौर काम कर रहे थे. 2010 में उन्होंने रीडिंग वेस्ट से चुनाव जीता और सांसद बने. 2016 में टेरेसा में ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपी. आलोक शर्मा को विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय में पार्लियामेंट्री एडिशनल सेक्रेटरी नियुक्त किया गया. 2017 में आलोक शर्मा को प्रमोशन देकर आवास और योजना मंत्री बनाया गया. 2018 में वो रोजगार मंत्री बने.

    थेरेसा मे के कैबिनेट में भी थे शामिल
    आलोक शर्मा की खास बात ये है कि वो थेरेसा मे के मंत्रिमंडल में भी शामिल थे. ब्रेग्जिट के मुद्दे पर बोरिस जॉनसन ने नो डील की बात की है. आलोक शर्मा इसके समर्थक हैं. आलोक शर्मा ने बोरिस जॉनसन को प्रधानमंत्री बनवाने के लिए जबरदस्त कैंपेनिंग की थी. बोरिस ने इसलिए भी उन पर भरोसा जताया है.

    Tags: Boris Johnson, Britain, Climate Change

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर