ब्रिटिश सरकार ने रेस्तरां उद्योग में प्राण फूंकने के लिए £500 मिलियन का बजट बनाया

ब्रिटिश सरकार ने रेस्तरां उद्योग में प्राण फूंकने के लिए £500 मिलियन का बजट बनाया
ब्रिटेन में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते रेस्तरां का कारोबार ठंडा पड़ गया है.

ब्रिटेन में हजारों पब और रेस्तरां में सोमवार से बुधवार तक वीकेंड (Monday to Wednesday Weekend) का माहौल बनाने की एक नई कोशिश की जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 10:53 PM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) से पैदा हुई आर्थिक मंदी (Economy Slow Down) से लड़ने के लिए फिर से एक नयी योजना लाई गई है. ब्रिटेन में हजारों पब और रेस्तरां में सोमवार से बुधवार तक वीकेंड (Monday to Wednesday Weekend) का माहौल बनाने की एक नई कोशिश की जा रही है. इसके लिए लोग ऋषि सुनक को धन्यवाद दे रहे हैं जो एक नयी और अनोखी योजना लेकर आए हैं जिसके तहत सरकार भोजन और गैर-मादक पेय पर प्रति व्यक्ति अधिकतम 10 पाउंड प्रति रेस्तरां के बिल के 50 प्रतिशत का भुगतान करेगी.

इस योजना के लिए £500 मिलियन का बजट बनाया

इस योजना का उद्देश्य लोगों को घर से बाहर निकलकर रेस्तरां आदि में खाने पीने और इस तरह कोरोनोवायरस महामारी से जूझ रहे रेस्तरां उद्योग की मदद करने के लिए प्रोत्साहित करना है. यह योजना 3 अगस्त से शुरू हुई है और इस महीने के अंत तक चलने वाली है. बोरिस जॉनसन सरकार ने इस योजना के लिए £500 मिलियन का बजट बनाया है. इस योजना के लागू होने के पहले सप्ताह में ही इसका 10.5 मिलियन बार इसका लाभ उठाया गया है.



योजना पर 83,000 से अधिक आउटलेट्स ने साइन किया
इस योजना पर 83,000 से अधिक आउटलेट्स ने साइन किया है जिसमें पब, रेस्तरां, कैफे, सदस्यों के क्लबों के भीतर भोजन कक्ष और कार्यस्थल और स्कूल कैंटीन शामिल हैं. इस योजना में भाग लेने में कई भारतीय रेस्तरां भी शामिल हैं. वेदर्सस्पून और वागामामा जैसे कई रेस्तरां ने बहुत खराब बिसनेस होने की रिपोर्ट दी है. वहीं साउथहाल के रेस्तरां ने भी बिज़नेस में बहुत मामूली उठान की खबर दी है.

लंदन स्थित 'इंडियन एक्सेंट' की शाखा बंद करनी पड़ी

भारतीय रेस्तरां 'इंडियन एक्सेंट' की नई दिल्ली और न्यूयॉर्क में शाखाएं हैं और 2017 में लंदन के मेफेयर में भी खोली गई एक ब्रांच कोरोना महामारी के कारण बंद हो गई है. मध्य लंदन में कई रेस्तरां के मालिक सेलिब्रिटी शेफ साइरस टोडीवाला कहते हैं कि हमारे लिए इस योजना का कोई ख़ास महत्त्व नहीं है क्योंकि उनके रेस्तरां की लोकेशन हमारी जगह से मेल नहीं खाती हैं. यही वजह है कि यह योजना महान नहीं है। हमारी समस्या सार्वजनिक परिवहन से बचने के लिए लोगों की हिचकिचाहट है. इंडिया ज़िंग रेस्तरां के मालिक मनोज वासिकर के अनुसार सुनक की योजना ने सोमवार से बुधवार तक बिजनेस को बढ़ाया है लेकिन शुक्रवार शनिवार को बिजनेस फिर से ठप पड़ जाता है.

ये भी पढ़ें: रूस ने कोरोना वैक्सीन बनाया, फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो ने कहा- मुझपर करो ट्रायल

चीन और रूस के खिलाफ चार देशों के दौरे पर निकले अमेरिकी विदेशमंत्री पोम्पिओ

सुनक ने योजना के पहले सप्ताह के आंकड़ों को आश्चर्यजनक बताया है. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार अप्रैल में 80% हॉस्पिटेलिटी फर्मों का व्यापार बंद हो गया था और 1.4 मिलियन श्रमिकों को काम से निकाल दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज