लाइव टीवी

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन को झटका, सांसदों ने ब्रेग्जिट पर फैसला टालने के लिए डाला वोट

भाषा
Updated: October 20, 2019, 7:44 AM IST
ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन को झटका, सांसदों ने ब्रेग्जिट पर फैसला टालने के लिए डाला वोट
ब्रिटिश संसद ने ब्रेक्जिट पर किसी भी फैसले को आगे के लिए टाल दिया है (फाइल फोटो)

ब्रिटिश सांसदों (British MPs) ने पीएम बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) के ब्रेक्जिट प्लान (Brexit Deal) पर मतदान को आगे के लिए टाल दिया है. वे इसे पढ़ने-समझने के लिए और समय चाहते हैं.

  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन (Britain) के सांसदों ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) के ब्रेक्जिट समझौते (Brexit Deal) पर शनिवार को कोई भी निर्णय टालने के पक्ष में मतदान किया. और अगले साल की एक जनवरी तक का समय मांगने का अनुरोध किया है.

सांसदों ने तर्क दिया कि वे समझौते के ब्योरे का अध्ययन करने के लिए और समय चाहते हैं. ब्रिटेन को यूरोपीय संघ (European Union) से अलग होने की समय-सीमा 31 अक्टूबर है.

सांसद चाहते हैं ब्रेक्जिट के लिए मिले और समय
सांसदों (Member of Parliament) ने एक संशोधन का समर्थन किया जिसमें सरकार को ब्रेक्जिट के लिये अगले साल जनवरी तक का समय मांगने का अनुरोध करने के लिये कहा गया है. इससे पहले ब्रिटेन के सांसद प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के ब्रेक्जिट करार (Brexit Deal) पर ऐतिहासिक मतदान करने के लिए शनिवार को एकत्र हुए थे.

जॉनसन ने समर्थन हासिल करने को किया था 48 घंटे प्रयास
वर्ष 1982 में फाकलैंड युद्ध पर चर्चा करने के बाद पहली बार यूरोपीय संघ से अलग होने की शर्तों को लेकर जॉनसन एवं EU नेताओं के बीच बनी सहमति पर चर्चा करने के लिए शनिवार को ब्रिटिश संसद की बैठक बुलाई गई थी.

विपक्षी दलों और उत्तरी आयरलैंड (Ireland) के जॉनसन के अपने सहयोगियों ने इस करार को खारिज किया था फिर भी प्रधानमंत्री और उनकी टीम ने सांसदों का समर्थन हासिल करने के लिए पिछले 48 घंटों में अथक प्रयास किए थे.
Loading...

माना जा रहा था, समय से हुई चर्चा तो समय-सीमा में होगा पारित
इस पेचीदा प्रक्रिया के चलते ब्रिटेन 2016 से राजनीतिक संकट में घिरा हुआ है. जॉनसन EU से 46 वर्ष पुराने संबंध को 31 अक्टूबर तक तोड़ने के लिए स्पष्ट मतदान चाहते थे लेकिन ऐसा नहीं हो सका. उनको डर है कि अगर सांसद करार को मंजूरी भी दे दें तो 31 अक्टूबर तक EU से अलग होने के करार पर चर्चा करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलेगा, जिसका नतीजा आकस्मिक रूप से बिना समझौते ब्रेग्जिट (Brexit) हो जाएगा.

हालांकि अब भी ब्रिटिश पीएम ने कहा है कि वे 31 अक्टूबर की डेडलाइन के साथ बंधे हुए हैं और इस दिन ब्रिटेन EU से अलग हो जाएगा.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान- विपक्ष के प्रदर्शनों को सेना की मदद से कुचलेगी इमरान खान सरकार!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 10:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...