लाइव टीवी

47 साल बाद हुई दो बहनों की मुलाकात, एक की उम्र 98 साल तो दूसरी 100 के पार

News18Hindi
Updated: February 23, 2020, 11:06 AM IST
47 साल बाद हुई दो बहनों की मुलाकात, एक की उम्र 98 साल तो दूसरी 100 के पार
तस्वीर- BBC

कंबोडिया (Cambodia) की इन दो बहनों ने साल 1973 में एक दूसरे को आखिरी बार देखा था. ये खेमर रूज के शासन में एक दूसरे से बिछड़ गई थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2020, 11:06 AM IST
  • Share this:
नामपेन्ह. कंबोडिया (Cambodia) में बीते हफ्ते तीन भाई-बहनों की 47 साल बाद मुलाकात हुई. इस मुलाकात ने सभी की आंखें नम कर दीं. एक दूसरे से इनकी दूरी इतनी थी कि उन्हें लगता था कि इनमें से किसी एक का निधन हो गया होगा. इन्होंने एक दूसरे से आखिरी बार मुलाकात साल 1973 यानी कंबोडिया में कम्यूनिस्ट पार्टी यानी खमेर रूज का शासन आने के दो साल पहले हुई थी. कंबोडिया में कम्यूनिस्ट पार्टी साल 1975 में सत्ता में आई और इसके बाद करीब दो साल तक चले संघर्ष में कम से कम 20 लाख लोग मारे गए. यह संघर्ष साल 1979 तक चला.

मिली जानकारी के अनुसार, बीते हफ्ते 98 साल की बन सेन ने अपनी 101 वर्षीय बहन चिया और 92 वर्षीय भाई से मुलाकात की. 2004 में इन्हें मिलाने के लिए स्थानीय एनजीओ चिल्ड्रन्स फंड ने पहल की थी. एनजीओ को बन का भाई, बड़ी बहन एक गांव में मिले, जिसके बाद इन तीनों की मुलाकात हो सकी.

'मुझे लगा था कि मेरे भाई-बहन मर गए'
एक रिपोर्ट के अनुसार, पोल पॉट के शासन में बन के पति का देहांत हो गया. इतना ही नहीं लंबे समय तक बन ने कचर बीन कर पेट पाला. इसके साथ ही पड़ोसियों के बच्चों की देखभाल की. उन्होंने बताया कि 'मैंने अपना गांव छोड़ दिया था. कभी पलट कर वापस नहीं देखा. मुझे लगा था कि मेरे भाई बहन मर गए थे.'



बन ने कहा कि वह अपनी बड़ी बहन से मिल कर खुश हैं. कहा कि पहली बार मेरे छोटे भाई ने मेरा हाथ छुआ. वहीं चिया ने बताया कि उनके पति को भी इसी शासनकाल में मार दिया गया था. उन्हें भी लगा कि बन मारी जा चुकी होगी.

तानाशाह पोल पॉट और उसकी सेना ने साल 1975 में कंबोडिया की सत्ता पर कब्जा किया था. इसके बाद साल 1976 में नई कम्यूनिस्ट सरकार के प्रधानमंत्री पोल बने. इस कार्यकाल को खमेर रूज के नाम से जाना जाता है. कंबोडिया में खमेर की सरकार चार साल तक चली. इस दौरान वहां हत्याओं का जो दौर चला उसे 20वीं सदी के सबसे बड़े नरसंहारों में से एक माना जाता है.

यह भी पढ़ें: दुर्लभ सफेद मगरमच्छ, जिसकी खातिरदारी देखकर रह जाएंगे दंग- देखें वीडियो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 10:40 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर