अपना शहर चुनें

States

कनाडा के MP ने कश्मीरी पंडितों का दर्द समझने के लिए PM मोदी का धन्यवाद किया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

Canada's MP Bob Saroya welcome PM Narendra Modi Policies Reagarding Kashmir: कनाडा (Canada) के ओंटारियो इलाके के मार्खम यूनियन विल के संसद सदस्य बॉब सरोया (Bob Saroya) ने जनवरी 1990 में कश्मीरी पंडितों (Kashmiri Pandit) के विस्थापन की निंदा करते हुए घाटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा उन्हें घाटी में दुबारा बसाए जाने की योजना का स्वागत किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 3:00 PM IST
  • Share this:
ओंटारियो. कनाडा (Canada) के ओंटारियो इलाके के मार्खम यूनियन विल के संसद सदस्य बॉब सरोया (Bob Saroya) ने जनवरी 1990 में कश्मीरी पंडितों (Kashmiri Pandit) के विस्थापन की निंदा करते हुए घाटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा उन्हें घाटी में दुबारा बसाए जाने की  योजना का स्वागत किया. दुनिया भर में रह रहे विस्थापित कश्मीरी पंडित 19 जनवरी को विध्वंस दिवस (Holocast Day) के रूप में याद करते हैं.  इस वर्ष 1990 में कश्मीर घाटी (Kashmir Valley) की हिंदू आबादी पर हमले की 31 वीं वर्षगांठ मनाई जा रही है.

भारत सरकार की योजनाओं का समर्थन करता हूं: बॉब सरोया

कश्मीर की हिंदू आबादी पर हमले की इस 31 वीं वर्षगांठ पर दिए एक बयान में बॉब सरोया ने लिखा कि मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मांग करता हूँ कि मानवता के खिलाफ हो रहे ऐसे अपराधों को रोकने के लिए प्रभावी उपाय किये जाएं. मैं कश्मीरी हिंदुओं को उनके घरों में वापस लौटने में मदद करने की भारत सरकार की योजनाओं का समर्थन करता हूं.” उन्होंने जनवरी 1990 में हुए भीषण हत्यकांड में मारे या घायल हुए लोगों के परिवार और प्रियजनों के प्रति प्रति संवेदना व्यक्त की.



कश्मीर में मंदिरों की बदहाल हालत
कनैडियन सांसद ने कश्मीर में पुराने हिंदू मंदिरों की बदहाली की निंदा और स्थानीय पंडित समुदाय के धैर्य साहस की सराहना करते हुए कहा कि मैं कश्मीर में हजारों साल पुराने हिंदू पूजा स्थलों की बदहाली की निंदा करता हूं और कश्मीरी पंडित समुदाय के सदस्यों द्वारा दिखाए गए धैर्य और साहस की इज्जत करता हूं, जो इस भीषण नरसंहार और विस्थापन की प्रक्रिया में खुद को बचा पाएं. कश्मीरी पंडितों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से अपने पुनर्वास की मांग करते हुए उनसे मांग की कि उन्हें वापसी, बहाली, पुनर्वास और राजनीतिक सशक्तीकरण के लिए क्षेत्र और मौके प्रदान किये जाएं.

ये भी पढ़ें: US: 67 साल बाद दी गई महिला को फांसी, प्रग्नेंट का पेट चीरकर बच्चा निकाला था बाहर

PAK: गुरूद्वारा ननकाना साहिब में तोड़फोड़ के लिए 3 व्यक्ति दोषी करार, 2 साल की जेल

उन्होंने मुख्य सचिव के अधीन सिंगल विंडो नोडल प्राधिकरण बनाने की भी मांग की जिसके तहत सभी कश्मीरी पंडितों को संबोधित करने और सभी योजनाओं को लागू किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज