होम /न्यूज /दुनिया /विक्रम लैंडर के लिए आज है बेहद अहम दिन, NASA की तस्वीरों से खुलेंगे कई रहस्य

विक्रम लैंडर के लिए आज है बेहद अहम दिन, NASA की तस्वीरों से खुलेंगे कई रहस्य

ऑटोमैटिक लैंडिंग प्रोग्राम में गड़बड़ी की वजह से चांद पर नहीं उतर सका लैंडर विक्रम.

ऑटोमैटिक लैंडिंग प्रोग्राम में गड़बड़ी की वजह से चांद पर नहीं उतर सका लैंडर विक्रम.

नासा (NASA) का ये ऑर्बिटर (Orbiter) 17 सितंबर को यानी आज ही विक्रम लैंडर के लैंडिंग साइट के ऊपर से चांद का चक्कर लगाएगा ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) मिशन के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को लेकर चल रहे विश्लेषण में मदद करने के लिए अमेरिकी स्पेस एजेंसी नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) अपने लूनर ऑर्बिटर से विक्रम की लैंडिंग साइट की तस्वीरें जारी करेगा. नासा का ये ऑर्बिटर 17 सितंबर को यानी आज ही विक्रम लैंडर के लैंडिंग साइट के ऊपर से चांद का चक्कर लगाएगा और उसके नजदीक से गुजरेगा.

     नासा के 'लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर' से हैं उम्मीदें
    हालांकि, इस बात की भी चिंता जताई जा रही है कि चांद की उस जगह पर अंधेरा होने की वजह से लैंडर विक्रम और उसकी लैंडिंग साइट की तस्वीरें धुंधली हो सकती हैं. ये साफ नहीं हो सका है कि नासा का ये ऑर्बिटर लैंडिंग साइट के नजदीक आज कितने बजे तक पहुंचेगा.

    नासा के इस ऑर्बिटर का नाम 'लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर' (LRO) है. 7 सितंबर के शुरुआती घंटों में चंद्रमा से महज 2.1 किमी की दूरी पर विक्रम लैंडर का इसरो के कंट्रोल रूम से संपर्क टूट गया था. इसके बाद चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर की मदद से चांद पर मौजूद विक्रम की लोकेशन का पता लगा था. लेकिन विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं स्थापित हो सका था.

    तस्वीरों से विक्रम की लैंडिंग को लेकर कई रहस्यों का खुलेगा राज
    आज की तस्वीरों से विक्रम की हार्ड लैंडिंग के बाद चांद पर उसके लैंडिंग साइट पर क्या बदलाव आए थे और विक्रम चांद की सतह पर किस हाल में है इसका पता चल सकता है. साइट की तस्वीरें इसरो को इसका विश्लेषण करने में मदद कर सकती हैं. चंद्रमा पर सॉफ्ट-लैंडिंग कर भारत दुनिया का चौथा देश बनने वाला था. लेकिन संपर्क टूटने की वजह से उसकी हार्ड लैंडिंग हुई थी. इसरो ने कहा है कि विक्रम लैंडर के साथ संचार स्थापित करने के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं.

    यह भी पढ़ें- 

    चंद्रयान 2: ऑर्बिटर भेजेगा चांद के हमेशा अंधेरे में रहने वाले इलाके की तस्वीर
    सऊदी में तेल ठिकानों पर लगी आग के बाद 10% महंगा हुआ क्रूड, भारत पर भी असर
    Howdy Modi इवेंट में PM मोदी संग शामिल होंगे ट्रंप, व्हाइट हाउस ने किया कंफर्म

    Tags: Chandrayaan 2, ISRO, Mission Moon, Nasa, Space

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें