मुस्लिमों की आंखों पर पट्टी बांधकर जुल्म करता है चीन, सामने आया ऐसा वीडियो!

चीन में उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है सुलूक, एक वीडियो में सामने आया है (स्क्रीनग्रैब)
चीन में उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है सुलूक, एक वीडियो में सामने आया है (स्क्रीनग्रैब)

चीन (China) के शिनजियांग (Xinjiang) प्रांत से एक वीडियो सामने आया है. जिसमें आंखों पर काली पट्टी (Blindfolded) और हाथों को जंजीर से बांधे लोगों को 'री-एजुकेशन कैंप' (Re-Education Camps) में ले जाते सैकड़ों पुलिस अधिकारियों को देखा जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2019, 8:15 PM IST
  • Share this:
शिनजियांग: चीन (China) के शिनजियांग (Xinjiang) प्रांत से एक डराने वाला वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में आंखों पर काली पट्टी (Blindfolded) और हाथों को जंजीर से बांधे कथित उइगर मुस्लिमों को 'री-एजुकेशन कैंप' (Re-Education Camps) में ले जाते सैकड़ों पुलिस अधिकारियों को देखा जा सकता है.

कथित तौर पर इस वीडियो को ड्रोन (Drone) के जरिए फिल्माया गया है. ब्रिटिश समाचार वेबसाइट द सन के मुताबिक इस वीडियो में कथित तौर पर लंबे समय से चले आ रहे कथित उइगर मुस्लिमों के मानवाधिकारों और मूलभूत स्वतंत्रता के हनन को दिखाया गया है.

इन अकाउंट्स पर सबसे पहले अपलोड हुआ वीडियो
इन कथित उइगर मुस्लिमों को आंखों पर काली पट्टी बांधी और पीछे बंधे हाथों के साथ मार्च कराया जा रहा है. इस घटना का जो वीडियो सामने आया है, उसमें ट्रेनों को भी खड़ा देखा जा सकता है. यानि माना जा रहा है कि इस वीडियो को एक रेलवे स्टेशन के किनारे ड्रोन के जरिए फिल्माया गया है.
हालांकि किसी ने अभी तक इस वीडियो के बिल्कुल पुख्ता होने की पुष्टि नहीं की है लेकिन पिछले हफ्ते इसे यूट्यूब (youTube) पर अपलोड किया गया है. जिस चैनल पर इसे अपलोड किया गया है वह भी हाल ही में बनाया गया है और उसका नाम 'वॉर एंड फियर' है. इस वीडियो की कुछ क्लिप्स को 'वॉरकॉम्बैटफियर' नाम के ट्विटर (Twitter) अकाउंट पर भी शेयर किया गया है. न्‍यूज 18 इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.


'हमारा लक्ष्य डर से लड़ना है'इस वीडियो के बारे में लिखा गया है, 'हमारा लक्ष्य डर से लड़ना है. आज के समाज में लोगों पर हमेशा सरकार बेहतर तकनीक के जरिए लोगों पर लगातार नज़र रखती है. ऐसे में लोगों की आजादी खो गई है. चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of China) के नेताओं ने अपने को देशभक्त कहा और अपने लोगों को प्यार करने वाला बताया. वास्तव में, वे केवल अपनी पार्टी और अपनी शक्ति को प्यार करते हैं.'इस बयान में यह भी जोड़ा गया है, 'यह वीडियो चीन में बनाए गए हैं. यह शिनजियांग उइगर स्वतंत्र क्षेत्र में लंबे समय से चीनी सरकार के जरिए किए जा रहे लोगों (उइगर मुस्लिमों) के मानवाधिकारों और मूलभूत स्वतंत्रताओं का शोषण है.''कई दावों में वीडियो को बताया गया सच'यूरोपीय सिक्योरिटी एजेंसी से जुड़े एक सूत्र ने इस वीडियो के बारे में स्काई न्यूज से बताया कि वे मानते हैं कि यह क्लिप सच्ची है और हो सकता है कि इस साल की शुरुआत में ली गई हो. उन्होंने यह भी जोड़ा कि हमने इस फुटेज (Footage) की जांच की है और पाया है कि यह सच है. सूत्र ने यह भी बताया कि इस फुटेज में करीब 600 कथित उइगर मुस्लिम कैदियों को एक जगह से दूसरी जगह पर लेकर जाते हुए देखा जा सकता है.ऑस्ट्रेलियन स्ट्रेटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट के इंटरनेशनल साइबर पुलिस सेंटर के रिसर्चर नाथन रसेर ने कहा कि वे भी इस वीडियो को सच मानते हैं. उन्होंने यह भी दावा किया कि यह वीडियो बायिनगोल, शिनजियांग का है. लेकिन उनका यह भी मानना है कि हो सकता है, इस वीडियो को पिछले साल की तारीख 20 अगस्त को शूट किया गया हो.


यह भी पढ़ें: अब आतंकियों और आतंकी हमलों पर लगेगी लगाम, अगले साल से शुरू होगा NatGrid
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज