लाइव टीवी
Elec-widget

दक्षिण चीन सागर: चीन ने माना ताइवान के विवादित इलाके से गुजरा है उसका विमान वाहक पोत

भाषा
Updated: November 18, 2019, 4:32 PM IST
दक्षिण चीन सागर: चीन ने माना ताइवान के विवादित इलाके से गुजरा है उसका विमान वाहक पोत
चीन ने परीक्षण के लिए उतारे जाने वाले पोतों के लिए इस क्षेत्र के पार जाने को सामान्य बात कहा है (सांकेतिक तस्वीर)

विवादित दक्षिण चीन सागर (South China Sea) के आस-पास क्षेत्रीय पड़ोसियों एवं स्वशासित ताइवान (Taiwan) से चीन के संबंध फिलहाल तनावपूर्ण चल रहे हैं.

  • Share this:
बीजिंग. चीन (China) ने सोमवार को पुष्टि की कि देशी तकनीक से तैयार उसका पहला विमान वाहक पोत (Aircraft Carrier) “नियमित” प्रशिक्षण और परीक्षण के लिए ताइवान जलडमरूमध्य (Taiwan Strait) से गुजरा. ताइवान ने इससे पहले चीन पर आगामी चुनावों के मद्देनजर डराने-धमकाने का आरोप लगाया था.

यह पोत बीजिंग (Beijing) का दूसरा विमानवाहक है और एक बार आधिकारिक तौर पर इसे सेवा में शामिल किए जाने के बाद यह चीन की नौसैन्य ताकत (Chinese Naval Strength) में जबर्दस्त इजाफा करेगा. विवादित दक्षिण चीन सागर (South China Sea) के आस-पास क्षेत्रीय पड़ोसियों एवं स्वशासित ताइवान से चीन के संबंध फिलहाल तनावपूर्ण चल रहे हैं. इस पोत को अभी कोई नाम नहीं दिया गया है.

चीन ने संवेदनशील क्षेत्र पार करने को कहा 'सामान्य बात'
चीन की नौसेना के प्रवक्ता चेंग देवेई ने आधिकारिक सोशल मीडिया (Social Media) अकाउंट पर कहा कि इस विमान वाहक ने “वैज्ञानिक शोध परीक्षणों एवं नियमित प्रशिक्षणों’’ के लिए दक्षिणी चीन सागर (South China Sea) में प्रवेश से पहले रविवार को संवेदनशील जलक्षेत्र (ताइवान जलडमरूमध्य) को पार किया.

चीन की नौसेना (Navy) के प्रवक्ता चेंग देवेई ने कहा कि परीक्षण के लिए उतारे जाने वाले पोतों के लिए क्षेत्र पार जाना “सामान्य बात” है. उन्होंने विस्तार से जानकारी दिए बिना कहा, “यह किसी खास लक्ष्य पर केंद्रित नहीं था और मौजूदा स्थिति से इसका कोई लेना-देना नहीं है.”

'ताइवान के चुनावों में हस्तक्षेप की मंशा रखता है चीन'
पोत इस जलडमरूमध्य से ऐसे समय में गुजरा है जब ताइवान (Taiwan) में जनवरी में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं. ताइवान के विदेश मंत्री जोसफ वु ने रविवार को ट्वीट किया कि चीन, “ताइवान के चुनावों में हस्तक्षेप की मंशा रखता है.” साथ ही कहा, “मतदाताओं को डराया-धमकाया नहीं जा सकता.”
Loading...

ताइवान के रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने कहा कि उसने पोत की गतिविधियों पर करीब से नजर रखने के लिए पोतों एवं विमानों को भेजा है. साथ ही कहा कि अमेरिकी एवं जापानी पोतों ने जलडमरूमध्य में उसका पीछा किया.

ताइवान को अपने क्षेत्र का हिस्सा मानने वाले चीन ने द्वीप के आस-पास सैन्य अभ्यास (Military Exercises) उस वक्त से बढ़ा दिए थे जब से बीजिंग को नापसंद करने वाले त्साई इंग वेन 2016 में सत्ता में आए थे. वेन इस बार फिर से चुनाव मैदान में हैं.

यह भी पढ़ें: चीन ने उइगर मुस्लिमों को हिरासत में क्‍यों लिया? लीक फाइल से हुआ खुलासा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 4:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com