Home /News /world /

नेपाल के बाद PAK पहुंचे चीनी रक्षा मंत्री, बेल्ट रोड इनिशिएटिव और रक्षा समझौतों पर बातचीत

नेपाल के बाद PAK पहुंचे चीनी रक्षा मंत्री, बेल्ट रोड इनिशिएटिव और रक्षा समझौतों पर बातचीत

इमरान खान और शी जिनपिंग. (फाइल फोटो)

इमरान खान और शी जिनपिंग. (फाइल फोटो)

China and Pakistan military deal: चीन पाकिस्तान के लिए एक बड़ा रक्षा आपूर्तिकर्ता है, जो लड़ाकू विमान से लेकर नौसैनिक युद्धपोत तथा अन्य अहम हथियार उपलब्ध कराता है. बता दें कि पाकिस्तान में आतंकवादी और खुफिया एजेंसी आईएसआई चीन में बने ड्रोन का बड़े पैमाने पर उपयोग कर रही है.

अधिक पढ़ें ...
    बीजिंग/इस्लामाबाद. चीन (China) के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही (General Wei Fenghe) ने पाकिस्तान (Pakistan) के साथ सैन्य सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया है. उन्होंने मंगलवार को कहा कि जोखिम और चुनौतियों का मिलकर सामना करने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग उच्चतर स्तर का होना चाहिए. बता दें कि वेई ने सोमवार को इस्लामाबाद में पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा से मुलाकात की और रक्षा सहयोग मजबूत करने के लिए एक समझौते पर दस्तखत किए. इस दौरान बेल्ट रोड इनिशिएटिव, सीपीईसी और कई अहम रक्षा समझौतों पर भी बातचीत हुई.

    चीनी रक्षा मंत्रालय ने वेई के हवाले से जारी बयान में नए समझौते (एमओयू) के बारे में कुछ नहीं कहा. दोनों ही देश विरले ही रक्षा समझौतों को सार्वजनिक करते हैं. चीन पाकिस्तान के लिए एक बड़ा रक्षा आपूर्तिकर्ता है, जो लड़ाकू विमान से लेकर नौसैनिक युद्धपोत तथा अन्य अहम हथियार उपलब्ध कराता है. वेई ने पाकिस्तानी राष्ट्रपति आरिफ अल्वी तथा प्रधानमंत्री इमरान खान से भी मुलाकात की. अल्वी ने चीन को पाकिस्तान का एक अच्छा दोस्त बताते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच पारंपरिक मित्रता और आपसी विश्वास का लंबा इतिहास है.

    बता दें कि पाकिस्तान साउथ चाइना सी, ताइवान, शिनजियांग, तिब्बत तथा अन्य मुद्दों पर चीन के नजरिये का दृढ़ता से समर्थन करता है. पीएलए डेली ने अल्वी को उद्धृत करते हुए कहा है, 'हम उम्मीद करते हैं कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपेक) के निर्माण के साथ ही रक्षा क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग और मजबूत होगा.' वहीं, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वैश्विक महामारी के दौर में चीनी रक्षा मंत्री का यह दौरा काफी अहम है, जो यह दर्शाता है कि चीन पाकिस्तान सरकार तथा सेना का मजबूती से समर्थन करता है.

    चीनी ड्रोन बढ़ा रहे भारत की मुश्किलें
    पाकिस्तान में सरकार समर्थित आतंकवादियों और वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआई चीन में बने ड्रोन का बड़े पैमाने पर उपयोग कर रही है. इनके जरिए न केवल सीमा पार भारत में हथियारों और ड्रग्स की तस्करी की जा रही है. बल्कि, पाकिस्तानी आतंकी इसे हथियार की तरह प्रयोग करने की तैयारी भी कर रहे हैं. भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भी कुछ दिनों पहले ड्रोन को लेकर चिंता जताई थी. जिसके बाद से डीआरडीओ एंटी ड्रोन सिस्टम को विकसित करने पर तेजी से काम कर रहा है. काउंटर टेररिज्म से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादी समूह और आईएसआई छोटे पैमाने पर हथियारों की तस्करी करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रहे थे लेकिन, हाल के दिनों में उन्होंने ड्रोन के आधुनिक वर्जन को खरीदा है. ये ड्रोन एक बार में बडी मात्रा में हथियारों को लेकर जाने में सक्षम हैं.

    चीन बोला- भारत से सकारात्मक संकेत
    चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनइंग ने कहा है हाल की एससीओ बैठक के निष्कर्षों को अमल में लाने पर विचार किया गया. कोविड-19, व्यापार, निवेश और सांस्कृतिक क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने की भी बात हुई. इस महीने की शुरुआत में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एससीओ की शिखर बैठक में शामिल हुए थे. इस वर्चुअल बैठक की मेजबानी रूस ने की थी. हुआ ने सोमवार की बैठक का जिक्र करते हुए कहा कि कई मुद्दों पर सहमति बनी है. कई सकारात्मक संकेत मिले हैं. कोविड-19 के खिलाफ जंग में एकजुटता नजर आई. सभी ने शंघाई सहयोग संगठन की भावना को बरकरार रखने पर सहमति जताई.

    Tags: China, China and pakistan, China Army, Imran Khan Government, India china standoff, PM Imran Khan, Xi jinping

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर