• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • चीन के मन में क्या? सर्दियों से पहले सैनिकों के लिए शेल्टर, एयर डिफेंस सिस्टम भी तैनात

चीन के मन में क्या? सर्दियों से पहले सैनिकों के लिए शेल्टर, एयर डिफेंस सिस्टम भी तैनात

सर्दी से बचने के लिए कम से कम दस गैरिसन तैयार किए हैं.(सीमा पर तैनात भारतीय सैनिक)

सर्दी से बचने के लिए कम से कम दस गैरिसन तैयार किए हैं.(सीमा पर तैनात भारतीय सैनिक)

चीन (CHina) की सेना तिब्बती पठारों (Tibetan Plateau) पर खून जमा देने वाली ठंड में रहने की आदी नहीं है. पैदल लांग रेंज पेट्रोलिंग के लिए वो अपनी बैरक से निकलते भी नहीं है, लिहाजा एलएसी पर अत्याधुनिक सर्वेिलांस उपकरण, माउंटेन रडार तैनात किए हैं ताकि दूर से ही सीमा पर नजर बनाई रखी जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रही तनातनी अभी खत्म नहीं हुई है. इस बीच, ड्रैगन ने LAC पर सर्दियों के मौसम के लिए हलचल बढ़ा दी है और सीमा पर तैयारियों को तेज कर दिया है. खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में पूर्वी लद्दाख में सेना के जवानों के रहने के लिए कई शेल्टर तैयार करवाए हैं. यही नहीं, चीन ने इन जगहों पर एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम को भी तैनात किया है. ऐसे में सवाल उठता है कि पिछले करीब 17 महीनों से भारत के साथ चल रही तनातनी के बीच ड्रैगन की इन तैयारियों का क्या मतलब है?

एस 400 एयर डिफ़ेंस सिस्टम को भी तैनात किया
सूत्रों के मुताबिक हर गैरिसन में 80 से ज़्यादा कंटेनरों को अलग-अलग जगह पर रखकर रहने का बेहतर इंतजाम किया जा रहा है. दरअसल चीन की सेना तिब्बती पठारों पर खून जमा देने वाली ठंड में रहने की आदी नहीं है. पैदल लांग रेंज पेट्रोलिंग के लिए वो अपनी बैरक से निकलते भी नहीं है, लिहाजा एलएसी पर अत्याधुनिक सर्विलांस उपकरण, माउंटेन रडार तैनात किए हैं ताकि दूर से ही सीमा पर नजर बनाई रखी जा सके. चीन ने अब इन जगहों पर एस 400 एयर डिफ़ेंस सिस्टम को भी तैनात किया हुआ है.

सर्दियों का मौसम आने में कुछ ही वक्त बचा है. सर्दियों के मौसम में एलओसी (LOC) और एलएसी (LAC) बर्फ़ की तरह ठंडी पड़ी है. सर्दियां आने से पहले ही दुश्मन पड़ोसी अपनी तैयारियों में जुट गए हैं. पहले बात चीन (China) से लगती एलएसी की. तकरीबन 17 महीने से एलएसी पर गर्माहट बढ़ी हुई है हालांकि इस बीच थोड़ा बहुत तनाव ज़रूर कम हुआ है. अब जब एक सर्दी जा चुकी है और एक सर्दी आने वाली है तो ऐसे में चीन सर्दियों में अपनी मजबूत स्थिति दर्ज करना चाहता है. चीन ने अब सीमा पर अपनी तैयारियों को और तेज कर दिया है.

सर्विलांस उपकरणों के अलावा अब चीन ने अस्थायी गैरिसन भी तैयार करने शुरू कर दिये हैं. ख़ुफ़िया रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि चीन ने पूर्वी लद्दाख सेना के जवानों के रहने के लिए कई नए शेल्टर तैयार किए हैं. चीन के जवानों को पिछली पूरी सर्दियों में जिस तरह से खुले इलाक़े में रहने को मजबूर होना पड़ा और बीमार पड़े, उसे देखते हुए चीन इस बार नए कंटेनर वाले गैरिसन रहने के लिए बंदोबस्त कर रहा है. उसने सर्दी से बचने के लिए कम से कम दस गैरिसन तैयार किए हैं.

यह भी पढ़ें- India-China Standoff: अब कौन सी चाल चल रहा चीन? LAC पर बना रहा मॉड्यूलर आर्मी शेल्टर

यह भी पढ़े-  तालिबान ने कश्मीर पर भारत को दिया झटका, पाकिस्तान के लिए कही ये बात

जहां एक ओर चीन तेजी से अपनी तैयारी कर रहा है वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान भी सर्दियों की तैयारी में जुट गया है. पाकिस्तान की तैयारियां चीन की तरह अपनी सेना की मौजूदगी और तैनाती को लेकर नहीं है बल्कि सर्दियों से पहले आतंकियों की घुसपैठ को बढ़ावा देने की है.

पाक के कैंपों में आतंकियों का जमावड़ा शुरू हुआ
उसके लिए पीओके में आतंकियों के सभी कैंपों पर आतंकियों का जमावड़ा शुरू हो गया है. सबसे पहले कोशिश ये की जा रही है कि नॉर्थ कश्मीर के इलाक़ों जहां सीजन में बर्फ़बारी सबसे पहले होती है वहीं से भारत में आतंकियों की घुसपैठ कराई जाए हालांकि ये कोशिश उरी की तरफ से लगातार जारी है.

कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों की सख्त निगरानी की वजह से भारत में आतंकियों की घुसपैठ न हो पाने से नाराज पाकिस्तान ने 200 दिन से जारी सीजफायर का भी उल्लंघन कर दिया. सूत्रों की माने तो रविवार रात पाकिस्तान ने तंगधार के तीथवाल इलाके में सीज फायर का उल्लंघन किया गया. 24 फरवरी 2021 के बाद यह पहली बार था जब पाकिस्तान की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन हुआ है.

पाकिस्तान ने दागे 60 एमएम मोर्टार
पाकिस्तान ने 60 एमएम के मोर्टार भारतीय पोस्ट पर दागे. पाकिस्तान की इस हरकत का भारतीय सेना ने करारा जवाब दिया. ख़ुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक़ मच्छिल सेक्टर के दूसरी ओर तेजियां में लश्कर के 6 आतंकी, तंगधार के दूसरी ओर जूरा पोस्ट में 10 से 12 अलग अलग तंजीमो के आतंकी, तंगधार के दूसरी ओर छाजुआ सैक्टर में 6 लश्कर , नौशेरा के दूसरी ओर पीओके से 6 लश्कर के आतंकी, उरी के दूसरी ओर पीओके से 6 आतंकी और पुंछ में एलओसी के दूसरी ओर से तक़रीबन 8-10 आतंकी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं.

पाकिस्तान की सेना पुराने रूट को फिर से एक्टिव करने और नए रूट तलाश कर आतंकियों को भारतीय सेना की नज़रों से बचा कर कश्मीर के रिसेप्शन एरिया तक पहुंचाने के लिए एक बड़े प्लान पर साल भर से तैयारी कर रही थी. अगर हम पिछले कुछ साल के आंकड़ों पर नज़र डालें तो साल 2018 में कुल 66 कोशिशें दर्ज हुईं जिनमें 328 आतंकी घुसपैठ करने की फिराक में थे. इनमें से 32 को तो सेना ने ढेर कर दिया. 150 आतंकी वापस भागे और 140 के क़रीब घुसपैठ करने में कामयाब हुए.

2019 में 40 बार घुसपैठ की कोशिश
साल 2019 में कुल 40 घुसपैठ की कोशिशें हुईं जिनमें 219 आतंकी कोशिश में थे जिसमें से 4 को सेना ने मार गिराया था  जबकि 75 आतंकी वापस भाग गए और 141 सीमा में घुसपैठ करने में कामयाब हो गए. 2020 में कुल 9 कोशिशें दर्ज हुई 19 को मारा गया 30 के क़रीब वापस भागे और 50 के क़रीब घाटी में एलओसी के अलग-अलग जगह से घुस पाने में कामयाब रहे. इस साल अब तक आधा दर्जन कोशिशे देखी गईं जिनमें 4 आतंकियों को एलओसी पर ही ढेर कर दिया गया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज