चीन की भारत को खुली चेतावनी- US के साथ जारी विवाद से दूर रहो, नहीं तो बर्बाद हो जाओगे

चीन की भारत को खुली चेतावनी- US के साथ जारी विवाद से दूर रहो, नहीं तो बर्बाद हो जाओगे
चीन ने भारत को दी धमकी- चीन-US विवाद से दूर रहो नहीं तो बर्बाद हो जाओगे

चीन (China) ने भारत (India) को 'सतर्क' रहने की सलाह देते हुए कहा कि इसमें दखल देने से आपका बड़ा नुकसान हो सकता है. जानकारों के मुताबिक चीन और अमेरिका (US) में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के बाद से शुरू हुआ ये विवाद दुनिया को 'नए कोल्ड वॉर' की तरफ धकेल सकता है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बीजिंग. चीन (China) और भारत (India) के बीच संबंधों में तनाव लगातार बना हुआ है. इसी क्रम में रविवार को चीन ने भारत को खुली धमकी देते हुए कहा कि उसे चीन-अमेरिका (US-China Dispute) विवाद से दूर रहना चाहिए. चीन ने भारत को 'सतर्क' रहने की सलाह देते हुए कहा कि इसमें दखल देने से आपका बड़ा नुकसान हो सकता है. जानकारों के मुताबिक, चीन और अमेरिका में कोरोना संक्रमण के बाद से शुरू हुआ ये विवाद दुनिया को 'नए कोल्ड वॉर' की तरफ धकेल सकता है.

चीनी सरकारी मीडिया 'ग्लोबल टाइम्स' में छपे एक लेख के मुताबिक, चीन ने कहा कि कुछ ऐसी शक्तियां हैं जो भारत सरकार को इस 'कोल्ड वार' में एक पक्ष के समर्थन में खड़ा होने के लिए कह रही हैं, जिससे इस स्थिति का वे लोग भी फायदा उठा सकें. ऐसी शक्तियां भारतीय सरकार के आधिकारिक स्टैंड से संबंध नहीं रखती हैं और चीन के बारे में गलत सूचनाएं और अफवाह फैला रही हैं. अगर स्पष्ट कहा जाए तो चीन-अमेरिका विवाद में भारत का फायदा बेहद कम, लेकिन नुकसान काफी बड़ा हो सकता है. इसी के चलते मोदी सरकार इस कठिन परिस्थिति के साथ काफी समझदारी के साथ निपट रही है.

इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी भारत-चीन सीमा विवाद में मध्यस्थता करने का ऑफर दे चुके हैं, हालांकि दोनों ही देशों ने इस ऑफर को ठुकरा दिया है.



 






भारत की अर्थव्यवस्था को लगेगा झटका!
चीन ने इसके साथ ही कहा, आगे एक नया कोल्ड वॉर शुरू होता है और भारत अमेरिका के पक्ष में जाने का तय करता है तो ये चीन और उसके व्यापारिक रिश्तों के लिए काफी घातक साबित हो सकता है. अगर भारत अमेरिका का मोहरा बनना चुनता है तो इन दोनों पड़ोसी देशों के ट्रेड रिलेशन ख़त्म हो जाएंगे जिससे भारत की अर्थव्यवस्था जो अभी काफी झटके झेल रही है, पर काफी बुरा असर पड़ सकता है. इस समय अर्थव्यवस्था के बर्बाद होने से बुरा भारत के लिए कुछ नहीं हो सकता. हम भारत को एक बार फिर सलाह देते हैं कि वह चीन के साथ अपने रिश्तों के बारे में स्पष्टता और गंभीरता से सोचे और आंतरिक राष्ट्रवाद की भावना के चक्कर में पड़े.

अमित शाह बोले- वार्ता जारी है
उधर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि मौजूदा सीमा विवाद को लेकर चीन के साथ कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है तथा उन्हें उम्मीद है कि इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा. इसके साथ ही पाकिस्तान को स्पष्ट चेतावनी में, शाह ने कहा कि भारत अपनी सीमाओं पर किसी भी उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं करेगा और ऐसे कदमों का उचित जवाब दिया जाएगा. उन्होंने एक निजी समाचार चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा, 'अभी कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर संवाद चल रहे हैं और मुझे विश्वास है कि यह मुद्दा हल हो जाएगा.'

गृह मंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को कमजोर नहीं होने देगी और देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए सभी कदम उठाएगी. 'इस संबंध में किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए.' सीमा पर पाकिस्तान की हरकतों के बारे में पूछे जाने पर, शाह ने कहा कि भारत ने कभी भी विस्तारवादी नीति नहीं अपनायी है लेकिन वह अपनी सीमाओं पर किसी भी उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं करेगा. शाह ने कहा, 'अगर कोई ऐसा करने की कोशिश करता है, तो हम मुंहतोड़ जवाब देंगे. यह हमारा कर्तव्य और जिम्मेदारी है.'

 


भारत, चीन ने सीमा पर भारी हथियार बढ़ाए

भारत और चीनी सेनाओं के बीच 25 दिन से भी ज्यादा समय से जारी गतिरोध के बीच दोनों देश पूर्वी लद्दाख के विवादित क्षेत्र के पास स्थित अपने सैन्य अड्डों पर भारी उपकरण और तोप व युद्धक वाहनों समेत हथियार प्रणालियों को पहुंचा रहे हैं. दोनों सेनाओं द्वारा क्षेत्र में अपनी युद्धक क्षमताओं को बढ़ाने की यह कवायद ऐसे वक्त हो रही है जब दोनों देशों द्वारा सैन्य व कूटनीतिक स्तर पर बातचीत के जरिये इस मुद्दे को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है. सूत्रों ने कहा कि चीनी सेना पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अपने पीछे के सैन्य अड्डों पर क्रमिक रूप से तोपों, पैदल सेना के युद्धक वाहनों और भारी सैन्य उपकरणों का भंडारण बढ़ा रही है.

मिली जानकारी के मुताबिक भारतीय सेना भी चीनी सेना की बराबरी के लिए इस क्षेत्र में अतिरिक्त जवानों के साथ ही उपकरणों और तोप जैसे हथियारों को वहां पहुंचा रही है. उन्होंने कहा कि जबतक पैंगोंग त्सो, गलवान घाटी और कई अन्य इलाकों में यथा स्थिति बरकरार नहीं होती तब तक भारत पीछे नहीं हटेगा. भारतीय वायुसेना विवादित क्षेत्र में कड़ी निगरानी कर रही है. काफी संख्या में चीनी सैनिक इस महीने के शुरू में वस्तुत: सीमा पार कर भारतीय क्षेत्र में घुस आए थे और तबसे पैंगोंग त्सो और गलवान घाटी में बने हुए हैं. भारतीय सेना ने चीनी जवानों के इस अतिक्रमण का तीव्र विरोध किया और उनके तत्काल वहां से वापस लौटने तथा शांति व यथास्थिति बहाल करने की मांग की. चीनी सेना ने डेमचोक और दौलतबेग ओल्डी में भी अपनी मौजूदगी बढ़ाई थी. ये दोनों संवेदनशील क्षेत्र हैं और पूर्व में यहां दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हो चुकी है.

यह भी पढ़ें- एक अरब साल ज्यादा पुरानी हैं पृथ्वी की Tectonic Plates, जानिए क्या बदलेगा इससे

वैज्ञानिकों ने देखा अब तक का सबसे चमकीला, तेज FBOT, जानिए क्या है यह

बहुत फायदेमंद है तेजी से चार्ज होने वाली नई बैटरी, जानिए कैसे करती है यह काम

वैज्ञानिकों ने ढूंढ लिया दिमाग का वह हिस्सा, जो ‘खत्म’ कर देता है दर्द
First published: June 1, 2020, 7:03 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading