लाइव टीवी

बीजिंग में जहां हमेशा होता था गांधी जयंती कार्यक्रम, चीन सरकार ने वहां अनुमति से किया इनकार

भाषा
Updated: October 2, 2019, 10:25 PM IST
बीजिंग में जहां हमेशा होता था गांधी जयंती कार्यक्रम, चीन सरकार ने वहां अनुमति से किया इनकार
बीजिंग में गांधी जी की एक मात्र प्रतिमा पर फूल चढ़ाता एक बच्चा. फोटो: पीटीआई

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की मूर्ति बीजिंग (Beijing) के चाओयांग पार्क में लगाये जाने के बाद पिछले 14 वर्षों से गांधी जयंती कार्यक्रम (Mahatma Gandhi Birth Anniversary) वहां पर आयोजित हो रहे हैं. इस पार्क में गांधी की प्रतिमा चीन में उनकी एकमात्र मूर्ति है. लेकिन इस बार चीन ने अनुमति देने से इनकार कर दिया.

  • Share this:
बीजिंग: बीजिंग स्थित एक सार्वजनिक पार्क में 2005 के बाद से प्रत्येक वर्ष आयोजित होने वाले महात्मा गांधी जयंती (Mahatma Gandhi birth Anniversary) समारोह को बुधवार को आखिरी समय में तब भारतीय दूतावास परिसर में स्थानांतरित करना पड़ा जब चीन (China) की सरकार ने कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया. यह जानकारी यहां स्थित भारतीय दूतावास (Indian Embassy)  अधिकारियों ने दी. अधिकारियों ने बताया कि यद्यपि चीनी प्राधिकारियों की ओर से इस संबंध में कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया कि कार्यक्रम के लिए अनुमति क्यों नहीं दी गई.

2005 में चीन के प्रसिद्ध मूर्तिकार युआन शिकुन द्वारा निर्मित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति बीजिंग के चाओयांग पार्क में लगाये जाने के बाद पिछले 14 वर्षों से गांधी जयंती कार्यक्रम वहां पर आयोजित हो रहे हैं. इस पार्क में गांधी की प्रतिमा चीन में उनकी एकमात्र मूर्ति है.

पहले अनुमति मांगने के बाद भी किया मना 
प्रत्येक वर्ष भारतीय दूतावास युआन के साथ मिलकर दो अक्टूबर को कार्यक्रम आयोजित करता है, जिसमें चीनी स्कूल के छात्र महात्मा गांधी के प्रसिद्ध विचार उद्धृत करते हैं और भारतीय समुदाय के सदस्य गांधी के भजन गाते हैं. युआन पार्क में ही स्थित जिन ताय कला संग्रहालय के क्यूरेटर भी हैं. दूतावास के अधिकारियों ने कहा कि आश्चर्यजनक रूप से इस वर्ष अनुमति प्राप्त नहीं हुई जबकि आवेदन काफी समय पहले किया गया था.

बाद में किया ये इस्तेमाल
उन्होंने बताया कि कार्यक्रम को तब दूतावास के प्रेक्षागृह में स्थानांतरित कर दिया गया जब संग्रहालय ने यह सूचित किया कि अनुमति के बिना कार्यक्रम आयोजित नहीं हो सकता. दूतावास अधिकारी इजाजत नहीं मिलने से हैरान थे और उन्हें कार्यक्रम को दूतावास परिसर में स्थानांतरित करने के लिए हड़बड़ी में वैकल्पिक इंतजाम करना पड़ा.

परंपरा में यह बदलाव ऐसे समय आया है, जब चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के एक अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए इस महीने बाद में भारत की यात्रा पर आने की उम्मीद है. हालांकि भारत या चीन किसी ने भी शिखर बैठक, उसकी तिथि या आयोजन स्थल की आधिकारिक पुष्टि नहीं की है. इस बीच चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिसरी ने गांधी की 150वीं जयंती पर भारतीय दूतावास में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया.
Loading...

बाद में शाम में मिसरी ने चाइना आर्टिस्ट एसोसिएशन के 13 चीनी कलाकारों को सम्मानित किया जिन्होंने गांधी के चित्रों को बनाया था. उन चित्रों का विमोचन राजनयिक ने कार्यक्रम के दौरान किया.

यह भी पढ़ें...
मोहन भागवत बोले-महात्मा गांधी संघ की शाखा में आए थे, की थी स्वयंसेवकों की तारीफ
VIDEO: ...जब गांधी जयंती पर 'बापू-बापू' कहकर फूट-फूट कर रोने लगे सपा नेता
अखिलेश यादव बोले- BJP के लोग दूर-दूर तक महात्मा गांधी के आदर्शों के पास नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चीन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 2, 2019, 10:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...