चीन की अर्थव्‍यवस्‍था को 17 साल का सबसे बड़ा झटका, ट्रेड वॉर ने खराब की हालत

ट्रेड वार की वजह से चीन का औद्योगिक उत्पादन 17 साल के सबसे निचले स्तर पर आ गया है. चीन और उसपर निर्भर देशों के लिए ये चिंता का विषय है.

ट्रेड वार (Trade War) की वजह से चीन का औद्योगिक उत्पादन (Industrial Production) 17 साल के सबसे निचले स्तर पर आ गया है. चीन (China) और उसपर निर्भर देशों के लिए ये चिंता का विषय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    अमेरिका (America) के साथ ट्रेड वार (Trade War) का खामियाजा चीन को भुगतना पड़ रहा है. चीन (China) की अर्थव्‍यवस्‍था को बड़ा झटका लगा है. ट्रेड वार की वजह से चीन का औद्योगिक उत्पादन 17 साल के सबसे निचले स्तर पर आ गया है. चीन और उसपर निर्भर देशों के लिए ये चिंता का विषय है.

    आंकड़ों के अनुसार चीन के औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर फरवरी 2002 के बाद के बाद सबसे निचले स्‍तर पर आ गई है. जुलाई में चीन के औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 4.4 फीसदी रही है. आंकड़ों से पता चलता है कि चीन की खुदरा बिक्री और निवेश की हालत भी खस्‍ता हो चुकी है. ऐसा भी कहा जा रहा है कि गिरावट की तेजी को रोकने के लिए चीन कुछ अहम ब्‍याज दरों में कटौती कर सकता है. प्रीमियर ली केकियांग ने सोमवार को इन आंकड़ों की पुष्टि की है और कहा कि चीन के लिए ये मुश्किल दौर है.

    एक्‍सपर्ट्स का ऐसा कहना है कि चीन का मंदी का असर भारत पर भी पड़ेगा. क्‍योंकि भारत के आयात में चीन की बड़ी हिस्‍सेदारी है. चीन की देश के आयात में 16 फीसदी से ज्‍यादा की हिस्‍सेदारी है. चीन भारत के लिए निर्यात का भी विश्‍व का चौथा सबसे बड़ा बाजार है. भारतीय निर्यात में चीन की हिस्‍सेदारी 4.39 फीसदी है.

    हालांकि कुछ एक्‍सपर्ट्स का ऐसा भी कहना है कि चीन की आर्थिक मंदी का बहुत ज्‍यादा असर भारत पर नहीं पड़ेगा. जबकि भारत को इसका लाभ भी हो सकता है. भारत चीन की कंपनियों के लिए शानदार ठिकाना भी बन सकता है. मंदी से बचने के लिए भारत में उत्‍पाद बेचने वाली कंपनियां यहीं पर उत्‍पादन भी शुरू कर सकती है. इससे भारत में रोजगार भी बढ़ेगा.

    जबकि इसपर अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के प्रवक्‍ता गेरी राइस ने हाल ही में कहा था कि अर्थव्‍यवस्‍था के मामले में भारत चीन से बहुत आगे है. भारत विश्‍व की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्‍यवस्‍था बना रहेगा.

    ये भी पढ़ें: अमेरिका बना 'छोटा इंडिया', 26 लाख भारतीय अप्रवासी मौजूद

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.