भारत के खिलाफ साइबर जासूसी ऑपरेशन चला रहा चीन, टेलीकॉम कंपनियों को बनाया निशाना- रिपोर्ट

कहा जा रहा है कि यह नया अभियान सैन्य जानकारी जुटाने के लिए किया जा रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

China's Cyber Espionage: रिकॉर्डेड फ्यूचर नाम की कंपनी के Insikt Group ने पाया है कि संदिग्ध चीनी समूह 2020 और 2021 में कई भारतीय संस्थानों को निशाना बना रहे हैं. इस समूह का नाम RedFoxtrot बताया जा रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. चीन साइबर तरीकों से भारतीय कंपनियों (Indian Companies) को निशाना बना रहा है. गुरुवार को साइबर खतरे की खुफिया जानकारी देने वाली कंपनी ने बताया कि चीन के साइबर सिपाहियों की एक इकाई ने भारत की टेलीकॉम कंपनियों, सरकारी एजेंसियों और कई डिफेंस कॉन्ट्रेक्टर्स को अपना शिकार बनाया है. इससे पहले भी खबर आई थी कि चीन भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में साइबर हमले कर रहा है. कहा जा रहा है कि यह नया अभियान सैन्य जानकारी जुटाने के लिए किया जा रहा है.

    हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रिकॉर्डेड फ्यूचर नाम की कंपनी के Insikt Group ने पाया है कि संदिग्ध चीनी समूह 2020 और 2021 में कई भारतीय संस्थानों को निशाना बना रहे हैं. इस समूह का नाम RedFoxtrot बताया जा रहा है. इससे पहले कंपनी ने जानकारी दी थी कि चीन ऊर्जा क्षेत्र में भारत के अहम इन्फ्रास्ट्रक्चर और पोर्ट क्षेत्र को निशाना बना रहा है. उस समय समूह की पहचान RedEcho के रूप में हुई थी. इस कंपनी का मुख्यालय अमेरिका में है.

    रिकॉर्डेड फ्यूचर के Insikt Group के एक व्यक्ति ने अखबार को बताया, 'खासतौर से भारत में हमने एक समूह की पहचान की है, जो बीते 6 महीनों में सफलतापूर्वक दो टेलीकॉम संस्थाओं, तीन डिफेंस कॉन्ट्रेक्टर्स और कई अतिरिक्त सरकारी और निजी क्षेत्र की संस्थाओं को निशाना बना रहा है.' Insikt के प्रतिनिधि ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया, 'विशेष रूप से, ये गतिविधियां उस समय हुईं, जब भारत और चीन के बीच काफी तनाव था.' बताया जा रहा है कि प्रभावित कंपनियों को इसकी जानकारी दे दी गई है.



    यह भी पढ़ें: चीन की यूनिवर्सिटी में पढ़ेगी 'वर्चुअल स्टूडेंट', इंसानों जैसे तीखे नैन-नक्श और तेज़ दिमाग

    रिपोर्ट के अनुसार, एक ब्लॉग पोस्ट में रिकॉर्डेड फ्यूचर ने बताया है कि ये प्राप्तियां नेटवर्क ट्रैफिक, हमलावरों की तरफ से इस्तेमाल किए गए मेलवेयर के फुटप्रिंट्स, डोमेन रजिस्ट्रेशन रिकॉर्ड्स और डेटा ट्रांसमिटिंग के विश्लेषण पर आधारित थीं. रिपोर्ट में कंपनी के प्रतिनिधि के हवाले से लिखा गया, 'हम मानते हैं कि इस क्षेत्र के संस्थानों को लगातार लक्ष्य बनाने के आधार पर RedFoxtrot सैन्य और सुरक्षा जानकारी हासिल करने के लिए साइबर जासूसी ऑपरेशन चला रहा है.'

    रिपोर्ट के अनुसार, रिकॉर्डेड फ्यूचर के एनालिसिस में पता चला है कि RedFoxtrot के तार पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की यूनिट 69010 से जुड़े हुए हैं. कहा जा रहा है कि इसके हेडक्वार्टर्स शिनजियां के उरुमकी में हो सकते हैं. मार्च 2021 में भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (Cert-IN) ने कहा था कि उन्हें संकेत मिले हैं कि चीन से जुड़े साइबर के लोग भारतीय परिवहन क्षेत्र के खिलाफ जासूसी अभियान चला रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.