• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • अमेरिकी विदेश मंत्री के दलाई लामा के प्रतिनिधियों से मुलाकात पर भड़का चीन, कही ये बात

अमेरिकी विदेश मंत्री के दलाई लामा के प्रतिनिधियों से मुलाकात पर भड़का चीन, कही ये बात

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने न्योगदुप डोंगचुंग से मुलाकात की थी (AP)

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने न्योगदुप डोंगचुंग से मुलाकात की थी (AP)

अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि अमेरिकी विदेश मंत्री (Us Secretary Of State) एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken) ने न्योगदुप डोंगचुंग से मुलाकात की, जो सेंट्रल तिब्बतन एमिनिस्ट्रेशन (सीएटी) का प्रतिनिधि के तौर पर कर रहे हैं, जिसे निर्वासित तिब्बत सरकार से भी जाना जाता है.

  • Share this:

    बीजिंग. भारत दौरे पर आए अमेरिकी विदेश मंत्री (Us Secretary Of State) एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken) ने बुधवार को नई दिल्ली में तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा (Dalai Lama) के प्रतिनिधियों से मुलाकात की. ‘ग्लोबल टाइम्स’ के मुताबिक, चीनी (China) विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि तिब्बत को चीन का आंतरिक मसला बताते हुए अमेरिका को इससे दूर रहने की नसीहत दी है. चीनी प्रवक्ता ने कहा, ‘अमेरिका, चीन के आंतरिक मामलों में दखल देने के लिए तिब्बत (Tibet) का इस्तेमाल करना और चीनी विरोधी लगाववादी ताकतों का समर्थन बंद करे.’

    चीन के मानवाधिकार रिकॉर्ड की बढ़ती आलोचनाओं के बीच, विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका से हाल के महीनों में सीटीए और तिब्बती वकालत समूहों को अंतरराष्ट्रीय समर्थन में बढ़ावा मिला है. अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि ब्लिंकन ने न्योगदुप डोंगचुंग से मुलाकात की, जो सेंट्रल तिब्बतन एमिनिस्ट्रेशन (सीएटी) का प्रतिनिधि के तौर पर कर रहे हैं, जिसे निर्वासित तिब्बत सरकार से भी जाना जाता है.

    चीन के विदेश मंत्री से मिले तालिबान के नेता, ड्रैगन को बताया भरोसेमंद दोस्त

    चीन के सैनिकों ने साल 1950 में तिब्बत पर अपना कब्जा कर लिया था और इसे बीजिंग ने पीसफुल लिबरेशन करार दिया था. इसके बाद चीनी शासन के खिलाफ असफल विद्रोह के बाद दलाई लामा साल 1959 में भारत भाग गए थे और तब से वह निर्वासन में हैं.

    नवंबर में निर्वासित तिब्बत सरकार के पूर्व अध्यक्ष लोबसांग सेनगेय ने व्हाइट हाउस का दौरा किया था दो छह दशकों में पहला ऐसा दौरा था. इसके एक महीने के बाद यूएस कांग्रेस ने तिब्बत नीति और समर्थन अधिनियम पास किया था, जिसमें दलाई लामा के उत्तराधिकारियों को चुनने के लिए तिब्बतियों के अधिकार और तिब्बत की राजधानी ल्हासा में एक अमेरिकी वाणिज्य दूतावास की स्थापना की मांग करता है.

    धरती को बर्बाद करने पर तुला चीन, बना रहा न्यूक्लियर हथियार का जखीरा
    वॉशिंगटन में साल 2016 में तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ दलाई लामा के साथ हुआ मुलाकात के बाद ब्लिंकन के साथ डोंगचुंग की बैठक तिब्बती नेताओं के लिए काफी अहमियत रखता है. चीन के विदेश मंत्रालय ने इस बारे में पूछे जाने पर फौरन किसी तरह की कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. बीजिंग ने कहा कि तिब्बत चीन का हिस्सा है और दलाई लामा का खतरनाक अलगाववादी करार दिया. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज