Home /News /world /

चीन ने किया इस हाइपरसोनिक इंजन का टेस्ट, बना सकता है DF-17 जैसी दूसरी मिसाइल

चीन ने किया इस हाइपरसोनिक इंजन का टेस्ट, बना सकता है DF-17 जैसी दूसरी मिसाइल

चीन की डीएफ-17 मिसाइल 1800 किलोमीटर से 2500 किलोमीटर की दूरी तक हमला करने में सक्षम है.

चीन की डीएफ-17 मिसाइल 1800 किलोमीटर से 2500 किलोमीटर की दूरी तक हमला करने में सक्षम है.

China Hypersonic Missile: चीन ने दावा किया कि है इस उपलब्धि से चीन की एयरोस्पेस क्षमताओं में बड़ा इजाफा होगा. वैज्ञानिकों ने कहा कि इंजन की सफल टेस्टिंग से चीन को रणनीतिक महत्व भी मिलेगा. हालांकि, उन्होंने खुलकर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया. चीन के एयरोस्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी के एक्सपर्ट हुआंग झिचेंग ने कहा कि इंजन के काम और इसकी विशेषता को देखते हुए कहा जा सकता है कि यह एक स्क्रैमजेट इंजन है.

अधिक पढ़ें ...

    बीजिंग. चीन ने सोमवार को एक नए हाइपरसोनिक इंजन (Hypersonic Engine) को टेस्ट किया है. दावा किया जा रहा है कि परीक्षण उड़ान के दौरान इंजन ने सभी पैमानों को पूरा किया है. इस इंजन के जरिए चीन डीएफ-17 जैसी दूसरी हाइपरसोनिक मिसाइल (Missile) बना सकता है. 11 मीटर लंबी चीन की डीएफ-17 मिसाइल 1800 किलोमीटर से 2500 किलोमीटर की दूरी तक हमला करने में सक्षम है.

    चीन भविष्य में इस इंजन की मदद से हाइपरसोनिक विमान और पृथ्वी की निचली कक्षा में जाने वाला प्लेन भी बना सकता है. अगर चीन नई हाइपरसोनिक मिसाइल बनाता है तो इससे भारत, अमेरिका समेत पूरी दुनिया को खतरा बढ़ जाएगा.

    चीन ने ताइवान में बड़ी घुसपैठ को दिया अंजाम, J-16 समेत 39 लड़ाकू विमान भेजे

    दो स्टेज के रॉकेट बूस्टर का किया गया इस्तेमाल
    चाइना सेंट्रल टेलीविजन (सीसीटीवी) ने बताया कि इस हाइपरसोनिक इंजन को सिंघुआ विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के तहत आने वाले लेबोरेटरी ऑफ स्प्रे कम्बश्चन एंड प्रपल्शन ने विकसित किया है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सोमवार को इस इंजन ने सफलतापूर्वक पहले उड़ान परीक्षण को पूरा किया है. टेस्ट फ्लाइट में सहायता के लिए दो स्टेज वाले रॉकेट बूस्टर का इस्तेमाल किया गया.

    उड़ान के दूसरे स्टेज में इंजन पूर्व निर्धारित ऊंचाई और स्पीड पर पहुंचा. इस दौरान इंजन का एयर इनलेट काम करने लगा और स्प्रे टेक्नोलॉजी से इंजन के कम्बश्चन चेंबर में जेट ईंधन की आपूर्ति भी शुरू हो गई.

    भारतीय सेना के आगे झुका चीन, कहा- हमें मिला अरुणाचल का लड़का, 1 हफ्ते में लौटेगा भारत

    वैज्ञानिक बोले- टेस्ट सफल, बहुत डेटा मिले
    रिपोर्ट में बताया गया है कि टेस्ट फ्लाइट के दौरान दूसरे स्टेज का रॉकेट बूस्टर हाइपरसोनिक इंजन से अलग नहीं हुआ. इसमें लगे पैराशूट की मदद से हाइपरसोनिक इंजन को एक रेगिस्तानी इलाके में सुरक्षित रूप से उतारा गया. इससे हाइपरसोनिक इंजन का इस्तेमाल दोबारा किया जा सकता है. चीनी वैज्ञानिकों ने कहा कि इस टेस्ट फ्लाइट से हाइपरसोनिक इंजन को विकसित करने से जुड़े कई महत्वपूर्ण डेटा मिले हैं. इस डेटा के जरिए हाइपरसोनिक इंजनों के कम्बश्चन चेंबर को और ज्यादा प्रभावी बनाने में मदद मिलेगी.

    Tags: China, Hypersonic, Nuclear-capable hypersonic missile

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर