लाइव टीवी

FATF में पाकिस्‍तान को ब्‍लैकलिस्‍ट होने से बचा सकता है चीन, ये है पूरा मामला

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 12:24 PM IST
FATF में पाकिस्‍तान को ब्‍लैकलिस्‍ट होने से बचा सकता है चीन, ये है पूरा मामला
पाकिस्‍तान को चीन कर सकता है सहयोग.

चीन (China), तुर्की (Turkey), और मलेशिया (Malaysia) ने पाकिस्‍तान (Pakistan) की ओर से उठाए गए कदमों की तारीफ की है. पाकिस्‍तान को ब्‍लैकलिस्‍ट से बचने के लिए 3 देशों के समर्थन की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 12:24 PM IST
  • Share this:
पेरिस. फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स (FATF) की ओर से टेरर फंडिंग (Terror funding) और मनी लॉड्रिंग (Money laundering) को देखते हुए ग्रे सूची में डाले गए पाकिस्‍तान (Pakistan) को अपने पुराने दोस्‍त चीन (China) का साथ मिल सकता है. अगर चीन का साथ पाकिस्‍तान को मिलता है तो इस दोस्‍ती के कारण वह एफएटीएफ में ब्‍लैकलिस्‍ट (Blacklist) होने से बच जाएगा. ऐसा एक खास नियम के तहत हो सकता है. जबकि भारत और अमेरिका ने पाकिस्‍तान को ब्‍लैकलिस्‍ट करने का समर्थन किया है. हालांकि पाकिस्‍तान के ग्रे लिस्‍ट से बाहर आने की संभावना नहीं है. उसे ज्यादा से ज्यादा डार्क ग्रे लिस्ट में डाला जाएगा.

एफएटीएफ की ओर से पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट में रखने के फैसले की औपचारिक घोषणा (Formal Announcement) शुक्रवार को की जाएगी. एफएटीएफ के जारी सत्र (Ongoing Session) का आखिरी दिन भी शुक्रवार ही है. अगर एफएटीएफ के ब्‍लै‍कलिस्टिंग नियम पर गौर करें, तो किसी भी देश को ब्‍लैकलिस्‍ट होने से तब बचाया जा सकता है, जब उसके समर्थन में तीन देश हों. ऐसे में मलेशिया और तुर्की ने पाकिस्‍तान को समर्थन किया है. अब उसे एक और देश के समर्थन की जरूरत है. माना जा रहा है कि चीन अपनी दोस्‍ती निभाते हुए पाकिस्‍तान को समर्थन कर उसे ब्‍लै‍कलिस्टिंग से बचा सकता है.

2020 में होगा अंतिम फैसला
एफएटीएफ की ओर से पाकिस्‍तान को निर्देश दिया है कि टेरर फाइनेंसिंग (Terror Financing) और मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) को पूरी तरह से खत्‍म करने के लिए और ज्‍यादा सख्‍त कदम उठाए. पेरिस (Paris) में मंगलवार को हुई बैठक में एफएटीएफ ने टेरर फंडिंग को रोकने के लिए पाकिस्‍तान की ओर से अब तक उठाए गए कदमों की समीक्षा की. अब एफएटीएफ पाकिस्‍तान की स्थिति पर अंतिम फैसला फरवरी 2020 में ही लेगा. चीन के पास एफएटीएफ का अध्‍यक्ष पद भी है.

चीन, तुर्की और मलेशिया ने पाकिस्‍तान की तारीफ
FATF की पेरिस में हुई बैठक में पाकिस्‍तान के आर्थिक मामलों के मंत्री हम्‍माद अजहर ने बताया कि उनके देश ने टेरर फाइनेंसिंग को रोकने के लिए तय 27 मानकों में 20 को लागू कर दिया है. डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन, तुर्की, और मलेशिया ने पाकिस्‍तान की ओर से उठाए गए कदमों की तारीफ की. एफएटीएफ की ब्‍लैक लिस्‍ट  में नहीं आने के लिए पाकिस्‍तान को तीन देशों के समर्थन की जरूरत थी, जो उसे इन तीनों देशों के तौर पर मिल गया. बैठक में भारत ने कहा कि इस्‍लामाबाद ने आतंकी हाफिज सईद को फ्रीज अकाउंट से पैसे निकालने की मंजूरी दी. लिहाजा पाकिस्‍तान को ब्‍लैक लिस्‍ट में डाला जाना चाहिए.

4 आतंकी गिरफ्तार
Loading...

पाकिस्तान की जांच एजेंसियों ने गुरुवार को आतंकवाद की फंडिंग के आरोपों पर प्रतिबंधित लश्कर-ए तैयबा और जमात उद दावा के 'शीर्ष चार नेताओं' को गिरफ्तार कर लिया है. गुरुवार को गिरफ्तार किए गए लश्कर-ए-तैयबा और जमात-उद-दावा के शीर्ष चार नेताओं में प्रोफेसर जफर इकबाल, याहया अजीज, मुहम्मद अशरफ और अब्दुल सलाम शामिल हैं. पाकिस्तान के आतंकवाद निरोधी विभाग  के एक प्रवक्ता ने कहा कि राष्ट्रीय कार्य योजना में 'महत्वपूर्ण प्रगति' हुई है क्योंकि अभियोजित संगठन JuD और LeT के मुख्य नेताओं को CTD पंजाब द्वारा आतंकवाद के फंडिंग के अपराधों में गिरफ्तार किया गया है.

यह भी पढ़ें : FATF ने ब्लैकलिस्ट किया तो पाकिस्तान की टूट जाएगी कमर, दुनिया कर सकती है बायकॉट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चीन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 11:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...