Home /News /world /

खून से लथपथ अफगानिस्तान को भुनाने में जुटा चीन, BRI के साथ लोकल मार्केट को हथियाने में लगा

खून से लथपथ अफगानिस्तान को भुनाने में जुटा चीन, BRI के साथ लोकल मार्केट को हथियाने में लगा

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)

चीन अपने बीआरआई प्रोजेक्ट (BRI Project) को अफगानिस्तान में फिर से एक्टिव कर रहा है और इसके लिए पेशावर से काबुल (Kabul) तक हाई स्पीड मोटर-वे की प्लानिंग को आगे बढ़ा रहा है.

    बीजिंग. अफगानिस्तान (Afghanistan) पर तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद चीन अब अपने महात्वाकांक्षी प्रोजेक्ट्स के लिए अफगानिस्तान को भुनाने में लगा है. बेल्ट एंड रोड (BRI Project) इनिशिएटिव प्रोजेक्ट चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) का सपना है. इसके जरिए चीन दुनिया के करीब 60 देशों को सड़क और समुद्री रास्तों से जोड़ना चाहता है. यही वजह है कि चीन अब तालिबान के जरिए अफगानिस्तान में अपना जाल बिछा रहा है. बीआरआई प्रोजेक्ट का काम बढ़ाने के साथ ही चीन यहां रेल नेटवर्क फैला रहा है और लोकल मार्केट को भी हथियाने में जुटा है.

    दरअसल, चीन के कब्जे में पाकिस्तान पहले ही आ चुका है, जो कि चीन को सीधे ग्वादर बंदरगाह से जोड़ रहा है. वहीं, चीन के बीआरआई प्रोजेक्ट के लिए अफगानिस्तान (Afghanistan) एक महत्वपूर्ण देश रहा है. अफगानिस्तान बीआरआई (BRI) का फॉर्मल मेंबर भी है, लेकिन उसने चीन के इस परियोजना को अपने यहा हरी झंडी नहीं दी थी. अब अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के वापस जाने और तालिबान के काबिज होने के बाद चीन अपनी विस्तारवादी नीति पर काम करना शुरू कर चुका है.

    शादी के नाम पर 21 साल की लड़की को उठा ले गए तालिबान के लोग, फिर किया गैंगरेप

    बीआरआई प्रोजेक्ट को अफगानिस्तान में फिर से एक्टिव करने के लिए चीन पेशावर से काबुल तक हाई स्पीड मोटर-वे की प्लानिंग को आगे बढ़ा रहा है. पाकिस्तान का नेशनल हाइवे नंबर N5 इस्लामाबाद होते हुए पेशावर और फिर अफगानिस्तान पाकिस्तान बॉर्डर खैबर पास के लंडी कोटल तक जाता है. इसके बाद अफगानिस्तान का AH76 हाइवे जो कि सीधा काबुल तक जाता है. पेशावर से काबुल तक की दूरी 280 किलोमीटर के करीब है, जिसे तय करने में 5 से 6 घंटे का समय लग जाता है . चीन की नजर अफगानिस्तान के खनिज पदार्थो के भंडार पर भी है.

    अफगानिस्तान में कॉपर, कोयला, आयरन, लीथियम और यूरेनियम के साथ-साथ तेल के भंडार हैं, जिसपर चीन काफी लंबे समय से नजर गड़ाए बैठा है. कुछ चीनी माईनिंग कंपनिया सुरक्षा कारणों को नजरअंदाज कर उस बाजार में उतरने का मन बना चुकी है. इसके साथ ही बीआरआई को सफल बनाने के लिए चीन रोड और रेल नेटवर्क का जाल बिझाने का पूरा प्लान तैयार कर चुकी है. बताया जा रहा है के करीब 5 रेल नेटवर्क की सारी तैयारियां हो चुकी हैं.

    ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने काबुल धमाकों की निंदा की, कहा- ऑपरेशन PITTING रहेगा जारी

    चीन के विदेश मंत्री वांग ही ने तालिबानी नेताओं से भी मुलाकत की थी और बताया जा रहा है उस वक्त ही चीन की तरफ से बीआरआई के सपने को अफगानिस्तान में साकार करने का ताना-बाना बुनना शुरू हो गया था. इसके अलवा चीन अफगनिस्तान की लोकल मार्केट को भी हतियाने में लग गया है. चीन ने अफगान के लोगों की सारी जरूरत का सामान अब चीन से सप्लाई करने की तैयारी कर ली है, जिसमें खाने-पीने के सामान के साथ-साथ पीने की पानी का भी प्लांट लगने की तैयारी है.

    Tags: Afghanistan, Afghanistan latest news, China, Hindi news, Pakistan, Taliban

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर