चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग को बिजनेसमैन ने 'जोकर' बताया, हुई 18 साल जेल की सजा

शी जिनपिंग की कोरोना वायरस पर रोक लगाने के उपायों पर झिकियांग ने की थी आलोचना
शी जिनपिंग की कोरोना वायरस पर रोक लगाने के उपायों पर झिकियांग ने की थी आलोचना

चीन में ईशनिंदा तो की जा सकती है लेकिन राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi jinping) की तो भूलकर भी नहीं. ऐसी ही गुस्ताखी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (Communist Party Of China) के सदस्य रेन झिकियांग (Ren Jhikiyang) ने कर दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 3:40 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन में ईशनिंदा तो की जा सकती है लेकिन राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi jinping) की तो भूलकर भी नहीं. ऐसी ही गुस्ताखी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (Communist Party Of China) के सदस्य रेन झिकियांग (Ren Jhikiyang) ने कर दी. झिकियांग को यह भूल बहुत भारी पड़ रही है. उसे 18 साल तक जेल में गुजारनी होगी. झिकियांग ने अपने एक लेख में राष्ट्रपति शी जिनपिंग को जोकर बताया था. कम्युनिस्ट पार्टी ने जुलाई में झिकियांग पर भ्रष्‍टाचार और दूसरे आरोप लगाए थे और अब उन्हें इन आरोपों के चलते जेल की सजा सुनाई गई है. झिकियांग 69 साल के हैं और वे बड़े बिजनेसमैन हैं. वे एक रियल एस्‍टेट कंपनी के अध्यक्ष रह चुके हैं.

झिकियांग ने जिनपिंग की कोरोना वायरस पर की थी आलोचना

झिकियांग को इसी साल के मार्च में गिरफ्तार कर लिया गया था. उन्होंने जिनपिंग की कारोना वायरस पर सरकारी रवैये को लेकर उनकी आलोचना की थी और उन्हें जोकर तक कह डाला था. कम्युनिस्ट पार्टी ने ने झिकियांग पर अनुशासनहीनता का आरोप लगाया है. झिकियांग, जिनपिंग के मुखर आलोचकों में से एक हैं.



झिकियांग के खिलाफ अप्रैल में जांच शुरू की गई थी
पार्टी के आरोप लगाए जाने के बाद झिकियांग के​ खिलाफ अप्रैल में जांच शुरू की गई थी. उन्हें पार्टी से जुलाई महीने में बाहर का रास्ता दिखाया गया तो यह बात पूरे देश के समझ में आ गई कि पार्टी झिकियांग के खिलाफ कार्रवाई करके बिजनेस क्लास को कठोर संदेश देना चाहती है. कोर्ट के आदेश में यह कहा गया था कि झिकियांग ने गंभीर तौर पर पार्टी के राजनीतिक, संगठनात्‍मक और उसकी अखंडता को तोड़ा है. यह भी आरोप लगाया गया कि उन्होंने अनुशासनहीनता बरती है.



झिकियांग ने जनता से रिश्वत लिया और पब्लिक फंड का दुरुपयोग किया

झिकियांग ने पार्टी की शर्त मान ली ​जिसके अनुसार वह अपनी सजा के खिलाफ अपील भी नहीं करेंगे. कोर्ट ने यह पाया कि झिकियांग ने जनता से रिश्वत लिया और पब्लिक फंड का दुरुपयोग किया. वह चीन की सरकार रियल एस्‍टेट कंपनी हुनयान प्रॉपर्टीज के चेयरपर्सन थे. उनपर गोल्‍फ मेंबरशिप कार्ड्स की खरीददारी का आरोप भी शामिल है. शिचेंग डिस्ट्रिक्‍ट के अनुशासन निरीक्षण आयोग की तरफ से बनाई गई डिस्ट्रिक्‍ट सुपरवाइजरी कमेटी की तरफ से सजा का ऐलान किया गया है.

ये भी पढ़ें: चीन ने H-6 बमवर्षक विमान का वीडियो जारी कर अमेरिका को चेताया, कहा- उड़ा देंगे

थाईलैंड में राजशाही खत्म करने की मांग, कहा- नया संविधान बने, लोकतंत्र बहाल हो 

सिख युवती के अपहरण और धर्मांतरण पर दिल्ली में प्रदर्शन, कहा-पाक में औरंगजेब का राज है

झिकियांग रेन के सोशल मीडिया पर फॉलोवर की लिस्ट काफी लंबी है. वह हमेशा सरकार की नीतियों का विरोध करते आए हैं. उनके विचारों को हमेशा विवादित करार दिया गया है. वर्ष 2016 में झिकियांग को चीनी सोशल मीडिया पर बैन कर दिया गया था. उस समय उन्‍होंने शी जिनपिंग के उस भाषण की आलोचना की थी जिसमें उन्‍होंने बताया था कि पार्टी को किस प्रकार से सोशल मीडिया का प्रयोग करना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज