लाइव टीवी

चीन दो साल में नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देगा

भाषा
Updated: October 13, 2019, 4:20 PM IST
चीन दो साल में नेपाल को 56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देगा
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग दो दिन की नेपाल यात्रा पर गए हुए थे (फाइल फोटो)

चीन (China) ने नेपाल (Nepal) के विकास कार्यों और संपर्क माध्यमों के विकास के लिए अगले दो सालों में उसे 56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देने की पेशकश की है.

  • Share this:
काठमांडू. चीन (China) अगले दो साल के दौरान नेपाल (Nepal) को उसके विकास कार्यक्रमों तथा उसे जमीनी संपर्क मार्ग से जुड़ा देश बनाने के लिये 56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देगा. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने शनिवार को इसकी घोषणा की.

शी ने यहां नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी (Bidhya Devi Bhandari) के साथ शनिवार को हुई बातचीत के दौरान यह घोषणा की. वह दो दिवसीय नेपाल यात्रा (Nepal Visit) पर शनिवार को यहां पहुंचे. वह पिछले 23 साल में नेपाल का दौरा करने वाले चीन के पहले राष्ट्र प्रमुख हैं.

नेपाल से दोस्ताना संबंधों और आपसी हित पर हुई बातचीत
भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के साथ दो दिवसीय अनौपचारिक शिखर वार्ता के बाद शी जिनपिंग शनिवार को यहां पहुंचे. उन्होंने विद्या देवी के साथ नेपाल के राष्ट्रपति निवास ‘शीतल निवास’ में मुलाकात की.

नेपाल के राष्ट्रपति कार्यालय (Nepal's President Office) द्वारा जारी बयान के अनुसार, दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच दोस्ताना संबंध, आपसी हित तथा अन्य विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की.

56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देने की पेशकश की
अधिकारियों ने बताया कि शी ने बातचीत के दौरान नेपाल को अगले दो साल में 3.5 अरब युआन यानी 56 अरब नेपाली रुपये की सहायता देने की पेशकश की. उन्होंने काठमांडू (Kathmandu) को तातोपानी ट्रांजिट प्वाइंट से जोड़ने वाले अर्निको राजमार्ग को दुरुस्त करने का भी वादा किया. यह राजमार्ग 2015 के भूकंप के बाद बंद है.
Loading...

उन्होंने कहा कि ट्रांस-हिमालयन रेलवे (Trans Himalayan Railway) की वहनीयता को लेकर अध्ययन शीघ्र शुरू किया जाएगा. इसके साथ ही चीन केरुंग-काठमांडू टनल रोड के निर्माण में भी मदद करेगा.

नेपाल से दोस्ती को बताया दुनिया में आदर्श
शी ने विद्या देवी (Bidhya Devi) द्वारा शनिवार को दिये सरकारी रात्रिभोज में कहा, 'हमारी दोस्ती दुनिया में आदर्श है और दोनों देशों के बीच कोई विवाद नहीं है.' शी ने कहा कि वह और विद्या देवी दोनों देशों के बीच संबंध, दोस्ती और साझेदारी को विकासित करने पर सहमत हुए हैं, जो नेपाल (Nepal) की समृद्धि व विकास में मददगार साबित होगी.

उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में दोनों देशों के बीच अधिक भरोसेमंद व बेहतर संपर्क सुविधाओं का निर्माण किया जाएगा. शी ने कहा, 'हम नेपाल के चौतरफा दूसरे देशों के भूभाग से घिरे देश के बजाय उसके जमीनी संपर्क मार्ग से जुड़ा होने के सपने को साकार करने में मदद करना चाहते हैं.'

नेपाल ने एक चीन नीति को दिया समर्थन
उन्होंने कहा कि चीन भूकंप (Earthquake) के बाद के नेपाल के निर्माण में मदद करेगा, ‘नेपाल की यात्रा वर्ष 2020’ को बढ़ावा देगा, शिक्षा क्षेत्र में मदद मुहैया कराएगा और शहरी विकास में भी मदद करेगा.

विद्या देवी ने ‘एक चीन नीति’ (One China Policy) को नेपाल का समर्थन दोहराया और कहा कि नेपाल किसी भी शक्ति को चीन के खिलाफ अपनी जमीन का इस्तेमाल नहीं करने देगा.

लुम्बिनी रेलवे लाइन निर्माण में मांगी चीन की मदद
उन्होंने नेपाल के विकास कार्यों में मदद के लिये चीन की सराहना की. उन्होंने रसुआगढ़ी-काठमांडू-लुम्बिनी रेलवे लाइन (Lumbini Railway Line) के निर्माण में चीन से मदद की भी मांग की.

शी ने मुख्य विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba) और नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के सह अध्यक्ष कमल दहल ‘प्रचंड’ से भी मुलाकात की.

यह भी पढ़ें: जापान में 'हेजिबीस' तूफान से 11 लोगों की मौत, 73 लाख लोग प्रभावित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चीन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 13, 2019, 3:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...