होम /न्यूज /दुनिया /WHO को बताने से कई महीनों पहले चीन में बढ़ गई थी PCR टेस्ट किट की खरीद- रिपोर्ट

WHO को बताने से कई महीनों पहले चीन में बढ़ गई थी PCR टेस्ट किट की खरीद- रिपोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो.

प्रतीकात्मक फोटो.

ऑस्ट्रेलियाई-अमेरिकी फर्म इंटरनेट 2.0 के अनुसार, पोलीमेरेज चेन रिएक्शन (PCR) की खरीदारी साल 2019 में हुबई प्रांत में अ ...अधिक पढ़ें

    बीजिंग. कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) को लेकर चीन पर कई तरह के आरोप लगते रहे हैं. इस बीच एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी की रिसर्च में चौंकाने वाले दावे किए गए हैं. रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के जिस प्रांत में कोरोना के मामले आए और ये महामारी का केंद्र बना, वहां महीनों पहले से ही इस महामारी की जांच के लिए इस्तेमाल में आने वाली पीसीआर किट (PCR Kit) की खरीदारी बड़ी मात्रा में शुरू हो गई थी. जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को चीन की ओर से कोरोना के बारे में कुछ नहीं बताया गया था.

    ऑस्ट्रेलियाई-अमेरिकी फर्म इंटरनेट 2.0 के अनुसार, पोलीमेरेज चेन रिएक्शन (PCR) की खरीदारी साल 2019 में हुबई प्रांत में अचानक बढ़ गई थी. साल के दूसरे हिस्से में इसकी खरीदारी में और तेजी आई. पीसीआर वह तरीका है, जिसमें जांचकर्ता संक्रामक या जेनेटिक बीमारी को लेकर डीएनए सैंपल की जांच करते हैं.

    COVID-19: डेल्टा वेरिएंट पर कारगर है फाइजर की वैक्सीन, लेकिन 6 महीने बाद कम हो जा रहा असर- नई स्टडी

    मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में सबसे पहले कोरोना का मामला सामने आया था. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पहले ही बताया था कि चीन के अधिकारियों ने उसे 31 दिसंबर 2019 को पहली बार सूचित किया था कि शहर में निमोनिया के मामले सामने आ रहे हैं, जिसका कारण ज्ञात नहीं है.

    इसके बाद 7 जनवरी 2020 को चीनी अधिकारियों ने नए प्रकार के कोरोना वायरस की पहचान की, जिसे SARC-CoV-2 के रूप में जाना गया. माना जाता है कि इसी वायरस से कोरोना बीमारी फैली. धीरे-धीरे ये दुनिया के हर कोने में फैल गया. आज करीब 230 मिलियन लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं. दुनियाभर में 48 लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

    डेल्टा वेरिएंट पर कारगर है फाइजर की वैक्सीन, लेकिन 6 महीने बाद कम हो जा रहा असर- नई स्टडी

    हालांकि, कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने कहा कि इंटरनेट 2.0 की रिपोर्ट में इस तरह के निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए पर्याप्त जानकारी नहीं है. कुछ जानकारों का कहना है कि पीसीआर टेस्ट में बढ़ोतरी से निष्कर्ष पर पहुंचना ठीक नहीं है, क्योंकि ये कई सालों से किसी भी संक्रामक बीमारी के टेस्ट के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल में आता है और इसकी लोकप्रियता बढ़ी है.

    Tags: Coronavirus, RT PCR Test, WHO

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें