होम /न्यूज /दुनिया /चीन में एक दिन में मिले अबतक के सबसे ज्यादा कोरोना केस, पॉजिटिव बच्‍चों को मां-बाप से किया जा रहा अलग

चीन में एक दिन में मिले अबतक के सबसे ज्यादा कोरोना केस, पॉजिटिव बच्‍चों को मां-बाप से किया जा रहा अलग

मार्च तक चीन ने लॉकडाउन, ग्रुप टेस्टिंग और अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर सख्त प्रतिबंधों के साथ दैनिक मामलों को कंट्रोल कर रखा था, लेकिन हाल के हफ्तों में इसमें बेतहाशा वृद्धि देखने को मिली है.

मार्च तक चीन ने लॉकडाउन, ग्रुप टेस्टिंग और अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर सख्त प्रतिबंधों के साथ दैनिक मामलों को कंट्रोल कर रखा था, लेकिन हाल के हफ्तों में इसमें बेतहाशा वृद्धि देखने को मिली है.

Covid cases in China: चीन के सबसे बड़े शहर शंघाई में 2.5 करोड़ लोग लॉकडाउन में कैद हैं. शंघाई में बुधवार को पूरी आबादी ...अधिक पढ़ें

बीजिंग. चीन एक बार फिर से कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से जूझ रहा है. बुधवार को 20,472 से अधिक कोरोना के नए मामले सामने आए हैं. महामारी की शुरुआत के बाद से एक दिन में रिपोर्ट की जाने वाले डेली केस की यह सर्वाधिक संख्या है. हालांकि, राहत की बात यह है कि कसी भी मरीज की जान नहीं गई. शंघाई में लॉकडाउन (Shanghai Lockdown) के बावजूद मामले लगातार बढ़ रहे हैं. इससे सरकार की चिंता बढ़ गई है.

मार्च तक चीन ने लॉकडाउन, ग्रुप टेस्टिंग और अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर सख्त प्रतिबंधों के साथ दैनिक मामलों को कंट्रोल कर रखा था, लेकिन हाल के हफ्तों में इसमें बेतहाशा वृद्धि देखने को मिली है.

चीन के शंघाई में कोरोना से हाहाकार, सेना ने संभाली कमान, दूसरे शहरों से भेजे गए 15 हजार स्वास्थ्यकर्मी

कोविड-पॉजिटिव बच्चों को मां-पिता से अलग किया जा रहा
शंघाई में क्वारंटाइन सेंटर पर कोविड पॉजिटिव मरीजों की भारी भीड़ है. कोविड-पॉजिटिव शिशुओं और बच्चों को माता-पिता से अलग किया जा रहा है. इस नीति ने पीड़ित परिवारों की चिंता और बढ़ा दी है.

अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि चीन के सबसे बड़े शहर शंघाई का कोरोना के राष्ट्रीय आंकड़ों में 80 प्रतिशत से अधिक हिस्सा है. शंघाई के एक शीर्ष अधिकारी ने माना है कि इससे निपटने के लिए अपर्याप्त तैयारी थी.

शंघाई में पूरी आबादी की नए सिरे से होगी टेस्टिंग
सीसीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के सबसे बड़े शहर शंघाई में 2.5 करोड़ लोग लॉकडाउन में कैद हैं. शंघाई में बुधवार को पूरी आबादी पर नए सिरे से टेस्टिंग की जाएगी. भोजन की कमी और लॉकडाउन के कारण निवासियों में गुस्सा बढ़ रहा है.

वुहान लैब में मिला था पहला कोरोना केस
आपको बता दें कि 2019 के अंत में चीन के वुहान में पहली बार कोरोना वायरस का पता चला था. यह महामारी यहां से पूरी दुनिया में फैल गई. अमेरिकी राष्ट्रपति ने तो इसे चीनी वायरस करार दिया था.

चीन के कोरोना वेरिएंट और ओमिक्रॉन XE से कोविड म्यूटेशन पर बढ़ी चिंता, एक्सपर्ट ने खतरे को लेकर किया आगाह
बीबीसी के चीन संवाददाता स्‍टीफन मैकडॉनल कहते हैं कि चीन अपनी असफल साबित हो रही जीरो कोविड नीति को इसलिए अभी लगातार लागू कर रहा है, ताकि शी जिनपिंग को फेल साबित होने से बचाया जा सके. उन्‍होंने कहा कि चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी की अक्‍टूबर में बैठक होनी है, ताकि शी जिनपिंग के तीसरे कार्यकाल को मंजूरी दी जा सके.

चीन का दावा, कोरोना वायरस विदेशों से आ रहा
स्‍टीफन ने कहा कि ऐसा डर है कि अगर जीरो कोविड नीति से हटकर चीन कोई अगर और नीति अपनाता है, तो इससे यह संदेश जाएगा कि इस नीति के तहत सरकार की हाल के समय में अपनाई गई नीतियां गलत थीं. इससे चीन में पीड़‍ित लोग अनावश्‍यक रूप से कुपित हो जाएंगे.

उधर, चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी लगातार अपनी जनता को यह बता रही है कि कोरोना विदेशों से आ रहा है. ताजा प्रकोप के लिए दक्षिण कोरिया से आए कपड़ों को जिम्‍मेदार ठहराया गया है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

Tags: Coronavirus, Covid vaccine

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें