लाइव टीवी

चीन ने 9 माह की प्रेग्नेंट नर्स को बताया हीरो, अब दुनियाभर में जमकर हो रही आलोचना

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 12:05 AM IST
चीन ने 9 माह की प्रेग्नेंट नर्स को बताया हीरो, अब दुनियाभर में जमकर हो रही आलोचना
एक नौ महीने की प्रेग्नेंट नर्स के वीडियो पर चीन की आलोचना की जा रही है (CCTV फुटेज)

लोग संवेदनशील हालत में एक प्रेग्नेंट महिला (Pregnant Woman) को गंभीर रूप से संक्रामक माहौल (highly contagious environment) में काम करने की छूट देने के लिए हॉस्पिटल (Hospital) की आलोचना कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 12:05 AM IST
  • Share this:
चीन. चीन (China) चाहता था कि एक नौ-महीने की प्रेग्नेंट महिला (Pregnant Woman) को, जो कोरोना वायरस (Corornavirus) से जुड़े एक ऑपरेशन में नर्स की जिम्मेदारी निभा रही थी, उसे दुनिया एक 'हीरो' की तरह से देखे. हालांकि जिस वीडियो में इस प्रेग्नेंट नर्स को अपना काम करते हुए दिखाया गया है, उसे पूरी दुनिया के लोगों के गुस्से और बुरी प्रतिक्रियाओं का सामना करना पड़ा है.

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक यूजर ने सोशल मीडिया (Social Media) पर लिखा, झाओ यू को एक प्रोपेगेंडा के हथियार (Propaganda Tool) के तौर पर प्रयोग किया जा रहा है. लोग इस वीडियो को देखकर अस्पताल की आलोचना कर रहे हैं कि उसने ऐसी संवेदनशील हालत में एक महिला को इतने संक्रमित माहौल में काम कैसे करने दिया. हालांकि कहानी सिर्फ इतनी ही नहीं है.

कोरोना वायरस से अब तक हो चुकी है 2,400 लोगों की मौत
चीन एक देश के तौर पर वहां फैले अब तक के सबसे घातक और रहस्यमयी वायरस में से एक कोविड-19 से जूझ रहा है, जिसका प्रसार चीनी शहर वुहान (Wuhan) से हुआ है. चीन के सामने नए कोरोनावायरस के प्रसार के दौर में जनता के सामने अपना ऐसा चेहरा पेश करने की चुनौती है कि सब सामान्य है. इस वायरस के प्रसार से अभी तक 2,400 लोगों की मौत हो चुकी है और इससे कुल 77,000 लोग संक्रमित हो चुके हैं.



ऐसे में यह काम चीन कैसे कर रहा है? ऐसे में राज्य संचालित मीडिया एजेंसियों (State run media agencies) के हवाले से कई सारे वीडियो चीनी इंटरनेट पर पोस्ट किए जा रहे हैं, जिनका प्रयास चीन की बहुत सारी महिला नर्सों को एक हीरो के तौर पर पेश किया जाना है. यहां तक कि इन नर्सों को अपने बालों की कुर्बानी देते हुए रोते हुए भी दिखाया गया है, ऐसा वे इसलिए कर रही हैं ताकि वे बीमारी के खिलाफ किए जा रहे प्रयासों में मदद कर सकें.

कई लोगों ने चीनी सरकार के प्रोपेगेंडा वीडियोज की आलोचना की
ऐसे ही एक वीडियो को ट्विटर (Twitter) पर शेयर किया गया था, जिसमें दिखाया गया था कि एक चीनी नर्स कैसे अपने बालों का जूड़ा बनाने का प्रयास करती है, फिर उसे याद आता है कि उसके तो बाल ही नहीं हैं.

कई सारे यूजर्स ने वाइबो (Weibo- जो कि चीन का देशी ट्विटर माना जाता है) पर चीनी सरकार के ऐसे प्रोपेगेंडा वीडियोज का प्रयोग करने के लिए आलोचना की है.

'महिलाओं की तारीफ उनके काम को लेकर होनी चाहिए, न कि उनकी खासियतों पर'
साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की खबरों के मुताबिक फुदान यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र विभाग (Sociology Department) की एक एसोसिएट प्रोफेसर शेन येफेई ने पहले कहा था कि कई सारी नर्सों ने अपने बाल छोटे करा लिए हैं और तस्वीरों में वे खुश दिख रही हैं. हालांकि लोगों ने अपने गुस्से का इजहार किया, जब महिलाओं ने हॉस्पिटल में कैमरे के सामने अपने बाल शेव करवाए.

शेन ने कहा था कि शासन का अपना एजेंडा है, और यह दूसरों पर दबाव डाल सकता है. मेडिकल वर्कर्स (Medical Workers)  की उनके काम के दौरान प्रदर्शन को लेकर उनकी तारीफ की जानी चाहिए, न कि उनके महिला होने की खासियत से जुड़ी चीजों पर.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस पर चीन के राष्ट्रपति का बड़ा बयान, सबसे बड़ी हेल्थ इमरजेंसी बताया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 8:11 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर