अपना शहर चुनें

States

चीन का दावा-भारत से आए मछली के पैकेटों पर कोरोना वायरस

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो

चीन (China) में दूसरे देशों से आयातित फ्रोजेन खाद्य सामग्री (frozen fish packets) जैसे कि मछली या मांस के नमूने कोरोना वायरस (Coronavirus) टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं. जून महीने के बाद 10 प्रांतों में ऐसे मामले सामने आए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2020, 10:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत से चीन (China) निर्यात किए गए फ्रोजेन पॉम्फ्रेट मछली के पैकेटों पर कोरोना वायरस (Coronavirus) के नमूने पाए गए हैं. चीन के कस्टम विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. सैंपल में कोरोना वायरस पाए जाने के बाद स्थानीय गोदामों को सील कर दिया गया है और पोर्ट के लोकल स्टाफ की टेस्टिंग की जा रही है.

नया मामले तब आया है जब एक हफ्ते पहले चीनी अधिकारियों ने एक भारतीय कंपनी की ओर से निर्यात किए गए कैटलफिश के पैकेज पर कोरोना वायरस पाया था. वायरस पाए जाने के बाद भारतीय कंपनी से आयात को सस्पेंड कर दिया गया.

विशेषज्ञों का कहना है कि ये कोई चौंकाने वाली बात नहीं है कि फ्रोजेन पैकेज (frozen packets) पर कोरोना वायरस के सैंपल पाए गए हों, अगर उसे किसी संक्रमित व्यक्ति ने छुआ हो. विशेषज्ञों ने कहा कि ये ज्यादा लोगों को संक्रमित करने का संभव तरीका नहीं लगता, जब तक कि इस तरह की घटनाएं बहुत ज्यादा ना होने लगें.



चीन ने नवंबर की शुरुआत में कहा था कि बीजिंग के करीब तिआनजिन शहर स्थित एक गोदाम का कर्मचारी जर्मनी से आयातित सुअर के मांस को छूने के बाद कोरोना संक्रमित पाया गया. जर्मनी से आयातित मांस को ब्रेमेन शहर से तिआनजिन भेजा गया था, उसके बाद उसे शैंदोंग प्रांत के देझोऊ शहर ले जाया गया.
17 अक्टूबर को चीन के सेंटर फॉर डिजीज (CCDC) कंट्रोल ने घोषणा की थी कि किंग्दाओ शहर में आयातित मछली के पैकेट से जिंदा कोरोना वायरस पाया गया था, जिसे आइसोलेट किया गया. सेंटर फॉर डिजीज ने शहर में संक्रमण के नए मामलों के लिए इसे जिम्मेदार बताया. हाल के दिनों में चीन सरकार ने फ्रोजेन मीट और समुद्री भोजन के आयात को चेक करने के लिए कई कदम उठाए हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक 15 सितंबर तक उपलब्ध डाटा के मुताबिक अभी तक चीन के 24 प्रांतों में 20 लाख 98 हजार सैंपल टेस्ट किए गए हैं. इनमें 6 लाख 70 हजार सैंपल कोल्ड चेन फूड या फूड पैकेजिंग के हैं. 10 लाख से ज्यादा कर्मचारी और 10 लाख से ज्यादा सैंपल पर्यावरण और माहौल से जुड़े हैं.

अभी तक जिस देश से भी आयात हुए फ्रोजेन खाने के पैकेट पर कोरोना वायरस मिला है, चीन ने उस कंपनी से आयात को सस्पेंड कर दिया है. भले ही एक हफ्ते के लिए ही क्यों ना किया हो. चीन के कस्टम अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि दो कोल्ड चेन के लिए आयातित सामग्री कोरोना वायरस पॉजिटिव पाई गई हैं. इनमें से एक भारतीय कंपनी द्वारा भेजी गई फ्रोजेन पॉम्फ्रेट का पैकेज है, जबकि दूसरी रूस से भेजी गई फ्रोजेन सॉलमन का पैकेज है. ये दोनों पैकेट टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं.

भारतीय कंपनी की ओर से भेजा गया सामान पूर्वी चीन के फुजियान प्रांत के फुझोऊ पोर्ट पहुंचा था. इस पैकेज में से रविवार को ढाई हजार पैकेट कोल्ड स्टोरेज में भेजे गए. चीन के सीडीसी के मुताबिक 2,117 पैकेट अभी भी स्टॉक में हैं, जबकि 383 पैकेट बेचे गए हैं.

ये भी पढ़ेंः 2020 से भी ज्यादा खराब होगा 2021, ऐसा क्यों कहा जा रहा है?

स्थानीय मीडिया के मुताबिक सभी संबंधित सामान सील कर दिए गए हैं और इन्हें टर्मिनल मार्केट में बेचे जाने से रोक दिया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक सभी कर्मचारियों और उनके संपर्क में आए लोगों की टेस्टिंग की जा रही है. हालांकि भारतीय कंपनी के बारे में चीन की ओर से जारी किए गए बयान में कोई जानकारी नहीं दी गई है.

ये भी पढ़ेंः Covid-19: जानिए क्या है वह नई तकनीक जिससे बनी हैं दो नई वैक्सीन

चीनी मीडिया में कहा गया है कि भारत से भेजे गए फ्रोजेन फूड में कोरोना वायरस मिलने का ये पहला मामला नहीं है. नवंबर में भी कोलकाता स्थित एक कंपनी की ओर से भेजे गए सामान पर भी कोरोना वायरस पाए गए थे. साथ ही दूसरे देशों से भेजे गए समुद्री भोजन और मांस के पैकेट्स पर भी कोरोना वायरस मिले हैं.

जून महीने से चीन में बीजिंग, लिओनिंग, अन्हुई, फुजियान और जिआंग्शी सहित 10 प्रांतों में आयातित फ्रोजेन फूड या फूड पैकेजिंग के सैंपल कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं. बुधवार तक चीन में 3,700 आयातित कोरोना वायरस संक्रमण के मामले रिपोर्ट किए गए हैं. कोरोना वायरस के कन्फर्म मामलों की संख्या 86,369 हैं, जबकि 4,634 लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज