चीन में डिलीवरी बॉय पाया गया संक्रमित, 50 से ज्यादा लोगों को पहुंचाया था खाना

फ़ूड डिलीवरी करने वाले लोगों के लिए सरकार के दिशा-निर्देश तय हैं.
फ़ूड डिलीवरी करने वाले लोगों के लिए सरकार के दिशा-निर्देश तय हैं.

भारत समेत दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन (Lockdown) के बाद पाबंदियां हटाई जाने लगी हैं. फूड डिलीवरी जैसी कई सर्विस फिर शुरू हो गई है. लेकिन इनसे कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण का खतरा भी है. सतर्क रहने की जरूरत है. 

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) ने छह महीने से दुनिया में कोहराम मचा रखा है. दुनिया को जब इसकी दवा नहीं मिली, तो उसने बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का तरीका आजमाया. कई देशों में लॉकडाउन के तहत तमाम पाबंदियां लगा दी गईं. करीब दो महीने के बाद ये पाबंदियां हटनी शुरू हो गई हैं. इनमें फूड डिलिवरी (Food Delivery) की सर्विस भी शामिल है. लेकिन ऐसी सर्विस शुरू होने के साथ ही कोरोना का संक्रमण बढ़ने का खतरा ही बढ़ गया है. चीन में तो हाल ही में फूड डिलीवरी मैन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद यह भी जांच की जा रही है कि क्या ऐसे लोग इस वायरस के सुपर स्प्रेडर हो सकते हैं.

कोरोना वायरस की खबर पर नजर रखने वाले जानते हैं कि इसका पहला केस चीन (China) में आया और फिर यह तेजी से फैला. करीब 80 हजार केस के बाद चीन ने इस वायरस पर लगभग नियंत्रण कर लिया. लेकिन करीब एक महीने के बाद चीन में यह वायरस फिर से सिर उठा रहा है. चीन में मंगलवार को कोविड-19 (Covid-19) के 29 केस सामने आए. इनमें से 13 बीजिंग में आए, जहां 249 संक्रमितों का इलाज पहले से चल रहा है.

चीन में कोरोना पॉजिटिव के जो नए केस आए हैं, उनमें एक फूड डिलीवरी मैन भी शामिल है. हेल्थ अथॉरिटी के मुताबिक 47 साल के इस व्यक्ति ने 1 जून से 17 जून तक अलग-अलग इलाकों में फूड डिलीवरी की है. वैसे तो बीजिंग में फूड डिलीवरी मैन पहली बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया है, लेकिन इसने अधिकारियों की चिंता बढ़ा दी है.



यह भी पढ़ें: COVID-19: डिप्टी सीएम बोले- क्वारंटाइन सेंटर जाने से बढ़ रही मुश्किलें
कोरोना पीड़ित इस डिलीवरी मैन ने पिछले हफ्ते रोजाना करीब 50 लोगों को खाना पहुंचाया. इसके बाद उसके संपर्क में आए सभी डिलीवरी मैन को आइसोलेशन सेंटर में क्वारंटाइन कर दिया गया है. इसके अलावा उन सभी लोगों की जांच की जा रही है, जिन्हें उसने खाना पहुंचाया. बीजिंग म्यूनिसिपल से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि इस केस के सामने आने के बाद रेस्टोरेंट और फूड डिलीवर करने वालों पर सख्ती बढ़ाई जा सकती है.

राहत की बात यह है कि भारत में हाल में किसी डिलीवरी मैन में कोविड-19 का संक्रमण नहीं पाया गया है. लेकिन शुरुआती दौर में एक डिलीवरी मैन इस वायरस से संक्रमित हो चुका है. डिलीवरी मैन आमतौर एक दिन में 25-30 या इससे अधिक लोगों के संपर्क में आते हैं. ऐसे में लोगों को अपनी डिलीवरी लेते वक्त पूरी सावधानी बरतने जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज