गिफ्ट डिप्लोमेसी: चीन ने श्रीलंका को दिया युद्धपोत, हिंद महासागर में दबदबा बढ़ाने की कवायद

चीन ने श्रीलंका को गिफ्ट किया है 2015 में पीएलए नौसेना से रिटायर्ड युद्धपोत. वह हिंद महासागर में अपना प्रभाव बढ़ाने की लगातार कोशिश कर रहा है.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:21 AM IST
गिफ्ट डिप्लोमेसी: चीन ने श्रीलंका को दिया युद्धपोत, हिंद महासागर में दबदबा बढ़ाने की कवायद
चीन सामरिक रूप से महत्वपूर्ण द्वीपीय देश श्रीलंका के साथ सैन्य संबंधों को मजबूत करने में जुटा है.
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:21 AM IST
चीन हिंद महासागर में अपना दबदबा बढ़ाने के लिए गिफ्ट डिप्लोमेसी का सहारा ले रहा है. उसने श्रीलंका को एक युद्धपोत गिफ्ट कर उसे अपने खेमे में शामिल करने की कोशिश की है. पिछले कुछ वर्षों से चीन की ओर से गिफ्ट किया गया युद्धपोत P-625 कोलंबो पहुंच चुका है. इसके अलावा रेल की बोगियां और इंजन बनाने वाली चीन की कंपनी ने कहा है कि वह जल्द ही श्रीलंका को नए तरह की 9 डीजल ट्रेनें भी देगी.

आपको बता दें कि 052 टाइप के इस युद्धपोत (तोंगलिंग) को चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की नेवी में 1994 में शामिल किया गया था. 2300 टन वजनी इस युद्धपोत को 2015 में पीएलए नौसेना से रिटायर कर दिया गया था. अब इस रिटायर्ड पोत को श्रीलंका नेवी को गिफ्ट कर दिया गया है. बता दें कि श्रीलंका पर भारी-भरकम कर्ज थोपने के बाद चीन ने 2017 में उसके हंबनटोटा पोर्ट का अधिग्रहण कर लिया था. इसके बाद से ही उसकी नजर इस क्षेत्र में अपना दबदबा बढ़ाने पर है. वह लगातार हिंद महासागर में नौसेना की मौजूदगी बढ़ा रहा है. उसने जिबूती में एक बेस भी तैयार कर लिया है, जिसे वह एक लॉजिस्टिक्स बेस बता रहा है.

भारत भी श्रीलंका को गिफ्ट कर चुका है कई पोत

श्रीलंका की नौसेना ने लिट्टे के खिलाफ संघर्ष में अहम भूमिका निभाई थी. उसके पास करीब 50 लड़ाकू, सपोर्ट शिप और तटीय इलाकों की निगरानी के लिए गश्ती प्लेन हैं, जो भारत, चीन, अमेरिका और इजरायल से मिले हैं. भारत ने पिछले साल ही अपने अहम पड़ोसी की नौसेना को एक गश्ती जहाज गिफ्ट किया था. इससे पहले भी भारत ने 2006 और 2008 में 2 गश्ती पोत श्रीलंका को दिए थे.

श्रीलंका की नेवी ने कहा, अच्छी मित्रता का प्रतीक

चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीलंका की नेवी के कमांडर वाइस एडमिरल पियल डीसिल्वा ने युद्धपोत गिफ्ट करने के लिए चीन को धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा कि उनकी सेनाएं इस गिफ्ट को दोनों देशों के बीच अच्छी मित्रता के संकेत के तौर पर लेंगी. उन्होंने कहा कि श्रीलंका इस समय समुद्री चुनौतियों का सामना कर रहा है. ड्रग तस्करी समेत अन्य गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम देकर संदिग्ध भाग जाते हैं. इस युद्धपोत से नेवी की निगरानी क्षमता में इजाफा होगा.

श्रीलंका के नौसेना अधिकारियों को दिया प्रशिक्षण
Loading...

रिपोर्ट में बताया गया है कि श्रीलंका की नेवी के नए मेंबर के तौर पर P-625 युद्धपोत का इस्तेमाल समंदर में गश्त, पर्यावरण संबंधी निगरानी और समुद्री लुटेरों के खिलाफ किया जाएगा. कोलंबो में स्थित चीन के मिशन की ओर से जारी बयान के मुताबिक, चीन की नेवी ने श्रीलंका के 110 से ज्यादा नेवल अफसरों और नाविकों को शंघाई में दो महीने का प्रशिक्षण दिया है.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने खोला अपना एयरस्पेस, अब गुजर सकेंगे भारतीय विमान

ट्रंप ने बढ़ाई चीन की मुश्किलें, लगा 27 साल में सबसे बड़ा झटका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 7:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...