चीन की हेंगली कंपनी 20 बिलियन डॉलर खर्च कोयले के भंडार से बनाएगी कपड़ा

चीन की हेंगली कंपनी 20 बिलियन डॉलर खर्च कोयले के भंडार से बनाएगी कपड़ा
चीन अपने कोयले के भंडार से कपड़ा तैयार करेगा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चीन की रसायन क्षेत्र (Giant Chemical Company) में काम करने वाली बहुत बड़ी कंपनी हेंगली (Hengli) ने इस कोयले के भंडार से कपड़े (Clothes From Coal) बनाने की योजना बना ली है.

  • Share this:
सिंगापुर. चीन अपने यहां के प्रचुर मात्रा में कोयले के भंडार का क्या करेगा? इस सवाल का जवाब चीन ने ढूंढ लिया है. चीन की रसायन क्षेत्र (Giant Chemical Company) में काम करने वाली बहुत बड़ी कंपनी हेंगली (Hengli) ने इस कोयले के भंडार से कपड़े (Clothes From Coal) बनाने की योजना बना ली है.

कोयले का उपयोग इन बातों में भी किया जाएगा

यह सुनने में प्राचीन अल्केमी जैसा कुछ लग सकता है, लेकिन यह निजी स्वामित्व वाली चीनी कंपनी है जिसने जून में उद्योग पर निगरानी रखने वालों को आश्चर्यचकित कर दिया था. कंपनी ने जून में यह कहा था कि हम 20​ बिलियन डॉलर खर्च करके कोयले को पॉलिएस्टर यार्न में बदलेंगे. कोयले का इस्तेमाल कपड़े, पैकेजिंग और प्लास्टिक की बोतलों में किया जाता है.



हेंगली ने भारी मात्रा में लिया कर्ज
यह घोषणा पेचीदा थी. पॉलिएस्टर के लिए कोयला कोई विशिष्ट कच्चा माल नहीं है और हेंगली की योजना दुनिया की पहली योजना होगी जो चीन के वर्चस्व वाले कोयले से लेकर रासायनिक क्षेत्र में अपनी तरह की होगी. चीन में पेट्रोलियम और रसायन उद्योग महासंघ के अनुसार अब तक का निवेश कुल $ 85 अरब है. हेंगली ने तेल रिफाइनर के रूप में खुद को स्थापित करने के लिए भारी मात्रा में कर्ज लिया है ताकि पॉलिएस्टर बनाने के लिए कच्चे तेल का उपयोग किया जा सके.

ये भी पढ़ें: अच्छी खबर: रूस का दावा, 10 अगस्त से पहले आएगी दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन

कोरोना की जंग: अमेरिका को मिली सफलता, टीके का बंदरों में दिखा पॉजिटिव प्रभाव

ईद-उल-अज़हा पर तालिबानी आतंकवादियों ने युद्ध विराम की घोषणा की, सबने किया वेलकम

यूक्रेन: जेल में $72 खर्च कर बंदियों को बड़ा सेल, एसी और माइक्रोवव की मिलती है सुविधा

कोयला के क्षेत्र में यह बदलाव इसलिए आया है क्योंकि इससे बहुत ज्यादा धुआं पैदा होता है और मौसम में खतरनाक स्तर तक बदलाव दर्ज किए जाते हैं. कोयला से उत्सर्जन होने वाले धुएं से ग्रीन हाउस गैस पैदा होता है. औद्योगिक विश्लेषकों के अनुसार पर्यावरणीय दृष्टि से हो नुकसान को देखते हुए जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करने के लिए काफी दबाव बनाया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading