चीन ने लिया अमेरिका से बदला, इन अधिकारियों और नेताओं के VISA पर लगाया बैन

चीन ने लिया अमेरिका से बदला, इन अधिकारियों और नेताओं के VISA पर लगाया बैन
प्रतीकात्मक तस्वीर.

यह पहला मौका है जब चीन ने शिनजियांग (Xinjiang), तिब्बत और हाल में हांगकांग संबंधी नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लेकर अमेरिकी प्रतिबंधों के जवाब में शीर्ष अमेरिकी राजनेताओं पर प्रतिबंध लगाया है.

  • Share this:
बीजिंग. अमेरिका द्वारा चीन (China) के कई अधिकारियों के खिलाफ कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों के बाद चीन ने जवाबी कार्रवाई करते हुए सोमवार को कुछ अमेरिकी शीर्ष अधिकारियों और नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगा दिया. विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने यहां सवाददाताओं से कहा कि अमेरिकी अधिकारियों व नेताओं का आचरण और उइगर मुस्लिम बहुल प्रांत शिनजियांग (Xinjiang) के कुछ अधिकारियों के खिलाफ वीजा प्रतिबंध ने 'चीन-अमेरिका संबंधों को गंभीर नुकसान पहुंचाया है.' उन्होंने कहा कि इसकी निंदा की जानी चाहिए. हुआ ने अमेरिका द्वारा शिनजियांग प्रांत के तीन अधिकारियों के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों के संदर्भ में यह टिप्पणी की.

अमेरिका ने उइगर मुस्लिमों के मानवाधिकार उल्लंघनों के आरोपों को लेकर यह कार्रवाई की है. चीन ने अमेरिकी सीनेटरों मार्को रुबिओ और टेड क्रूज़ के अलावा धार्मिक स्वतंत्रता संबंधी अमेरिकी राजदूत सैमुअल ब्राउनबैक और कांग्रेस सदस्य क्रिस स्मिथ के खिलाफ प्रतिबंध लगाया है. इसके साथ ही उसने चीन संबंधी अमेरिकी कांग्रेस कार्यकारी आयोग (सीईसीसी) के खिलाफ भी प्रतिबंध लगाया है. सीईसीसी प्रमुख रुबिओ चीन के मुखर आलोचक रहे हैं. अमेरिकी अधिकारियों के खिलाफ प्रतिबंधों की घोषणा करते हुए हुआ ने कहा कि शिनजियांग पूरी तरह से चीन का आंतरिक मामला है, और अमेरिका को इसमें हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि चीन की सरकार अपनी संप्रभुता की रक्षा के साथ ही आतंकवाद, अलगाववाद और चरमपंथी धार्मिक ताकतों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है. हुआ ने कहा कि चीन स्थिति के आधार पर आगे कदम उठाएगा. यह पहला मौका है जब चीन ने शिनजियांग, तिब्बत और हाल में हांगकांग संबंधी नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लेकर अमेरिकी प्रतिबंधों के जवाब में शीर्ष अमेरिकी राजनेताओं पर प्रतिबंध लगाया है.

ये भी पढ़ें: अमेरिका ने चीन के 3 अधिकारियों पर लगाया बैन, VISA पर भी लगाई पाबंदी, जानें क्यों...



अमेरिका ने लगाया बैन
गौरतलब है कि, इससे पहले अमेरिका ने चीन के मुस्लिम बहुसंख्यक शिंजियांग प्रांत में उइगुर समुदाय के लोगों, कजाख तथा अल्पसंख्यक समुदाय के अन्य लोगों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोप में चीन के तीन वरिष्ठ अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाया है साथ ही उनके वीजा पर भी पाबंदियां लगाई हैं. इन अधिकारियों में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी का एक क्षेत्रीय प्रमुख भी शामिल है. चीन पर संसाधन संपन्न उत्तर पश्चिम प्रांत में उइगुर समुदाय के लोगों को सामूहिक तौर पर हिरासत में रखने,धार्मिक उत्पीड़न और जबरन नसबंदी के आरोप हैं.

ये भी पढ़ें: US को पड़ा चीन के खिलाफ बोलना भारी, कपड़े के टैग की इस तस्वीर पर मचा बवाल

क्या बोले माइक पोम्पिओ
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ की ओर से जारी बयान में तीन वरिष्ठ अधिकारियों शिंजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र के कम्युनिस्ट पार्टी सचिव और शक्तिशाली पोलित ब्यूरो के सदस्य चेन क्वांगो, शिंजियांग राजनीतिक और कानूनी समिति के पार्टी सचिव झू हेइलुन और शिंजियांग सार्वजनिक सुरक्षा ब्यूरो के पार्टी सचिव वांग मिंगशान के नाम शामिल हैं. अमेरिका के इस कदम के परिणामस्वरूप ये अधिकारी और उनके परिवार के सदस्य अमेरिका में प्रवेश नहीं कर सकेंगे. इन सब के साथ किसी भी प्रकार का आर्थिक लेने देन अमेरिका में अपराध की श्रेणी में आएगा और अमेरिका में उनकी संपत्तियां जब्त की जाएंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading