चीन ने इन खूबियों से लैस मिनी टैंक शार्प क्लॉ की तस्वीर जारी की

चीन ने इन खूबियों से लैस मिनी टैंक शार्प क्लॉ की तस्वीर जारी की
चीन ने सशस्त्र मिनी टैंक की फोटो जारी की है.

चीन ने युद्ध के नजरिये से अपने नवीनतम हथियार (latest weapon of war) शार्प क्लॉ-1 (Sharp Claw-1) का प्रदर्शन किया है. यह एक सशस्त्र मिनी रोबोट (Mini war robot) है.

  • Share this:
बीजिंग. चीन ने युद्ध के नजरिये से अपने नवीनतम हथियार (latest weapon of war) शार्प क्लॉ-1 (Sharp Claw-1) का प्रदर्शन किया है. यह एक सशस्त्र मिनी रोबोट (Mini war robot) है. इसे छह पहियों वाले शार्प क्लॉ-2 को युद्ध के मैदान में अंदर ले जाने के लिहाज से तैयार किया गया है. शार्प क्लॉ-2 सिर्फ दो फीट लंबा है लेकिन यह बहुत ही ताकतवर तरीके से हमला करता है. यह छोटा ड्रोन इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल टोही उपकरण के अपने भार के साथ 7.62 मिमी इलेक्ट्रो मशीन गन अपने साथ लिए चलता है. इसके बारे में पहली बार 2014 में रिपोर्ट थी. लेकिन अब इस नवीनतम अपग्रेड शार्प क्लॉ की मूल स्काउटिंग भूमिका में आक्रामक क्षमता को भी शामिल कर लिया गया है.

6 मील प्रतिघंटा है मिनी टैंक की स्पीड

इस मिनी-टैंक की टॉप स्पीड तेज चाल की बजाय 6 मील प्रति घंटा के आसपास है. हालांकि यह लंबे समय तक किसी न किसी इलाके में घूमता रह सकता है और इसके साथ ही यह अंधेरे में भी सीढ़ियां चढ़ पाने में पूरी तरह सक्षम है.



ऐसा है शार्प क्लॉ
शार्प क्लॉ का आकार 70 सेंटीमीटर (27.6 इंच) लंबा, 60 सेंटीमीटर (23.6 इंच) उंचा और 120 किलोग्राम (264.6 पाउंड) भारी है. शार्प क्लॉ 2 सिस्टम की टोही क्षमताओं का विस्तार करने के लिए यह अपने साथ एक हवाई ड्रोन भी लेकर चल सकता है.

किलर रोबोट पर बैन लगाने की अपील

डेली स्टार के अनुसार, ह्यूमन राइट्स वॉच, एमनेस्टी इंटरनेशनल और हार्वर्ड लॉ स्कूल इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स क्लिनिक जैसे मानवाधिकार समूहों की तरफ "किलर रोबोट" पर प्रतिबंध लगाने की अपील बार-बार की जा चुकी हैं. इसके बावजूद दुनिया भर में कई सैन्य ठेकेदार स्वायत्त हथियारों के प्लेटफॉर्म विकसित कर रहे हैं.

'शार्प क्लॉ मनुष्य की तुलना में तीव्र गति से प्रतिक्रिया करता है'

चीनी समाचार नेटवर्क सीसीटीवी से बात करते हुए सैन्य मामलों के विशेषज्ञ बाई मेंगचेन ने जोर देकर कहा कि शार्प क्लॉ जैसे हथियारों का उपयोग करने का निर्णय मनुष्य ही करेगा. उन्होंने कहा कि यह हथियार मनुष्य की तुलना में काफी तीव्र गति से प्रतिक्रिया कर सकता है, लेकिन समस्या यह कि इसे और ज्यादा बेहतर नहीं बनाया जा सकता है. यही वजह है कि एक मनुष्य को इसकी निगरानी करनी होगी और आवश्यक परिस्थितियों में इसे कार्य करने से रोका जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें: चीन का तंज- US के बहकावे में न आए भारत, आपकी सेना हमारी से ताकतवर नहीं

जुकरबर्ग ने कहा- जागरूक करेंगे लेकिन ट्रंप की 'गलत जानकारियां' नहीं हटाएंगे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज