• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • CHINA RETALIATE NEW YORK EXCHANGE REMOVES CHINESE COMPANIES NODSM

न्यूयॉर्क एक्सचेंज ने चीनी कंपनियों को ‘हटाया’ तो जवाबी कार्रवाई करेगा चीन

china-us-Telecom Companies. कॉन्सेप्ट इमेज.

NYSE Removes Three Companies: चीन ने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (NYSE) द्वारा चीन की तीन बड़ी दूरसंचार कंपनियों (Telecome Comapanies) को एक्सचेंज से हटाने की घोषणा पर जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी है. इससे अमेरिकी व चीन के बीच पहले से जारी तनाव और बढ़ सकता है.

  • Share this:
    बीजिंग. चीन ने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (NYSE) द्वारा चीन की तीन बड़ी दूरसंचार कंपनियों (Telecome Comapanies) को एक्सचेंज से हटाने की घोषणा पर जवाबी कार्रवाई की चेतावनी दी है. इससे अमेरिकी व चीन के बीच पहले से जारी तनाव और बढ़ सकता है. स्टॉक एक्सचेंज ने बृहस्पतिवार को कहा कि चाइना टेलीकॉम कॉर्प लि. (China Telecome Corporation Ltd.), चाइना मोबाइल लि. और चाइना यूनिकॉम हांगकांग लि. को एक्सचेंज से हटाया जाएगा. इन कंपनियों के शेयरों में कारोबार सात जनवरी से 11 जनवरी के बीच किसी समय बंद किया जाएगा.

    कंपनियों में निवेश को बैन किया

    अमेरिकी के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 12 नवंबर को सरकारी आदेश के जरिये सार्वजनिक रूप से कारोबार वाली उन कंपनियों में निवेश को प्रतिबंधित कर दिया था, जिनके बारे में अमेरिका का दावा है कि उनका स्वामित्व या नियंत्रण चीन की सेना के पास है. चीन के वाणिज्य विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि इससे अमेरिकी पूंजी बाजार के प्रति सभी पक्षों का भरोसा कमजोर होगा.



    ये भी पढ़ें: पाकिस्तान पीएम इमरान खान के ड्राइवर ने सऊदी अरब की अमीर महिला व्यापारी से रचाई शादी?

    सऊदी अरब की महिला अधिकार कार्यकर्ता को करीब छह साल जेल की सजा सुनाई गई

    वहीं चीन और अमेरिका के रिश्ते एक नए चौराहे पर खड़े हैं और लंबे समय तक रहे मुश्किल हालात के बाद अब ये फिर से पटरी पर आ सकते हैं. चीन के सरकारी मीडिया से बातचीत करते हुए विदेश मंत्री वांग यी ने ये बातें कही है. दुनिया को सबसे बड़ी आर्थिक शक्तियों के बीच रिश्ते व्यापार को लेकर मतभेद, मानवाधिकार और पिछले साल फैली कोविड-19 महामारी को लेकर बेहद ही तनावपूर्ण चल रहे हैं. हाल ही अमेरिका ने चीन की कई कम्पनियों को सेना से सम्पर्क रखने के चलते ब्लैकलिस्ट कर दिया है. इसके साथ ही ट्रम्प प्रशासन के द्वारा कई दिग्गज चीनी कम्पनियों को जांच के दायरे में लाने के लिए नया कानून भी लाया गया है.