ड्रैगन ने पहली बार माना, भूटान के साथ है बॉर्डर डिस्प्यूट, भारत की तरफ भी किया इशारा

ड्रैगन ने पहली बार माना, भूटान के साथ है बॉर्डर डिस्प्यूट, भारत की तरफ भी किया इशारा
प्रतीकात्मक तस्वीर.

भूटान (Bhutan) और चीन (China) ने अपनी सीमा विवाद को सुलझाने के लिए 1984 और 2016 के बीच 24 बार वार्ता की है.

  • Share this:
थिंफू. बॉर्डर विवाद को लेकर हमेशा घिरे रहने वाले चीन ने अब भूटान (Bhutan) की सीमा को लेकर बयान दिया है. चीन (China) ने शनिवार को आधिकारिक तौर पर पहली बार कहा कि पूर्वी क्षेत्र में भूटान के साथ उसका सीमा विवाद है. चीन का यह बयान भारत के लिए इसलिए महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि अरुणाचल प्रदेश पर बीजिंग द्वारा लगातार दावा किया जाता रहा है. हिंदुस्तान टाइम्स में छपी एक खबर के मुताबिक चीन के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि चीन-भूटान सीमा को कभी भी सीमांकित नहीं किया गया है और पूर्वी, मध्य और पश्चिमी भाग पर लंबे समय से विवाद चल रहा है. साथ ही यह भी कहा कि तीसरे पक्ष को इस मामले में दखल नहीं देना चाहिए. बता दें, यहां चीन का इशारा भारत की तरफ है.

उल्लेखनीय है कि भूटान और चीन ने अपनी सीमा विवाद को सुलझाने के लिए 1984 और 2016 के बीच 24 बार वार्ता की है. भूटानी संसद में हुई चर्चा के अनुसार, केवल पश्चिमी और मध्य सीमा के विवादों पर केंद्रित है. इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि पूर्वी सीमा को कभी भी वार्ता में शामिल नहीं किया गया. उन्होंने कहा, 'दोनों पक्षों ने कहा था कि चर्चा को सेंट्रल और पश्चिमी सीमा तक सीमित कर दिया गया था. इस मुद्दे को सुलझाने के लिए एक पैकेज डील की बात भी थी. यदि पूर्वी सीमा पर चीन की स्थिति वैध थी, तो इसे पहले ही लाया जाना चाहिए था.'





ये भी पढ़ें: Bycott China: अमेरिका में ड्रैगन के खिलाफ भारतीयों का प्रदर्शन, तिब्बत-ताइवानी नागरिकों का मिला साथ
भारत ने नहीं दी प्रतिक्रिया
भूटान के एक विशेषज्ञ जिनकी बातचीत पर नजर रही है, उन्होंने कहा, 'यह पूरी तरह से नया दावा है. दोनों पक्षों के बीच हुई बैठकों के मिनट्स हैं जो विवाद को केवल पश्चिमी और केंद्रीय भाग तक सीमित करते हैं.' फिलहाल भारतीय अधिकारियों ने चीन के दावे पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. विवाद के वास्तविक क्षेत्रों का विस्तार किए बिना चीन के विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा है, 'चीन और भूटान के बीच सीमा को कभी भी सीमांकित नहीं किया गया है. पूर्वी, मध्य और पश्चिमी क्षेत्रों में लंबे समय से विवाद चल रहे हैं और कोई नए विवादित क्षेत्र नहीं हैं. चीन हमेशा चीन-भूटान सीमा विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने के लिए तैयार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading