भारत के साथ सीमा विवाद पर ट्रंप के ऑफर पर बोला चीन- किसी तीसरे की मध्यस्थता की जरूरत नहीं

भारत के साथ सीमा विवाद पर ट्रंप के ऑफर पर बोला चीन- किसी तीसरे की मध्यस्थता की जरूरत नहीं
चीन ने भारत के साथ सीमा विवाद में ट्रंप की मध्यस्थता के ऑफर को ठुकरा दिया है.

भारत के साथ सीमा विवाद (Border Standoff) पर चीन (China) ने कहा है कि दोनों देश मिलकर इस मसले को सुलझा लेंगे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बीजिंग: चीन (China) ने शुक्रवार को भारत के साथ चल रहे सीमा विवाद (Border Standoff) पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की मध्यस्थता के ऑफर को ठुकरा दिया. चीन की तरफ से कहा गया है कि भारत के साथ सीमा विवाद में किसी तीसरे की मध्यस्थता की जरूरत नहीं है.

इसके पहले बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत चीन सीमा विवाद में मध्यस्थत की भूमिका निभाने का प्रस्ताव दिया था. उन्होंने कहा था कि वो दोनों देशों के बीच के तनाव को कम करने के लिए अपनी सेवाएं देने को तैयार हैं. एशिया के दो बड़े देशों की सेना के आमने-सामने आने के बाद ट्रंप की तरफ से बयान आया था.

राष्ट्रपति ट्रंप के ऑफर पर पहली बार प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए चीन के विदेशमंत्रालय के प्रवक्त झाओ लिजियन ने कहा कि दोनों देशों के बीच जारी सैन्य गतिरोध को खत्म करने के लिए किसी तीसरे की जरूरत नहीं है. दोनों ही देश ये नहीं चाहते हैं.



चीन ने कहा- दोनों देश मिलकर सुलझा लेंगे मसला



झाओ ने कहा है कि सीमा के विवाद को सुलझाने के लिए दोनों देशों के पास मैकेनिज्म और कम्यूनिकेशन चैनल्स हैं. झाओ ने एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान ये बातें कहीं. उनसे ट्रंप के मध्यस्थता करने को लेकर सवाल पूछा गया था.

उन्होंने कहा कि हम दोनों ही देश बातचीत और एकदूसरे के साथ संपर्क स्थापित करके मामले को सुलझाने में सक्षम हैं. हमें किसी थर्ड पार्टी की जरूरत नहीं है.

पिछले दिनो लद्दाख और सिक्किम के कई LAC से लगते इलाकों में भारत और चीन दोनों की सैन्य गतिविधि देखी गई है. इसकी वजह से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है. भारत ने इसको लेकर आपत्ति भी जताई है.

भारत की तरफ से जताई गई थी आपत्ति
भारत की तरफ से कहा गया है कि पिछले दिनों लद्दाख और सिक्किम के LAC से लगते इलाकों में चीन की सेना ने चोरी छिपे अपनी गतिविधि बढ़ाई है. इसके साथ ही भारत की तरफ से इस बात का भी खंडन किया गया कि भारतीय सेना ने चीन की तरफ कोई अतिक्रमण किया है.

भारत के विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि भारत की सभी गतिविधियां उसकी अपनी तरफ रही हैं. मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि बॉर्डर को लेकर भारत का व्यवहार हमेशा से जिम्मेदारी भरा रहा है. लेकिन इसके साथ ही भारत अपनी स्वायत्ता और सुरक्षा को लेकर काफी गंभीर है.

शुक्रवार को भारत सरकार के सूत्रों ने इस बात से इनकार किया कि ट्रंप की मध्यस्थता के ऑफर पर प्रधानमंत्री की अमेरिकी राष्ट्रपति से कभी बात हुई है.

ये भी पढ़ें:

दुनिया में कोरोना Live: WHO की चेतावनी- एक और बड़े झटके के लिए तैयार रहें
First published: May 29, 2020, 3:50 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading