चीन ने अपने इलाके में दिखाया माउंट एवरेस्ट तो नेपाल-इंडिया के लोगों ने ले लिए मज़े

चीन ने अपने इलाके में दिखाया माउंट एवरेस्ट तो नेपाल-इंडिया के लोगों ने ले लिए मज़े
चीन के सरकारी मीडिया सीजीटीएन ने माउंट एवरेस्ट को तिब्बती स्वायत्त क्षेत्र का हिस्सा बताया. फोटो साभार/यूट्यूब

टीवी चैनल ने अपने आधिकारिक ट्विटर से 2 मई को माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) की कुछ तस्वीरें ट्वीट की थीं. इसमें दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को अपना हिस्‍सा बताया गया था.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. हाल में चीन (China) के सरकारी टीवी चैनल चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क (CGTN) की आधिकारिक वेबसाइट ने कुछ ऐसा दिखाया कि सोशल साइट पर लोग इसे ट्रोल करने लगे. दरअसल, टीवी चैनल ने अपने आधिकारिक ट्विटर से 2 मई को माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) की कुछ तस्वीरें ट्वीट की थीं. इसमें दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को अपना हिस्‍सा बताया गया था. चैनल की ओर से कहा गया, 'माउंट माउंट चोमोलंगमा पर सूर्य की रोशनी का नजारा. दुनिया की यह सबसे ऊंची चोटी चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में है.'

यूजर बोले, 'फर्जी खबरें फैलाना बंद करो'
इसके बाद नेपाल में भी इसका विरोध भी शुरू हो गया है और इसको लेकर लोगों ने तरह-तरह के कमेंट कर डाले. कुछ ने तो सोशल साइट पर अपने कमेंट में मांग की कि सरकार चीन को सबक सिखाए. वहीं एक अन्‍य यूजर ने ट्वीट किया फर्जी खबरें फैलाना बंद करो. इसके अलावा एक अन्‍य यूजर ने लिखा कि हम तुम्‍हें इसे अपना कहने नहीं देंगे. वहीं कुछ यूजर्स ने तो चीनी राष्ट्रपति शि जिनपिंग के मीम्‍स भी शेयर कर डाले.

दरअसल, 1960 में सीमा विवाद के समाधान के लिए चीन और नेपाल ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. इसके तहत माउंट एवरेस्ट को दो हिस्सों में बांटे जाने की बात कही गई. इसमें यह भी दर्ज था कि इसका दक्षिणी भाग नेपाल के पास रहेगा और उत्तरी तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के पास रहेगा. इसी के बाद इस बात को लेकर भारत और नेपाल के लोगों ने चीन को ट्रोल करना शुरू कर दिया और सोशल मीडिया पर 'बैक ऑफ चाइना' ट्रेंड करने लगा.
ये भी पढ़ें - एक अमीर देश, जहां मुफ्त खाने के लिए लंबी कतारों में लगे हैं लोग



                पुलिस के बाद अब पाकिस्तानी फ़ौज भी कोरोना संक्रमण की चपेट में, एक की मौत

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज