चीन ने तीन शहरों में कोविड-19 के मामले मिलने के बाद हाई अलर्ट, लाखों लोगों के हो रहे टेस्ट

चीन के तीन शहरों में फिर फैला कोरोना

Coronavirus Update: कोरोना के नए मामले सामने आने के बाद चीन के तिआनजिन, शंघाई और मंझौली शहरों में स्कूल और सार्वजानिक स्थलों को बंद कर दिया गया है और लाखों लोगों का टेस्ट कराया जा रहा है.

  • Share this:
    बीजिंग. चीन (China) के तीन शहरों में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कुछ मामले सामने आने के बाद लाखों लोगों की जांच की जा रही है. संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए इन शहरों में स्कूलों को बंद कर दिया गया तथा लोगों के जमावड़े पर पाबंदियां लगायी गयी हैं. अमेरिका और अन्य देशों में संक्रमण की नयी लहर की तुलना में चीन के तिआनजिन, शंघाई और मंझौली शहरों में कम मामलों के बावजूद कोविड-19 को लेकर विभिन्न कदमों की घोषणा की गयी है.

    कई विशेषज्ञों और सरकारी अधिकारियों ने आगाह किया है कि सर्दी के मौसम में संक्रमण फैलने का ज्यादा खतरा रहेगा. चीन में संक्रमण पर काबू पा लाने के बावजूद हालिया मामलों के मद्देनजर ऐसी आशंका है कि फिर से बड़े स्तर पर यह फैल सकता है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि पिछले 24 घंटे में शंघाई में संक्रमण के दो मामले आए और शुक्रवार से सात मामले आ चुके हैं. पिछले साल वुहान में संक्रमण का पहला मामला आने के बाद से चीन में कुल 86,442 मामले आए हैं और 4634 लोगों की मौत हुई है.

    स्कूल और सार्वजनक स्थल बंद किए गए
    शंघाई में जांच अभियान तेज कर दिया गया है और खासकर हवाई अड्डा, अस्पतालों जैसे स्थानों पर काम करने वाले लोगों की जांच की जा रही है. तिआनजिन के बिनहाई में पांच मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्यकर्मियों ने 22 लाख लोगों के नमूनों की जांच की. मंझौली में दो मामले आने के बाद सभी निवासियों की जांच की जा रही है. इस शहर की आबादी दो लाख से ज्यादा है. शहर में सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है और सार्वजनिक स्थलों पर लोगों के जमावड़े पर भी रोक लगा दी गयी है. तिआनजिन में प्रशासन ने केजी कक्षा को बंद कर दिया और सभी शिक्षकों, परिवारों और छात्रों को पृथक-वास में भेज दिया.

    विशेषज्ञों को डर
    कोरोना महामारी की रोकथाम को लेकर सफल वैक्सीन तैयार होने का पूरी दुनिया को इंतजार है. कई कंपनियां रात दिन काम कर रही हैं और वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं. चीन की राह इन सबसे जुदा है. पहले उसने सभी देशों को महामारी में धकेला, अब वैक्सीन को लेकर भी जल्दबाजी में है. उसने ट्रायल में चल रही वैक्सीन की खुराक अपनी जनता को व्यापक पैमाने पर देना शुरू कर दिया है. अब वहां जनता में भी होड़ मची हुई है. कुछ शहरों में लंबी-लंबी लाइन लगी हुई हैं. घंटों इंतजार करके भी लोग वैक्सीन ले रहे हैं. कहीं तो इस वैक्सीन के लिए ज्यादा दाम भी दिए जा रहे हैं.





    वैक्सीन लगाने के दौरान इसकी क्षमता के बारे में किसी को भी कोई जानकारी नहीं है. अस्पतालों में वैक्सीन दिए जाने के दौरान भी कुछ नहीं बताया जाता है. न्यूयॉर्क टाइम्स ने वैक्सीन लगाने से पहले भरवाए गए ऐसे ही एक सहमति पत्र की कॉपी हासिल की तो पता चला कि इसमें ये भी उल्लेख नहीं है कि वैक्सीन अभी ट्रायल फेज में चल रही है. चीन के ही एक स्वास्थ्य विशेषज्ञ यानझोंग हुआंग कहते हैं, सफलता से पहले वैक्सीन दिए जाने के खतरे सामने आने के लिए अभी हमें इंतजार करना होगा. सिडनी में नेशनल सेंटर फॉर इम्युनाइजेशन रिसर्च एंड सर्विलांस की निदेशक क्रिस्टीन मेकार्टनी का मानना है इसके दुष्परिणाम सामने आए तो हम जनता के बीच वैक्सीन के प्रति विश्वास खो देंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.