Home /News /world /

कोरोना के संक्रमण का पता चलते ही चोरी-छिपे दवा का पेटेंट हासिल करने में लगा था चीन

कोरोना के संक्रमण का पता चलते ही चोरी-छिपे दवा का पेटेंट हासिल करने में लगा था चीन

चीन (China) को जैसे ही जानकारी मिली कि कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण एक इंसान से दूसरे में फैल रहा है, उसने दवा का पेटेंट हासिल करने के लिए आवेदन कर दिया.

चीन (China) को जैसे ही जानकारी मिली कि कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण एक इंसान से दूसरे में फैल रहा है, उसने दवा का पेटेंट हासिल करने के लिए आवेदन कर दिया.

चीन (China) को जैसे ही जानकारी मिली कि कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण एक इंसान से दूसरे में फैल रहा है, उसने दवा का पेटेंट हासिल करने के लिए आवेदन कर दिया.

    बीजिंग: चीन (China) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी के फैलते ही उसकी दवा को लेकर पेटेंट हासिल करने के दस्तावेज दाखिल कर दिए थे. बताया जा रहा है कि चीन को जैसे ही ये जानकारी मिली कि कोरोना वायरस का ट्रांसमिशन एक इंसान से दूसरे इंसान में हो रहा है, चीन ने कोरोना के इलाज में कारगर दवा का पेटेंट हासिल करने के लिए आवेदन दाखिल कर दिए थे.

    चीन के वुहान में सबसे पहले कोरोना वायरस का संक्रमण फैला था. शुरुआत से ही चीन पर आरोप लगते रहे हैं कि वो कोरोना की महामारी को लेकर जानकारी छिपाता रहा है. दवा के पेटेंट हासिल करने की जानकारी सामने आने के बाद चीन पर एक बार फिर आरोप लग रहे हैं. बताया जा रहा है कि चीन को कोरोना वायरस के खतरनाक होने की भलीभांति जानकारी थी. लेकिन वो उसकी सच्चाई दुनिया को बताने की बजाए चोरी चुपके उसकी दवा का पेटेंट हासिल करने में लग गया.

    चीन के ऊपर आरोपों की बौछार
    डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक अब चीन की इस दिशा में रोल की जांच को लेकर मांग उठने लगी है. फॉरेन अफेयर सेलेक्ट कमिटी के चेयरमैन टॉम टुगनधाट ने कहा है कि इस बीमारी की शुरुआत की जानकारी के बगैर हमने इससे लड़ना शुरू कर दिया. हमें इस महामारी के बारे में पूरी जानकारी चाहिए ताकि पूरी दुनिया के देश इससे मजबूती से लड़ सकें और भविष्य में भी ये फैलता है तो इससे बेहतर तरीके से निपटा जाए.

    चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी पर आरोप लगाए गए हैं कि उसने संक्रमण की जानकारी छुपाए रखी. चीन ने कोरोना से मरने वालों के आंकड़ों में हेरफेर की, पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट को जांच करने से रोका, डॉक्टरों को चेतावनी देकर चुप कराया और इस बारे में देर से जानकारी दी कि कोरोना का संक्रमण एक इंसान से दूसरे इंसान में हो सकता है.

    21 जनवरी को चीन ने किया पेटेंट हासिल करने का आवेदन
    20 जनवरी को पहली बार चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने वायरस के संक्रमण के जरिए फैलने की जानकारी दी. लीक हुए कुछ दस्तावेजों के हवाले से कहा जा रहा है कि चीन के अधिकारियों को ये पता था कि वो एक महामारी का सामना कर रहे हैं लेकिन इसके बावजूद उन्होंने ये सच्चाई 6 दिनों तक जनता से छुपाए रखी.

    वहीं 21 जनवरी को चीन ने रेमडेजिविर दवा के कमर्शियल इस्तेमाल के मकसद से पेटेंट हासिल करने के लिए आवेदन कर दिया. इस दवा को सबसे पहले इबोला से लड़ने के लिए अमेरिकन फॉर्मास्यूटिकल कंपनियों ने बनाया था.

    दवा का पेटेंट हासिल करने के लिए वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वॉयरोलॉजी ने आवेदन किया था. चीन के इस टॉप के संक्रामक रोगों की जांच करने वाले लैब पर बाद में आरोप लगाया गया कि वहां से कोरोना का वायरस लीक हुआ. लैब में चमगादड़ों में पाए जाने वाले कोरोना वायरस को लेकर प्रयोग चल रहे थे.

    ये भी पढ़ें:

    दुनिया में कोरोना Live: अब तक 29 लाख, 20 हजार 738 मामले, 2 लाख 3 हजार से ज्‍यादा लोगों की मौत
    ISIS के लिए यजीदी लड़कियों को बनाता था 'सेक्स स्लेव', बीवी भी करती थी मदद
    सऊदी अरब में कोड़े मारने की सजा खत्‍म करने का ऐतिहासिक फैसला, जुर्माना होगा
    न्यूयॉर्क के गवर्नर का दावा, चीन से नहीं बल्कि यूरोप से आया है कोरोना वायरस

    Tags: China, Coronavirus, Covid19

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर