Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    चीन एकध्रुवीय दुनिया बनाना चाहता है, जिसमें हर देश उसके अधीन हो: अमेरिका

    चीन एकध्रुवीय दुनिया बनाना चाहता है: अमेरिका
    चीन एकध्रुवीय दुनिया बनाना चाहता है: अमेरिका

    US ELECTION 2020: अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रोबर्ट ओ‘ब्रायन (Robert O'Bryan) ने कहा है कि चीन (China) अंतत: एकध्रुवीय दुनिया बनाना चाहता है, जिसमें हर देश उसके अधीन हो.

    • Share this:
    वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रोबर्ट ओ‘ब्रायन (Robert O'Bryan) ने कहा है कि चीन (China) अंतत: एकध्रुवीय दुनिया बनाना चाहता है, जिसमें हर देश उसके अधीन हो. ब्रायन ने कहा कि दुनियाभर के देशों को यह एहसास होने लगा है कि अमेरिका (America) चीन के खिलाफ क्यों है. उन्होंने कहा कि दुनिया धीरे-धीरे बहुध्रुवीय स्थिति में प्रवेश कर रही है.

    'हम धीरे-धीरे बहुध्रुवीय स्थिति में प्रवेश कर रहे हैं'

    ब्रायन ने ‘यूनिवर्सिटी ऑफ नेवादा’ में कहा कि मुझे नहीं लगता कि दुनिया में अब द्विध्रुवीय स्थिति होगी. मुझे लगता है कि हम धीरे-धीरे बहुध्रुवीय स्थिति में प्रवेश कर रहे हैं. चीन अंतत: एकध्रुवीय स्थिति पैदा करना चाहता है, जहां शेष सभी देश उसके अधीन हों. उन्होंने कहा कि वे हजारों वर्ष से दुनिया को इसी तरह देखते रहे हैं और वे आज भी इसे ऐसे ही देखते हैं.



    अमेरिका के सहयोगी भी चीन के खिलाफ खड़े हो रहे हैं: ब्रायन
    ब्रायन ने कहा कि अमेरिका के साथ उसके सहयोगी भी चीन के खिलाफ खड़े हो रहे हैं.
    उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि दुनिया भर के देशों को यह एहसास होने लगा है कि हम चीन के खिलाफ क्यों है? मुझे लगता है कि यदि ब्राजील और भारत के महान लोकतंत्र, यूरोपीय संघ और ब्रिटेन हमारे साथ होंगे, तो अंतत: चीन पहले से अधिक अलग-थलग पड़ जाएगा.

    ये भी पढ़ें: अमेरिका का चुनाव कराने के लिए $100 मिलियन देंगे फेसबुक के सीईओ जुकबर्ग और उनकी पत्नी प्रिसिला

    US ELECTION 2020: चुनावी रैली में नाचे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, वायरल हुआ VIDEO 

    ब्रायन ने कहा कि चीन के निकट मित्र समझे जाने वाले कई अफ्रीकी देशों ने अमेरिका से कहा है कि यदि वह चीन से लिया उनका कर्ज चुका देता है, तो वे चीन के साथ संबंध नहीं रखेंगे.
    उन्होंने कहा कि आप जानते हैं कि राष्ट्रपति ऐसा नहीं करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि अमेरिका करदाताओं के धन के प्रति जवाबदेह बनना चाहता है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज