लंदन में चीन बनाएगा भव्य दूतावास, मुस्लिम आबादी ने शुरू किया जोरशोर से विरोध

चीन की राष्ट्रपति शी जिनपिंग
चीन की राष्ट्रपति शी जिनपिंग

चीन, ब्रिटेन में भव्य दूतावास बनाना चाहता है लेकिन वहां की मुस्लिम आबादी ने इस फैसले का विरोध करना शुरू कर दिया है. चीन में उइगर मुस्लिमों (Uighur Muslim) के साथ गंदा व्यवहार को खत्म करने की मांग कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2020, 2:07 PM IST
  • Share this:
लंदन. चीन ने यह फैसला लिया है कि वह ब्रिटेन स्थित अपने दूतावास (Chinese Embassy) को लंदन के दूसरे हिस्से में शिफ्ट करेगा. चीन का दूतावास फिलहाल लंदन के वेस्ट एंड इलाके में है. वह इसे शिफ्ट करके गिल्टजी ईस्ट ले जान चाहता है. चीन अपने दूतावास को 19 वीं शताब्दी के चाइना टाउन में रॉयल मिंट यानि अपने दूतावास को भव्य रूप देना चाहता है. हालांकि चीन में उइगर मुस्लिमों (Uighur Muslim) को लेकर कम्युनिस्ट सरकार (China Communist Government) के रवैये से ब्रिटेन में लोग गुस्से में है.

स्थानीय नेताओं और निवासियों ने विरोध शुरू किया

चीन की योजना के अनुसार वह लंदन में अपना भव्य दूतावास बनाना चाहता है और इसके जरिये वह दुनिया में अपनी कूटनीतिक मिशन के विस्तार के लिए ऐसा कर रहा है. दूतावास को वर्तमान जगह से वह दूसरी जगह कई सालों से ले जाना चाह रहा है. हालांकि इस दूतावास के बनने से पहले ही स्थानीय पार्षदों और निवासियों का विरोध शुरू हो गया है.



चीन में मुस्लिमों के साथ गंदे व्यवहार पर रोक लगे
पूर्व रॉयल मिंट के ठीक पीछे टॉवर हैमलेट्स नाम की एक घनी आबादी है, जहां अच्छी खासी मुस्लिम आबादी रहती है. इस इलाके में 10 में से चार निवासी इस्लाम धर्म को मानने वाले हैं. यहां ब्रिटेन के किसी भी इलाके की तुलना में आनुपातिक रूप से सबसे ज्यादा मुस्लिम रहते हैं. कुछ लोगों का कहना है कि हम यहां दूतावास के निर्माण का तबतक स्वागत नहीं करेंगे जबतक चीन सरकार अपने देश के उइगर मुस्लिम आबादी के साथ गंदा व्यवहार करना बंद करेगी.

ये भी पढ़ें: पोर्क खाने वाले सतर्क रहें, जर्मनी में फार्म वाले सूअर तक पहुंचा अफ्रीकन स्वाइन फीवर 

कोरोनाकाल में खिड़की पर आंखें लड़ीं, चर्चा में हैं इटली के ये रोमियो-जूलियट 

यह अनुमान है कि चीन में उइगर मु​स्लिमों के साथ अन्य मुस्लिमों की आबादी करीब 20 लाख के करीब है. अमेरिका के गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार मुस्लिम आबादी को चीन में सूदूर पश्चिमी इलाके शिंजियांग में कैंपों में हिरासत में रखा जा रहा है. हालांकि चीन सरकार इन आरोपों को सिरे से खारिज करती है और सफाई देते हुए कहती है कि हम उन्हें वोकेशनल ट्रेनिंग दे रहे हैं ताकि उनका उचित विकास हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज