• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • चीन में स्वास्थ्य से खिलवाड़, हजारों श्रमिकों को लगाए जा रहे हैं कोरोना के अप्रमाणिक टीके

चीन में स्वास्थ्य से खिलवाड़, हजारों श्रमिकों को लगाए जा रहे हैं कोरोना के अप्रमाणिक टीके

चीन में श्रमिकों को कोरोना का अप्रमाणिक टीका लगाया जा रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर) Photo: AP

चीन में श्रमिकों को कोरोना का अप्रमाणिक टीका लगाया जा रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर) Photo: AP

चीन (China) की सरकारी कंपनियों के श्रमिकों (Laborers) को कोविड-19 का अप्रमाणिक वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगाया जा रहा है. श्रमिकों के बाद सरकारी अधिकारी और वैक्सीन कंपनी के कर्मचारियों को यह टीका लगाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    बीजिंग. चीन (China) की सरकारी कंपनियों के श्रमिकों (Laborers) को कोविड-19 का वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगाया जा रहा है. श्रमिकों के बाद सरकारी अधिकारी और वैक्सीन कंपनी के कर्मचारियों को यह टीका लगाया जाएगा. इसके बाद शिक्षक, सुपरमार्केट कर्मचारी और जोखिम भरे क्षेत्रों में यात्रा करने वाले लोगों का नंबर आएगा. चीन की यह कोरोना वैक्सीन दुनिया के स्तर पर अभी भी प्रमाणित नहीं हो पाई है. इसके बावजूद चीनी अधिकारी पारंपरिक जांच प्रक्रिया की उपेक्षा करके हजारों लोगों को टीका लगा रहे हैं.

    श्रमिकों के बाद इनको लगाए जाएंगे टीके
    टीके के प्रभावों की चिंता किये बगैर सरकार उन श्रमिकों में यह वैक्सीन इंजेक्ट कर रही है जिन्हें वह महत्वपूर्ण मानती है. इन महत्वपूर्ण श्रमिकों में फ़ार्मास्यूटिकल फ़र्म के कर्मचारी भी शामिल हैं. सरकारी अधिकारी अधिक से अधिक लोगों को यह वैक्सीन देने के लिए योजना बना रहे हैं.

    चीन कर रहा जल्दबाजी
    चीन की वैक्सीन को लेकर दिखाई जा रही हड़बड़ी ने पूरी दुनिया के विशेषज्ञों को हतप्रभ कर दिया है. किसी भी अन्य देश ने सामान्य दवा परीक्षण प्रक्रिया के बाहर इतने बड़े पैमाने पर असुरक्षित वैक्सीन वाले इंजेक्शन लोगों को नहीं लगाए हैं. लगभग सभी वैक्सीन कैंडिडेट ट्रायल के तीसरे चरण या टेस्ट के अंतिम चरण में हैं जो ज्यादातर चीन के बाहर आयोजित किए जा रहे हैं. इन ट्रायल्स में शामिल लोगों पर कड़ी नज़र रखी जाती है और उनकी निगरानी की भी जाती है. अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि चीन उन सभी लोगों के लिए कोई ठोस कदम उठा रहा है, जिन्हें देश के भीतर ये वैक्सीन लग रही है.

    टीके के दुष्प्रभाव
    अप्रमाणित टीकों के हानिकारक दुष्प्रभाव हो सकते हैं. अप्रभावी टीके सुरक्षा की झूठी भावना पैदा कर सकते हैं जिससे लोगों में एक तरह की लापरवाही पैदा होगी और वे कोरोना को लेकर गैर जिम्मेदाराना व्यवहार दिखाएंगे.



    कंपनियों ने गैर-कानूनी समझौतों पर हस्ताक्षर करवाए
    कंपनियों ने वैक्सीन लेने वाले लोगों से एक गैर-कानूनी समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए भी कहा है जिससे उन्हें समाचार मीडिया से वैक्सीन पर बात करने से रोका जा सके. ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में मर्डोक चिल्ड्रन्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के एक बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. किम मुलहोलैंड कंपनियों में काम कर रहे कर्मचारियों के लिए चिंता जताते हुए कहते हैं कि उनके लिए मना करना मुश्किल हो सकता है.

    फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि चीन में कितने लोगों को कोरोना वायरस के टीके लग चुके हैं. चीन की कंपनी सिनोफार्मा जो एक वैक्सीन कैंडिडेट लेकर सामने आई है, ने कहा है कि हजारों लोगों ने इनकी वैक्सीन के इंजेक्शन लगवाए हैं. बीजिंग स्थित कंपनी सिनोवैक ने कहा कि बीजिंग में 10,000 से अधिक लोगों को इसके वैक्सीन के इंजेक्शन लगाए गए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज