जिनपिंग की आलोचना करने पर इस शख्स को मिली सजा, पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता

जिनपिंग की आलोचना करने पर इस शख्स को मिली सजा, पार्टी ने दिखाया बाहर का रास्ता
रेन झिकियांग (न्यूयॉर्क टाइम्स)

बीजिंग (Beijing) में शीचेंग जिले के अनुशासन निरीक्षण आयोग ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि 69 वर्षीय रेन पर भ्रष्टाचार, गबन, रिश्वत लेने और सरकार के स्वामित्व वाली एक कंपनी में अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप है.

  • Share this:
बीजिंग. कोरोना वायरस (Coronavirus) वैश्विक महामारी से निपटने में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) की सार्वजनिक तौर पर आलोचना करने वाले एक सरकारी रियल एस्टेट कंपनी के पूर्व अध्यक्ष को सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है और उन पर भ्रष्टाचार के आरोपों में मुकदमा चलाया जाएगा. पार्टी ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की. प्रेस पर नियंत्रण (सेंसरशिप) और अन्य संवेदनशील विषयों के बारे में अपनी बेबाक राय रखने वाले रेन झिकियांग मार्च में एक लेख ऑनलाइन प्रकाशित करने के बाद से ही सार्वजनिक रूप से नहीं दिखे. इस लेख में उन्होंने शी पर वुहान में दिसंबर में शुरू होने वाले प्रकोप को नहीं संभाल पाने का आरोप लगाया था.

बीजिंग में शीचेंग जिले के अनुशासन निरीक्षण आयोग ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि 69 वर्षीय रेन पर भ्रष्टाचार, गबन, रिश्वत लेने और सरकार के स्वामित्व वाली एक कंपनी में अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप है. एजेंसी ने कहा कि हुयाआन समूह के पूर्व अध्यक्ष और पार्टी के उप सचिव को सत्तारूढ़ पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है और उनके मामले को अभियोजन पक्ष को सौंप दिया गया. उसने अपराध के बारे में कोई विवरण नहीं दिया. चीन में 2012 में सत्तारूढ़ पार्टी के नेता बने शी ने आलोचनाओं को दबाने, सेंसरशिप को सख्त करने और गैर आधिकारिक संगठनों पर नकेल कसने का काम किया है. दर्जनों पत्रकार, श्रम और मानवाधिकार कार्यकर्ता और अन्य लोग कैद किए गए हैं.

ये भी पढ़ें: ट्रंप ने बदला अपना मन, कहा- Corona के कारण देरी से खुलेंगे कुछ स्कूल



रेन पर लगा था ये आरोप
पार्टी की 2012 में बागडोर संभालने के बाद से शी किसी भी तरह की आलोचना के प्रति असहिष्णु रहे हैं और उन्होंने मीडिया एवं नागरिक समाज की आजादी पर प्रहार किया, सैकड़ों पत्रकारों, वकीलों और गैर सरकारी कार्यकर्ताओं को जेलों में डाल दिया. रेन कुछ वर्षों पहले तब मुश्किल में पड़ गए थे जब सरकारी मीडिया में आयी खबर में उन पर पार्टी के 'राजनीतिक अनुशासन' का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading