चीनी सेना कर रही उकसाने वाले Tweet, सीमा पर लाउडस्पीकर पर बजा रही पंजाबी गाने

चीनी सेना कर रही उकसाने वाले Tweet, सीमा पर लाउडस्पीकर पर बजा रही पंजाबी गाने
चीनी सेना घटिया ट्वीट के जरिये भारतीय सेना का मनोबल गिराने में लगा हुआ है.

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (Chinese Communist Party) के एक मुखपत्र ने पूरी ताकत लगाकर भारतीय राजनेताओं को 1962 की हार की याद दिलाने वाले ट्वीट कर रहा है. इसके अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत बुरी तरह से डूब गई और उसे उबारने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 2:35 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिक (Chinese Army) एक बार फिर से भारतीय सैनिकों (Indian Army) के खिलाफ अपनी गंदी चालों पर उतर आये हैं. चीन भारतीय सैनिकों को चीनी सेना भारतीय सेना के खिलाफ पैंगोंग त्सो में मनोवैज्ञानिक हथकंडों का इस्तेमाल कर रही है. चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (Chinese Communist Party) के एक मुखपत्र ने पूरी ताकत लगाकर भारतीय राजनेताओं को 1962 की हार की याद दिलाने वाले ट्वीट कर रहा है. इसके अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत बुरी तरह से डूब गई और उसे उबारने की जरूरत है. बिना इस बात का जिक्र किये कि कोरोना का जन्म वहां में हुआ था, मुखपत्र ने भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को रोकने की बात कही.

चीन दोहराता रहा है इतिहास

चीनी सेना के सैन्‍य रणनीतिकार सुन जू ने ईसा पूर्व छठवीं शताब्‍दी में अपनी प्रसिद्द किताब 'आर्ट ऑफ वॉर' में लिखा है कि युद्ध की सर्वोच्च कला दुश्मन से बिना लड़े लड़ना और जितना है. उन्‍हीं की नीतियों पर अमल करते हुए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) और कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र लद्दाख और भारत में तैनात भारतीय सैनिकों के खिलाफ आज भी मनोवैज्ञानिक युद्ध कर रहे हैंत्र



33 साल बाद सबसे ज्‍यादा अलर्ट पर चीनी सेना
हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक 29-30 अगस्‍त को पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर भारतीय सेना के रेजांग ला और रेचिन ला में चीनी सेना को करारी हार देने के बाद चीनी सेना सबसे पहले टैंक और सैन्‍य वाहन लेकर आई थी. लेकिन पीएलए से डरने के बजाय भारतीय सेना ने साफ़ कर दिया कि अगर चीनी सेना ने रेड लाइन को पार किया तो वह मुंहतोड़ जवाब देगी.



चीन के सैन्‍य ठिकानों पर बड़े-बडे़ लाउडस्‍पीकर लगे

भारतीय सेना के कमांडरों के उस समय हंसी का ठिकाना नहीं रहा जब चीनी सेना ने पैंगोंग झील के फिंगर 4 पर पंजाबी गाने बजाने शुरू किए. एक तरफ जहाँ पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर पीएलए लाउडस्पीकर पर पंजाबी गाने बजा रहा था, वहीं दूसरी तरफ चुशुल सेक्टर में उनके मोल्डो गैरीसन में लाउडस्पीकर की एक बैटरी रखी गई थी जिससे भारतीय सैनिकों को उनके राजनीतिक नेतृत्व की चालाकियों को समझाने का प्रयास किया जा रहा था साथ ही यह कि भारतीय सेना अपने राजनीतिक आकाओं के हाथों मूर्ख न बने.

भारतीय सेना को नहीं मिल पाता गरम खाना: चीनी सैनिक

चीनी सैनिक हिंदी में भारतीय सैनिकों को यह समझा रही थी कि इतने कड़ाके की ठंड में इतनी ऊंचाई पर उन्हें तैनात किए जाने की भारतीय नेताओं का फैसला निरथर्क है. चीन की रणनीति भारतीय सैनिकों के आत्‍मविश्‍वास को कमजोर करने और और सैनिकों के अंदर असंतोष पैदा करने की रही है. चीनी सेना भारतीय सैनिकों को बता रही है कि वे कभी भी गरम खाना नहीं खा पाते हैं.

ये भी पढ़ें: इजराइल की आपत्ति के बाद भी UAE को F-35 फाइटर प्लेन बेचूंगा: डोनाल्ड ट्रंप 

अंधापन दूर करेगी 'बायोनिक आंखें', अब मनुष्य को लगाने की हो रही है तैयारी

भारतीय सेना के एक पूर्व प्रमुख के अनुसार पीएलए ने 1962 के युद्ध में पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों में और 1967 के नाथू ला झड़प के दौरान लाउडस्पीकर की रणनीति का इस्तेमाल किया था. फिंगर 4 पर पंजाबी गानों को बजते हुए सुन कर भारतीय सैनिक उलझन में पड़ गए. पूर्व सेना प्रमुख ने कहा कि फिंगर 4 फ़ीचर की ऊँची पहाड़ियों पर पंजाब के सैनिकों ने कमान हाथ में ले रखी थी. उनका अर्थ था कि यही सोचकर चीनी सैनिक शायद इसीलिए पंजाबी गीत बजा रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज